BJP शासित राज्य राजस्थान, मध्य प्रदेश के बाद अब गुजरात में भी ‘पद्मावती’ बैन, CM विजय रुपाणी ने किया ऐलान

0

बीजेपी शासित राज्य राजस्थान, मध्य प्रदेश के बाद अब गुजरात में भी संजय लीला भंसाली के निर्देशन में बनी फिल्म ‘पद्मावती’ बैन कर दी गई है। गुजरात के सीएम विजय रुपाणी ने एलान किया है कि इस फिल्म के रिलीज होने पर बैन लगाया जा रहा है।

विजय रूपाणी ने बुधवार(22 नवंबर) को कहा कि, गुजरात सरकार राजपूतों की भावनाओं को ठेस पहुंचाने वाली फिल्म ‘पद्मावती’ को राज्य में रिलीज की अनुमति नहीं दे सकती। हम अपने इतिहास के साथ छेड़छाड़ की इजाजत नहीं दे सकते। हम वाक्य और अभिव्यक्ति की आजादी में विश्वास रखते हैं, मगर हमारी महान संस्कृति के साथ किसी भी तरह का गलत खिलवाड़ बर्दाश्त नहीं किया जाता है।

एबीपी न्यूज़ के मुताबिक, वहीं दूसरी ओर जम्मू एवं कश्मीर में नेशनल कांफ्रेंस के वरिष्ठ नेता और विधायक देवेंद्र राणा ने मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती से राज्य में ‘पद्मावती’ की रिलीज पर प्रतिबंध लगाने का अनुरोध किया है।

बता दें कि हाल ही में विवादों के चलते ‘पद्मावती’ के निर्माताओं ने फिल्म की रिलीज की तारीख टाल दिया था, जिसके बाद सोमवार को तीन मुख्यमंत्री इस विवाद में कूद पड़े हैं। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राज्य में फिल्म की रिलीज पर बैन लगा दिया।

जबकि पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने राजपूत समुदाय की आपत्तियों का समर्थन किया है। वहीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इस विवाद को ‘दुर्भाग्यपूर्ण’ करार दिया और इसे अभिव्यक्ति की आजादी को धवस्त करने की एक ‘सोची समझी योजना’ बताया है।

बता दें कि, बुधवार (22 नवंबर) को बिहार से बीजेपी सांसद व मशहूर बॉलीवुड अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा ने ट्वीट कर फिल्म ‘पद्मावती’ के विवाद पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बॉलिवुड के महानायक अमिताभ बच्चन की चुप्पी पर सवाल उठाया था।

उन्होने ट्वीट कर लिखा कि, पद्मावती एक ज्वलंत मुद्दा बन गया है, लोग पूछ रहे हैं कि महान अभिनेता अमिताभ बच्चन, सबसे बहुमुखी अभिनेता आमिर खान और सबसे लोकप्रिय अभिनेता शाहरुख खान की इस पर कोई टिप्पणी क्यों नहीं आई है। और हमारे सूचना प्रसारण मंत्री और हमारे सबसे लोकप्रिय माननीय प्रधानमंत्री (पीईडब्ल्यू के अनुसार-अमेरिकन थिंक टैंक पीईडब्ल्यू पोल) इस पर चुप्पी क्यों साधे हुए हैं।

बता दें कि, फिल्म ‘पद्मावती’ के विषय के कारण कुछ समूह इसका विरोध कर रहे हैं। खासकर राजपूत मुख्य रूप से दावा कर रहे हैं कि फिल्म इतिहास को बिगाड़ रही है और रानी पद्मावती का गलत चित्रण कर रही है। बीजेपी और कुछ दूसरे संगठनों ने भी भंसाली की इस फिल्म का विरोध किया है। करणी सेना का आरोप है कि फिल्म में दिल्ली के सुल्तान अलाउद्दीन खिलजी और रानी पद्मावती के बीच रोमांस को दिखाया गया है, जो इतिहास के साथ छेड़छाड़ है।

इतनी ही नहीं कुछ संगठनों ने संजय लीला भंसाली का गला काटने और दीपिका पादुकोण की नाक काटने की धमकी दे चुके है। इसी बीच अभी हाल ही में हरियाणा के एक भाजपा नेता ने भंसाली और दीपिका पादुकोण का सिर धड़ से अलग करने वाले को 10 करोड़ रुपये का ईनाम देने की घोषणा की थी।

वहीं दूसरी ओर ‘पद्मावती’ को लेकर हरियाणा में बीजेपी नेता के द्वारा मिली मौत की धमकी के बाद अभिनेत्री दीपिका पादुकोण ने हैदराबाद में आयोजित हो रहे ग्लोबल एंटरप्रेन्योरशिप समिट (GES) से अपना नाम वापस ले लिया है। बता दें कि, यह सम्मेलन 28 से 30 नवंबर तक आयोजित होना है और इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप शामिल होंगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here