सेंसर बोर्ड की परमिशन के बिना ही पत्रकारों को ‘पद्मावती’ दिखाने पर नाराज हुए प्रसून जोशी, कहा- यह नियमों का उल्‍लंघन है

0

सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन (CBFC), जिसे सेंसर बोर्ड भी कहा जाता है, ने संजय लीला भंसाली की द्वारा निर्देशित फिल्म “पद्मावती” को वापस कर दिया था क्योंकि प्रमाणन के लिए आवेदन “अपूर्ण” माना गया था। जिसका मतलब था कि फिल्म 1 दिसंबर को रिलीज नहीं हो सकती है जो इसकी वास्तविक रिलीज डेट थी।

प्रसून जोशी

लेकिन फिल्म पर हो रहे विवाद थमने का नाम नहीं ले रहे। फिल्म को बिना सेंसर बोर्ड द्वारा पास किए हुए बिना ही पत्रकारों का दिखा दी गई जिसके बाद सेंसर बोर्ड प्रमुख प्रसून जोशी भड़क उठे।

जोशी ने कहा कि बोर्ड को फिल्म दिखाए जाने या सर्टिफिकेशन पाए बिना मीडिया के लिए स्क्रीनिंग रखना या नेशनल चैनल्स पर उसका रिव्यू देना निराशानजक है। जोशी ने इसपर कड़ी आपत्ति जताई है। उनका कहना है कि फिल्‍ममेकर्स की ओर से ऐसा करना बिल्‍कुल सही नहीं है।

समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में उन्होंने कहा, “यह निराशाजनक है कि बोर्ड के फिल्म देखने और प्रमाण पत्र जारी करने से पहले मीडिया के लिए फिल्म की स्क्रीनिंग रखी गई और राष्ट्रीय चैनलों पर इसकी समीक्षा की जा रही है. ‘पद्मावती’ के मेकर्स एक तरफ सेंसर बोर्ड पर प्रमाणन प्रक्रिया में तेजी लाने का दबाव डाल रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ इस पूरी प्रक्रिया को ही कमतर आंककर एक अवसरवादी उदाहरण पेश कर रहे हैं।”

सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन (सेंसर बोर्ड) ने तकनीकी कारणों से फिल्म को वापस फिल्ममेकर्स को लौटा दिया है क्योंकि प्रमाणन के लिए किया गया आवेदन अधूरा था। इसके अलावा सेंसर बोर्ड के मुताबिक, इस फिल्म ने कई राजपूत और हिंदुत्व समूहों के विरोध प्रदर्शन शुरू करा दिए हैं, इस मुद्दे को सुलझाने के बाद फिल्म बोर्ड को वापस भेजे जाने के बाद ही तय मानकों के अनुसार समीक्षा की जाएगी।

केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (CBFC) के सूत्रों ने बताया कि प्रमाण पत्र के लिए फिल्म पिछले हफ्ते जमा की गई थी। हमने दस्तावेज की जांच की। हमने निर्माताओं को बताया कि उनका आवेदन अधूरा है।  हमने उनसे इसे पूरा कर फिर से भेजने को कहा है। सूत्रों ने कहा कि अब जब यह फिल्म दोबारा सेंसर बोर्ड के पास आएगी तब फिर से नियमों के अनुसार समीक्षा की जाएगी। हालांकि उन्होंने आवेदन में कमियों के बारे में विस्तार से बताने से इनकार कर दिया।

बता दें कि अखिल भारतीय क्षत्रिय युवा महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ठाकुर अभिषेक सोम ने संजय लीला भंसाली और दीपिका की गर्दन काटने वाले को 5 करोड़ रुपये का इनाम देने का ऐलान किया था। इससे पहले, राजपूत करणी सेना के संरक्षक लोकेंद्र नाथ कालवी ने गुरुवार को कहा था कि अगर फिल्म रिलीज़ हुई तो दीपिका पादुकोण की नाक काट ली जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here