‘पद्मावती’ के विरोध में उतरा विश्व हिंदू परिषद, कहा- जला देने चाहिए फिल्म के सारे प्रिंट

0

फिल्म निर्माता संजय लीला भंसाली की आगामी फिल्म ‘पद्मावती’ 1 दिसंबर को सिनेमाघरों में रिलीज होने वाली है, लेकिन फिल्म को लेकर विवाद जारी है। इसी बीच विश्व हिंदू परिषद के नेता आचार्य धर्मेन्द्र ने फिल्म पद्मावती में इतिहास के साथ की गई कथित छेड़छाड़ पर तीव्र रोष व्यक्त करते हुए कहा कि फिल्म पद्मावती के सारे प्रिंट जला दिए जाने चाहिए और फिल्म निर्माता निर्देशक संजय लीला भंसाली पर मुकदमा चलाना चाहिए।

पद्मावती

न्यूज़ एजेंसी भाषा की ख़बर के मुताबिक, आचार्य धर्मेन्द्र ने आज संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि फिल्म पद्मावती में जिस तरह के दृश्य दिखा कर हमारी महारानी पद्मावती के चरित्र का हनन किया जा रहा है, वह निदंनीय है। उन्होंने कहा, यह देशद्रोही और हिन्दू विरोधी है।

आचार्य धर्मेन्द्र ने कहा, फिल्म पद्मावती अभी रिलीज नहीं हुई है लेकिन फिल्म के मौजूदा ट्रेलर में महारानी को नाचते हुए दिखाया जा रहा है। हमारी महारानी पद्मावती तो कभी इस तरह से नहीं नाची थीं। उन्होंने कहा कि जानबूझकर इतिहास के साथ खिलवाड़ करने के लिए फिल्म निर्माता संजय लीला भंसाली के खिलाफ मुकदमा चलाया जाना चाहिए।

अखिल भारतीय क्षेत्रीय महासभा के अध्यक्ष राधेश्याम सिंह तंवर ने कहा कि महासभा फिल्म पद्मावती के प्रदर्शन पर रोक लगाने की मांग को लेकर 19 नवंबर को दिल्ली के ताल कटोरा स्टेडियम में प्रदर्शन करेगी। साथ ही तंवर ने कहा कि देशभर में फिल्म के प्रदर्शन पर रोक लगाने को लेकर हो रहे प्रदर्शनों के बावजूद सरकार ने अभी तक कोई कदम नहीं उठाया है।

Also Read:  आखिर क्यों एक्ट्रेस ने अरनब गोस्वामी को 'शट अप' कहते हुए बीच में छोड़ा शो

राजस्थान विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामेर डूडी ने भी फिल्म पर जताई नाराजगी

भाषा की ख़बर के मुताबिक, राजस्थान विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामेर डूडी ने भी फिल्म पद्मावती में इतिहास के तथ्यों को कथित रूप से तोड़-मरोड़ कर दिखाये जाने पर गहरी नाराजगी जताते हुए कहा कि फिल्म पर रोक लगनी चाहिए।

यह एक समुदाय विशेष का नहीं बल्कि पूरे समाज का मामला है। रामेर डूडी ने कहा कि लोगों की भावनाओं को देखते हुए सरकार को तुरंत फिल्म पद्मावती की रिलीज पर रोक लगानी चाहिए।

बीजेपी नेता अनिल विज ने संजय लीला भंसाली पर लगाए आरोप

अक्सर अपने बयानों को लेकर विवादों में रहने वाले बीजेपी के दिग्गज नेता व हरियाणा सरकार के खेल और स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने संजय लीला भंसाली की फिल्म रानी पद्मावती पर इतिहास के साथ छेड़छाड़ करने और सती प्रथा से संबंधित कानूनों के उल्लंघन का आरोप लगाते हुए कहा कि सेंसर बोर्ड को जनता की भावनाओं का ध्यान रखते हुए इसकी रिलीज रोक देनी चाहिए।

Also Read:  जानिए क्या है 'पंजाब पुलिस अधिकारी' हरलीन मान के वायरल फोटो के पीछे की सच्चाई?

फिल्म के विषय के कारण कुछ समूह इसका विरोध कर रहे हैं। खासकर राजपूत मुख्य रूप से दावा कर रहे हैं कि फिल्म इतिहास को बिगाड़ रही है और रानी पद्मावती का गलत चित्रण कर रही है, जबकि भंसाली ने इससे इनकार किया है। वहीं केंद्रीय गृहमंत्री में केंद्रीय बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन (सीबीएफसी) सलाहकार समिति के सदस्य और भाजपा नेता अर्जुन गुप्ता ने कहा है कि भंसाली को देशद्रोह के लिए दंडित किया जाना चाहिए।

कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने फिल्म को लेकर कहीं यह बात

वहीं दूसरी ओर आलोचना करने वाले लोगों पर निशाना साधते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने सोमवार(14 नवंबर) को कहा कि फिल्म पर विवाद राजस्थानी महिलाओं की स्थिति पर ध्यान देने का एक मौका है और शिक्षा ‘घूंघट’ या सिर पर पर्दे से ज्यादा महत्वपूर्ण है।

कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने ट्वीट कर कहा कि, ‘पद्मावती’ विवाद आज राजस्थानी महिलाओं की स्थिति पर ध्यान केंद्रित करने का एक मौका है, न कि छह शताब्दी पुरानी महारानियों पर ध्यान केंद्रित करने का राजस्थान की महिला साक्षरता दर सबसे कम है, शिक्षा ‘घूंघट’ से ज्यादा जरूरी है।

Also Read:  BSF का ऐलान- पाकिस्तानी फौज को नहीं बांटेंगे दिवाली की मिठाई

सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की याचिका

बता दें कि इस फिल्म को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर फिल्म के रिलीज पर रोक लगाने का अनुरोध किया गया था। इस याचिका की सुनवाई करते हुए कोर्ट ने इसे खारिज कर दिया था।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि इस फिल्म को सेंसर बोर्ड ने अब तक सर्टिफिकेट नहीं दिया है। फिलहाल इस फिल्म को लेकर सेंसर बोर्ड फैसला करेगी, सेंसर बोर्ड के फैसले के बाद ही सुप्रीम कोर्ट इसपर कोई फैसला लेगी।

इस तारिख को फिल्म हो रहीं है रिलीज

बता दें कि इस फिल्म में दीपिका पादुकोण रानी ‘पद्मावती’ का रोल निभा रही हैं। उनके अलावा फिल्म में रणवीर सिंह और शाहिद कपूर भी मुख्य भूमिका में हैं। ‘पद्मावती’ फिल्म एक दिसंबर को सिनेमाघरों में रिलीज हो रही है, लेकिन फिल्म को लेकर विवाद जारी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here