जुनैद हत्याकांड: PM मोदी ने तोड़ी चुप्पी, कहा- गो भक्ति के नाम पर लोगों को मारना ठीक नहीं

0

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार(29 जून) से दो दिनों के गुजरात दौरे पर हैं। इस कड़ी में वह सबसे पहले वो अहमदाबाद के साबरमती आश्रम पहुंचे। जहां आश्रम के 100 साल पूरा होने के समारोह में हिस्सा लिया। साथ ही प्रधानमंत्री ने आश्रम में चरखा चलाया।इस अवसर पर बोलते हुए उन्‍होंने कहा कि मैं लोगों से यहां आने की अपील करता हूं। संयुक्‍त राष्‍ट्र को साबरमती आश्रम से सीख लेनी चाहिए। पीएम मोदी को यहां डाक टिकट और सिक्का जारी करना है। इसके बाद शाम चार बजे पीएम पटेल समाज के गढ़ राजकोट जाएंगे, जहां उन्हें आजी डैम का उद्घाटन करना है। इसके बाद यहां पीएम के कई कार्यक्रम भी होने हैं।

इस दौरान पीएम मोदी ने जुनैद हत्याकांड और देश भर में भीड़ के द्वारा धर्म के नाम पर हो रही हिंसा को लेकर बड़ा बयान दिया। साथ ही पीएम मोदी ने कहा कि मैं देश के वर्तमान माहौल की ओर अपनी पीड़ा व्यक्त करना चाहता हूं और अपनी नाराजगी भी व्यक्त करता हूं। गाय पर बोलते हुए पीएम मोदी भावुक हो गए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि गोरक्षा के नाम पर लोगों की हत्या स्वीकार नहीं है। उनकी टिप्पणी कथित गोरक्षकों द्वारा किए गए हालिया हमलों और विरोध प्रदर्शनों की पृष्ठभूमि में आई है। महात्मा गांधी के गुरू श्रीमद राजचंद्रजी की 150वीं जयंती के मौके पर मोदी ने गुजरात के साबरमती आश्रम में संबोधन के दौरान यह बात कही।

मोदी ने कहा कि दूसरों के खिलाफ हिंसा करना राष्ट्रपिता के आदर्शो के विरूद्ध है। उन्होंने कहा कि गौ भक्ति के नाम पर लोगों की हत्या स्वीकार नहीं है। इसे महात्मा गांधी कभी स्वीकार नहीं करते। प्रधानमंत्री ने कहा, चलिए सभी मिलकर काम करें। महात्मा गांधी के सपनों का भारत बनाते हैं।

मोदी ने कहा कि एक ऐसा भारत बनाते हैं जिस पर हमारे स्वतंत्रता सेनानियों को गर्व हो। उन्होंने कहा, देश में किसी को भी कानून अपने हाथ में लेने का अधिकार नहीं है। प्रधानमंत्री का यह बयान गोरक्षा के नाम पर हिंसा की बढ़ती घटनाओं की पृष्ठभूमि में आया है।

पिछले दिनों मथुरा जा रही एक ट्रेन में एक मुस्लिम युवक की कुछ लोगों ने हत्या कर दी थी। हमला करने वालों ने युवक और उसके साथ के लोगों पर फब्तियां कसी तथा उनको गोमांस खाने वाले और देशद्रोही कहा। मोदी ने कहा कि हिंसा से कभी किसी समस्या का समाधान नहीं हुआ और न होगा। एक समाज के तौर पर हमारे यहां हिंसा के लिए कोई स्थान नहीं है।

बता दें कि दिल्ली से मथुरा जा रही ईएमयू ट्रेन में मामूली विवाद के बाद 22 जून को मारे गए हरियाणा के बल्लभगढ़ निवासी मुसलमान युवक जुनैद खान की हत्या के बाद से मुस्लिम समुदाय सहित हर धर्म के लोग गुस्से में हैं। भीड़ द्वारा लगातार हमले और हत्याओं को लेकर हर कोई अपने-अपने तरीके से विरोध दर्ज करा रहा है। भीड़ द्वारा लोगों की पीट-पीटकर हत्या किए जाने के विरोध में बुधवार(28 जून) को देश के कई स्थानों पर ‘नॉट इन माई नेम’ नाम से प्रदर्शन हुए थे, जिनमें हजारों लोग शामिल हुए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here