VIDEO: ‘पद्मावती’ विवाद पर CM योगी ने कहा, ‘धमकी देने वाले दोषी हैं तो संजय लीला भी कम नहीं’

0

करणी सेना समेत कई संगठन द्वारा विरोध प्रदर्शन के बाद संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावती’ की रिलीज डेट भले ही टल गई है। लोकिन, इस फिल्म को लेकर चल रहा विवाद खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहा है। इसी बीच, विवादों में घिरी फिल्म ‘पद्मावती’ को लेकर जारी विवाद पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि विवाद के लिए संजय लीला भंसाली भी जिम्मेदार हैं। जनभावनाओं से खिलवाड़ का अधिकार किसी को नहीं है।

PHOTO- NBT

अंग्रेजी समाचार चैनल टाइम्स नाउ से बात करते हुए सीएम योगी ने कहा कि फिल्म को लेकर हो रहे प्रदर्शनों और धमकियों के लिए संजय लीला भंसाली भी समान रूप से जिम्मेदार हैं, जो जनभावनाओं से खिलवाड़ करने के आदी बन चुके हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि इस मसले पर उपद्रवी प्रदर्शनकारियों और फिल्म निर्माताओं के खिलाफ भी कार्रवाई की जानी चाहिए।

फिल्म के डायरेक्टर संजय लीला भंसाली और फिल्म ‘पद्मावती’ में रानी पद्मावती की भूमिका निभाने वाली अभिनेत्री दीपिका पादुकोण को मिली धमकियों की बात पर सीएम योगी ने कहा कि ‘कानून को हाथ में लेने का अधिकार किसी को नहीं है। चाहे वह संजय लीला भंसाली हों या कोई और मुझे लगता है कि धमकी देने वाले दोषी हैं तो भंसाली भी कम दोषी नहीं हैं।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि योगी ने कहा कि सभी को ऐसे बयानों से परहेज करना चाहिए। एक-दूसरे का सम्मान करना चाहिए। यदि सभी ऐसी भावना रखेंगे तो समाज में सौहार्द स्थापित होगा। बता दें कि, सीएम योगी का ये बयान उस वक्त आया है जब फिल्म के निर्माता संजय लीला भंसाली का सिर काटने की लगातार धमकियां दी जा रही हैं।

आप भी सुनिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का यह बयान

वहीं फिल्म की रिलीज को लेकर उन्होंने कहा कि हमने इस मसले पर पहले ही अपना स्टैंड साफ कर दिया है। हमने सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय को इस संबंध में पत्र लिखा है। इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट ने भी साफ किया है कि सेंसर बोर्ड को इस फिल्म को लेकर फैसला लेना चाहिए।

बता दें कि, फिल्ममेकर द्वारा ‘पद्मावती’ की रिलीज स्थगित किए जाने के बाद सोमवार को तीन राज्यों को मुख्यमंत्री भी इस विवाद का हिस्सा बन गए। जहां मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राज्य में फिल्म की रिलीज पर प्रतिबंध लगा दिया, वहीं पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने राजपूत समुदाय की आपत्तियों का समर्थन किया।

वहीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इस विवाद को ‘दुर्भाग्यपूर्ण’ करार दिया और इसे अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को धवस्त करने की एक ‘सोची समझी योजना’ बताया।

बता दें कि, फिल्म के विषय के कारण कुछ समूह इसका विरोध कर रहे हैं। खासकर राजपूत मुख्य रूप से दावा कर रहे हैं कि फिल्म इतिहास को बिगाड़ रही है और रानी पद्मावती का गलत चित्रण कर रही है। बीजेपी और कुछ दूसरे संगठनों ने भी भंसाली की इस फिल्म का विरोध किया है।

इतनी ही नहीं कुछ संगठनों ने संजय लीला भंसाली का गला काटने और दीपिका पादुकोण की नाक काटने की धमकी दे चुके है। इसी बीच अभी हाल ही में हरियाणा के एक भाजपा नेता ने भंसाली और दीपिका पादुकोण का सिर धड़ से अलग करने वाले को 10 करोड़ रुपये का ईनाम देने की घोषणा की थी।

वहीं दूसरी ओर ‘पद्मावती’ को लेकर हरियाणा में बीजेपी नेता के द्वारा मिली मौत की धमकी के बाद अभिनेत्री दीपिका पादुकोण ने हैदराबाद में आयोजित हो रहे ग्लोबल एंटरप्रेन्योरशिप समिट (GES) से अपना नाम वापस ले लिया है। बता दें कि, यह सम्मेलन 28 से 30 नवंबर तक आयोजित होना है और इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप शामिल होंगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here