अमेरिकी रेस्टोरेंट में भारतीय छात्र की गोली मारकर हत्या, पुलिस ने संदिग्ध का वीडियो जारी कर रखा इनाम

0

अमेरिका में भारतीयों पर हमले लगातार बढ़ते ही जा रहे है यह सिलसिला थमने का नाम ही नही ले रहा है, जिसका ताजा मामला एक बार फिर से देखने को मिला है।

file photo- Facebook/Sharath Koppu

अमेरिका के मिजोरी राज्य के कंसास सिटी के एक रेस्टोरेंट में वहां काम करने वाले 25 वर्षीय एक भारतीय छात्र की पीठ में गोली लगने से मौत हो गयी। ऐसा संदेह है कि यह घटना लूटपाट के प्रयास के दौरान हुई।

Follow us on Google News

समाचार एजेंसी भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक, अधिकारियों ने बताया कि कंसास सिटी पुलिस ने युवक की पहचान मिजोरी-कंसास सिटी विश्वविद्यालय के छात्र शरत कोप्पू के रूप में की है। उसे जे’स फिश ऐंड चिकन मार्केट में शुक्रवार शाम को गोली मारी गयी जहां वह अंशकालिक कर्मचारी के रूप में काम करता था। अस्पताल ले जाने के कुछ ही देर बाद उसकी मौत हो गयी। कोप्पू तेलंगाना का रहने वाला था और सॉफ्टवेयर इंजीनियर था, वह स्नातकोत्तर की डिग्री लेने जनवरी में अमेरिका आया था।

शिकागो में भारत के महावाणिज्य दूतावास की ओर से कल ट्वीट किया गया, ‘मिसौरी के कंसास सिटी में एक भारतीय छात्र गोलीबारी का शिकार हो गया। हम उसके परिवार वालों और पुलिस के संपर्क में हैं। हम हर सभंव सहायता मुहैया कराएंगे। हमारे अधिकारी भी कंसास सिटी की ओर रवाना हो गये हैं।’

इस मामले में कंसास पुलिस ने गोली चलाने वाले संदिग्ध का वीडियो जारी किया है और इस शख्स की सूचना देने वाले व्यक्ति को 10 हजार डॉलर (करीब 7 लाख रुपये) इनाम की घोषणा की है।

एबीपी न्यूज़ की रिपोर्ट के मुताबिक, शरत कोप्पू के कजिन भाई संदीप वेमुलाकोंडा ने कहा, ‘मेरा भाई शरत कोप्पू अमेरिका में बड़ी उम्मीदों और बड़े सपनों के साथ पढ़ाई कर रहा था। वह वारंगल का रहने वाला है और जनवरी 2018 में कई सपने लेकर अमेरिका गया। कल रात अचानक किसी अनजान शख्स ने उसे गोली मार दी, वो अब इस दुनिया में नहीं है, यह हमारे लिए बहुत दुखद घटना है।’

उन्होंने कहा, ‘पिछली रात को कैनसस सिटी के एक रेस्टोरेंट में था, रात करीब आठ बजे कुछ अनजान लोग आए और गोली चलाना शुरू कर दिया। दुर्भाग्य से शरत को भी गोली लगी और वो जख्मी हो गया, उसे अस्पताल ले जाया गया जहां उसकी मौत हो गयी।’

संदीप वेमुलाकोंडा ने कहा कि हम विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से रिक्वेस्ट करते हैं कि वो इस मुद्दे को उठाएं और दोषी को गिरफ्तार किया जाए। इसके साथ ही हम अमेरिका में भारतीय दूतावास से भी निवेदन करते हैं कि शरत का पार्थिव शरीर हैदराबाद में मदद करें जिससे हम उनका अंतिम संस्कार कर सकें।

आपको बता दें कि इससे पहले अमेरिका के कंसास राज्य में भारतीय मूल के डॉक्टर अच्युता रेड्डी की चाकूओं से गोदकर हत्या कर दी गई। 57 साल के डॉक्टर अच्युता रेड्डी तेलंगाना के रहने वाले थे और वह अमेरिका के केंसास में एक जाने-माने साइकेट्रिस्ट(मनोरोग चिकित्सक) थे। अमेरिकी पुलिस ने इस मामले में एक 21 साल के युवक को गिरफ्तार किया था। संदिग्ध का नाम उमर राशिद है, जो डॉ. रेड्डी का ही मरीज था।

इससे पहले 22 फरवरी को कांसास में 32 वर्षीय भारतीय इंजीनियर श्रीनिवास कुचिभोटला की हत्‍या करते समय हत्‍यारा चिल्‍ला रहा था गेट आउट ऑफ माय कंट्री। भारतीय इंजीनियर पर हमले के समय बचाव करने आए एक अन्‍य भारतीय आलोक मादासानी और एक अमेरिकी व्‍यक्ति इयान ग्रलियट भी घायल हो गई थे। इस हमल के बाद हत्‍यारे एडम पुर्रिंटन को हत्‍या के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here