गुजरात के हीरा कारोबारी समूह पर आयकर विभाग की छापेमारी, बेहिसाब खरीद-बिक्री का खुलासा; कई करोड़ रूपयों की कर चोरी का दावा

0

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने शनिवार को कहा कि आयकर विभाग ने गुजरात के एक प्रमुख हीरा निर्माता और निर्यातक के यहां छापेमारी कर करोड़ों रुपये की कर चोरी का पता लगाया है। इस दौरान बड़ी मात्रा में बेहिसाब डेटा जब्त किया गया है। समूह के परिसर पर यह छापेमारी 22 एवं 23 सितंबर को शुरू की गई। इस समूह का महाराष्ट्र के मुंबई और गुजरात के सूरत, नवसारी, मोरबी और वांकानेर (मोरबी) में टाइल उत्पादन का व्यवसाय भी है। छापेमारी की कार्रवाई अब भी चल रही है।

सीबीडीटी ने दावा किया, ‘‘आंकड़ों के प्राथमिक विश्लेषण से पता चलता है कि समूह ने 518 करोड़ रूपये के छोटे और पॉलिश वाले हीरों की खरीद एवं बिक्री बिना हिसाब-किताब के की।’’ कर चोरी के बारे में खुफिया जानकारी के आधार पर 22 सितंबर को छापेमारी की गई थी।

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने एक बयान में दावा किया, “आंकड़ों से पता चलता है कि निर्धारिती ने अपनी विनिर्माण गतिविधियों से उत्पन्न नकद में ₹95 करोड़ से अधिक का हीरा स्क्रैप बेचा है, जो बेहिसाब है और इसकी आय का प्रतिनिधित्व करता है।”

बयान में कहा गया है कि छापेमारी के दौरान 1.95 करोड़ रूपये की नकदी एवं गहने बरामद किए गए, 8900 कैरेट के हीरों का भंडार भी बरामद किया जिसकी कीमत 10.98 करोड़ रूपये है। इन बरामद वस्तुओं का कोई लेखा जोखा नहीं है।

इसमें बताया गया, ‘‘बड़ी संख्या में समूह के लॉकरों को भी चिह्नित किया गया है।’’ वक्तव्य के अनुसार आंकड़ों से पता चला है कि पिछले दो साल में इस कंपनी के माध्यम से 189 करोड़ रूपये की खरीद और 1040 करोड़ रूपये की बिक्री की गई।’’

सीबीडीटी ने कहा कि टाइल्स के कारोबार से संबंधित शेयरों की बिक्री के लेन-देन की जांच की गई, जिससे 81 करोड़ रुपये की बेहिसाब आय का पता चला। (इंपुट: भाषा के साथ)

Previous articleराजस्थानः जयपुर में भीषण सड़क हादसा, REET परीक्षा देने जा रहे 6 परीक्षार्थियों की मौत, सीएम अशोक गहलोत ने जताया दुख
Next articleकंगना रनौत ने नवाजुद्दीन सिद्दीकी को बताया ‘दुनिया का बेस्ट एक्टर’, एमी अवॉर्ड्स के लिए नॉमिनेशन होने पर अभिनेता को दी बधाई