राष्ट्रीय शिक्षा दिवस पर भारत की शिक्षा व्यवस्था को लेकर इमरान हाशमी ने ट्वीट किया वीडियो, मानव संसाधन मंत्रालय कर सकता है पलटवार

0

देश भर में आज यानी 11 नवंबर को पूरे उत्साह के साथ राष्ट्रीय शिक्षा दिवस मनाया जा रहा है। आपको बता दें कि भारत के प्रथम शिक्षामंत्री एवं स्वतंत्रता सेनानी मौलाना अब्दुल कलाम आजाद की जयंती के मौके पर हर साल 11 नवंबर को राष्ट्रीय शिक्षा दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस मौके पर बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता इमरान हाशमी ने अपनी आने वाली फिल्म ‘चीट इंडिया’ का एक छोटा सा वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किया है। वीडियो शेयर करते हुए इमरान ने लिखा, देश की शिक्षा प्रणाली उसकी रीढ़ होती है। ‘चीट इंडिया’ की टीम राष्ट्रीय शिक्षा दिवस मना रही है।

फाइल फोटो: इमरान हाशमी

कहा जा रहा है कि फिल्म ‘चीट इंडिया’ मध्य प्रदेश के बहुचर्चित व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापमं) की परीक्षाओं में हुई धांधली सहित भारत की शिक्षा व्यवस्था पर आधारित होगी। फिलहाल, इस फिल्म में कितनी सच्चाई दिखाई जाएगी यह तो फिल्म के आने के बाद ही पता चल पाएंगा। हालांकि, इस फिल्म को लेकर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) सवाल उठा सकती है। अब देखना यह होगा कि इमरान हाशमी की फिल्म ‘चीट इंडिया’ पर देश के शिक्षा मंत्री प्रकाश जावेडकर किया प्रतिक्रिया देते है।

बताया जा रहा है कि फिल्म ‘चीट इंडिया’ सच्ची घटानाओं से भरी पड़ी होगी। यह फिल्म देश में हुए हाल ही के सबसे बड़े और चर्चित घोटालों में से एक मध्यप्रदेश के व्यापमं (मध्य प्रदेश प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड) घोटाला सहित भारत की शिक्षा व्यवस्था पर आधारित होगी। फिलहाल, इस फिल्म में कितनी सच्चाई दिखाई जाएगी यह तो फिल्म के आने के बाद ही पता चल पाएंगा। यह फिल्म अगले साल 25 जनवरी 2019 को रिलीज होगी। ‘चीट इंडिया’ में इमरान के साथ अभिनेत्री श्रेया धन्वंतरि महत्वपूर्ण भूमिका में हैं। इस फिल्म का निर्देशन सौमिक सेन कर रहे हैं।

बता दें कि अभी हाल ही में उत्तर प्रदेश के अतरौली गांव तेवथू में बीजेपी नेता व स्कूल प्रबंधक के घर में प्रशासन की टीम ने एसडीएम और सीओ के नेतृत्व में छापा मारकर 62 लोगों को इंटरमीडिएट यूपी बोर्ड परीक्षा की कॉपी लिखते हुए रंगे हाथों पकड़ा था। यहां से करीब सौ और मुहर लगी हुई कॉपियां भी बरामद हुई हैं।

गौरतलब है कि बिहार में फर्जी तरीके से इंटरमीडिएट की परीक्षा में कला विषय में अव्वल आने वालीं रूबी राय को आज हर कोई जानता है। बता दें कि रूबी उस समय मीडिया की सुर्खियों में आई थी जब उसने परीक्षा परिणाम के बाद सवालों के जवाब में राजनीतिक विज्ञान (पॉलिटिकल साइंस) को ‘प्रोडिकल साइंस’ कहा था और कहा था कि इस विषय में खाना बनाना सिखाया जाता है।

उसके जवाबों के बाद के घटनाक्रम में बिहार स्कूल परीक्षा बोर्ड (बीएसईबी) में चलने वाले एक रैकेट का पर्दाफाश हुआ था। बारहवीं की परीक्षा में कला संकाय में रूबी और विज्ञान में सौरभ कुमार ने प्रदेश में टॉप किया था। पुन: परीक्षा में उनका प्रदर्शन खराब होने के बाद दोनों के परीक्षा परिणामों को निरस्त कर दिया गया था। इस रैकेट में शामिल होने के मामले में बीएसईबी के तत्कालीन अध्यक्ष लालकेश्वर प्रसाद सिंह, उनकी पत्नी और पूर्व जदयू विधायक उषा सिन्हा एवं बोर्ड के अन्य अधिकारियों को गिरफ्तार किया गया।

वहीं, व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापमं) घोटाले का खुलासा होने के बाद बड़ी संख्या में पीएमटी में गड़बड़ियां सामने आई थीं। इस मामले की एसटीएफ (विशेष कार्य बल), एसआईटी (विशेष जांच दल) की जांच के बाद वर्तमान में सीबीआई (केंद्रीय जांच दल) जांच चल रही है। इस घोटाले में मध्य प्रदेश के कई बड़े नेताओं का नाम सामने आया था, यहां तक कि एमपी के राज्यपाल रहे रामनरेश यादव का भी नाम आया था।

इस मामले में अब तक करीब 40 से ज्यादा लोगों की संदिग्ध हालत में मौत हो चुकी है। घोटाले में घिरे गांधी मेडिकल कॉलेज के 47 छात्रों को बर्खास्त कर दिया गया था। इन सभी छात्रों पर 2008 से 2012 के बीच पीएमटी के जरिये गड़बड़ी कर दाखिला लेने का आरोप है।

मध्य प्रदेश में सरकारी पदों सहित चिकित्सा और तकनीकी शिक्षा पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए मध्यप्रदेश व्यवसायिक परीक्षा मंडल द्वारा परीक्षा ली जाती है। इस मंडल को इसके लघु हिन्दी नाम व्यापमं से जाना जाता है। व्यापमं में बहुचर्चित प्रवेश घोटाला होने के बाद इसका नाम बदलकर अब एमपी प्रोफेशनल एक्जामिशन बोर्ड कर दिया गया है।

Previous articleFormer BJP minister and mining baron G Janardhan Reddy arrested with aide Ali Khan in bribery case
Next articleGovinda alleges conspiracy against him after Thugs of Hindostan’s release