विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के संसदीय क्षेत्र में स्वास्थ्य सेवा का हाल बेहाल

0

भारत भले ही हेल्थ टूरिज्म का सेंटर बनता जा रहा हो और स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर पूरी दुनिया में चर्चा पा रहा हो। लेकिन सच यही है कि हमारे यहां स्वास्थ्य सेवाओं की भारी कमीं है, जिसे दूर किए बिना हम अन्य देशों से मुकाबला करने के बारे में सोच भी नहीं सकते हैं। भारत के अलग-अगल राज्यों से हर रोज कोई न कोई ऐसी तस्वीर सामने आ ही जाती है, जिसे देखकर हमें शर्मसार होना पड़ता है।

सुषमा स्वराज
फाइल फोटो- विदेश मंत्री सुषमा स्वराज

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सभी मंत्रियों में से विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ऐसी मंत्री हैं जो सोशल मीडिया पर सबसे ज्यादा सक्रिय रहती हैं। विदेश मंत्रालय संभालने के बाद सुषमा से जिसने भी मदद मांगी है, उन्होंने फौरन कार्यवाही की है। लेकिन आइए आज हम आपको बताते है विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के संसदीय क्षेत्र मध्य प्रदेश के विदिशा में स्वास्थ्य सेवा का क्या हाल है।

इंडिया न्यूज़ की ख़बर के मुताबिक, विदिशा के कोलुआ धामनोर के स्वास्थ्य केंद्र का क्या हाल है इसका अंदाजा आप इसी ख़बर से लगा सकते है। वहां का स्वास्थ्य केंद्र अब खंडहर बन चुका है, यहां आवारा मवेशियों ने अपना ठिकाना बना लिया है। इस स्वास्थ्य केंद्र में ना तो कोई नर्स है और ना ही कोई डॉक्टर है।

ख़बरों के मुताबिक, ग्रामीणों का कहना है कि महीने में केवल एक बार ही टीकाकरण के लिए डॉक्टर्स आते हैं और बाकी समय यहां सन्नाटा पसरा रहता है। वहीं जिले के दूसरे गांव के स्वास्थ्य केंद्र का हाल भी कुछ ज्यादा अच्छा नहीं है, इमलावता गांव के स्वास्थ्य केंद्र का हाल भी बहुत बुरा है। खुद सीएमएचओ भी इस बात को मानते हैं कि पर्याप्त स्टाफ ना होने के कारण लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं नहीं मिल पा रही हैं।

ख़बरों के मुताबिक, स्वास्थ्य सुविधाओं और सेवाओं के मामले में भारत अन्य कई देशों से काफी पीछे है। स्वास्थ्य सेवाओं के क्षेत्र में 195 देशों की सूची में भारत 154 वें स्थान पर है। देश में बदहाल स्वास्थ्य सेवाओं की इस हालत की पुष्टि एक अध्ययन के परिणामों से हो जाती है।

स्वास्थ्य सेवा के क्षेत्र में भारत, बांग्लादेश, चीन, भूटान और श्रीलंका समेत अपने कई पड़ोसी देशों से पीछे है। हाल ही में मेडिकल जर्नल ‘द लैनसेट’ में प्रकाशित ‘ग्लोबल बर्डेन ऑफ डिजीज स्टडी’ के अनुसार स्वास्थ्य सेवा से जुड़ी 195 देशों की सूची में भारत को 154वें स्थान मिला है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here