#MeToo: बॉलीवुड डायरेक्टर राजकुमार हिरानी पर असिस्टेंट ने लगाया यौन शोषण का गंभीर आरोप, फिल्म ‘संजू’ से जुडा है मामला

0

देश भर में चल रहे ‘मी टू’ अभियान (यौन उत्पीड़न के खिलाफ अभियान) के तहत हर रोज चौंकाने वाले खुलासे हो रहे हैं। अमेरिका से शुरू हुए ‘मीटू’ आंदोलन ने भारत में भी भूचाल मचा दिया है। पिछले साल मी टू के कई मामले सामने आए थे। जिसमें एम. जे. अकबर, मशहूर सिंगर कैलाश खेर, अभिनेता रजत कपूर, फिल्म निर्देशक साजिद खान से लेकर आलोक नाथ जैसे नामी लोगों का नाम सामने आया था।

मी टू अभियान के तहत हर रोज बॉलीवुड सहित अलग-अलग संस्थान में कार्यरत महिलाएं आगे आकर अपनी आपबीती बयां कर रही हैं, जिसका सिलसिला थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। इसी बीच, अब बॉलीवुड डायरेक्टर राजकुमार हिरानी पर एक महिला ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है। महिला ‘संजू’ फिल्म के दौरान हिरानी के साथ काम कर रही थी। हिरानी ने इस आरोप से इंकार किया है। उनके वकील आनंद देसाई ने आरोप को ‘गलत, नुकसान पहुंचाने वाला, अपमानजनक, प्रेरित और मानहानिकारकट’ बताया है।

राजकुमार हिरानी
फाइल फोटो: बॉलीवुड डायरेक्टर राजकुमार हिरानी

हफपोस्ट इंडिया में छपे एक आलेख में महिला ने खुद को ‘सहायिका’ बताया है और आरोप लगाया है कि मार्च से सितंबर 2018 के बीच एक बार से ज्यादा हिरानी ने उसका यौन उत्पीड़न किया। महिला ने तीन नवंबर, 2018 को हिरानी के लंबे समय के सहयोगी और ‘संजू’ के कॉ-प्रोड्यूसर विधु विनोद चोपड़ा को एक मेल लिखकर इस आरोप के बारे में बताया था। महिला का कहना है कि नौ अप्रैल, 2018 को निर्देशक ने पहले उस पर यौनिक टिप्पणी की और बाद में अपने घर के कार्यालय में उसका यौन उत्पीड़न किया।

हफपोस्ट इंडिया में महिला ने नौ अप्रैल को चोपड़ा को भेजे गए मेल के बारे में लिखा है। उसमें कहा गया है, ‘‘ मुझे याद है कि उस दिन मैंने कहा था, ‘सर, यह गलत है। आप के पास सारी शक्तियां है और मैं यहां सिर्फ एक सहायिका हूं।’ महिला ने कहा कि हिरानी उनके लिए पिता जैसे थे। इस ईमेल में चोपड़ा की पत्नी और फिल्म आलोचक अनुपमा, पटकथा लेखक अभिजीत जोशी, फिल्मनिर्माता शैली चोपड़ा का भी नाम है।

फिल्म आलोचक अनुपमा चोपड़ा ने इसकी पुष्टि की है कि महिला ने अपनी स्थिति उनके साथ साझा की थी और विनोद चोपड़ा फिल्म्स (वीसीएफ) ने तब से यौन उत्पीड़न की शिकायतों को निपटने के लिए एक समिति गठित की है। उन्होंने पांच दिसंबर, 2018 को भेजे गए एक ईमेल में कहा, ‘‘हमने वीसीएफ में आईसीसी बनाने की भी पेशकश की। लेकिन वीसीएफ का आईसीसी इस मामले को नहीं उठा सकता है क्योंकि महिला घटना के समय राजकुमार हिरानी फिल्म्स की कर्मचारी थी।’

फिल्म आलोचक ने कहा कि महिला ने उन्हें कहा था कि उसे इन चीजों को आगे ले जाने के बारे में सोचने का समय चाहिए। इस घटनाक्रम के बीच हिरानी का नाम ‘एक लड़की को देखा तो ऐसा लगा’ के नए पोस्टर से हटा लिया गया है। इस फिल्म का निर्देशन शैली चोपड़ा ने किया है। विधु विनोद चोपड़ा ने हालांकि अभी इस पर टिप्पणी नहीं की है।

बता दें कि दस साल पहले साल 2008 में फिल्म ‘हॉर्न ओके प्लीज’ के सेट पर अपने साथ हुए दुर्व्यवहार की घटना को साझा करते हुए तनुश्री ने फिल्म मेकर, अभिनेता नाना पाटेकर और कोरियोग्राफर पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं। नाना पाटेकर पर यौन शोषण का आरोप लगाने के बाद अकेली पड़ीं तनुश्री दत्ता को धीरे-धीरे बॉलीवुड के तमाम बड़े सितारों का सपोर्ट मिल रहा है। इसके बाद तनुश्री ने नाना पाटेकर के खिलाफ शिकायत भी दर्ज करा दी है। तनुश्री के बाद फिल्म इंडस्ट्री से कई महिलाएं सामने आईं जिसके बाद देशभर में #MeToo मूवमेंट शुरू हो गया।

गौरतलब है कि नाना पाटेकर के बाद जहां डायरेक्टर विकास बहल, मशहूर सिंगर कैलाश खेर, अभिनेता रजत कपूर, मॉडल जुल्फी सैयद, अभिनेता आलोक नाथ, ‘हिंदुस्तान टाइम्स’ (एचटी) के ब्यूरो प्रमुख और राजनीतिक संपादक प्रशांत झा सहित एमजे अकबर पर भी यौन दुर्व्यवहार के आरोप लगे हैं। इसके अलावा देश मे #METOO अभियान के जोर पकड़ते ही कई नामी-गिरामी चेहरे कठघरे में खड़े हो गए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here