कॉपीराइट का नोटिस भेजने वाले अमिताभ बच्‍चन पर कुमार विश्वास ने एक बार फिर कसा तंज

0

बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन द्वारा कॉपीराइट का कानूनी नोटिस भेजे जाने के बाद जारी विवाद के बीच आम आदमी पार्टी (AAP) के नेता और मशहूर कवि कुमार विश्वास ने बिना नाम लिए एक बार फिर बिग बी पर तंज कसा है।हालांकि, कुमार विश्वास ने अपने इस ट्वीट में अमिताभ बच्चन का नाम नहीं लिया है।दरअसल, कुमार विश्वास की मशहूर कविता ‘कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है…’ को कोरियन वीडियो में यूज किया गया है। हालांकि, वीडियो में कुमार के इस कविता को गाने के रूप में प्रयोग किया गया है और इसे किसी दूसरे गायक ने अपनी आवाज दी है।

इस वीडियो का यूट्यूब लिंक ट्वीट करते हुए कुमार विश्वास ने अमिताभ बच्चन पर तंज कसा है। एक यूजर द्वारा इस वीडियो का यूट्यूब लिंक शेयर किए जाने के बाद कुमार विश्वास ने ट्वीट कर लिखा है, ‘बढ़िया है, मां हिंदी सीमाएं पार कर रही हैं…परेशान मत होना मैं तुमसे 32 रुपए नहीं मांगूंगा।’

बता दें कि कुमार विश्वास ने आठ जुलाई को यूट्यूब पर ‘तर्पण’ नाम से ‘नीड़ का निर्माण’ कविता अपलोड की थी। कुमार विश्वास ने इस पोस्ट में बकायदा हरिवंश राय बच्चन का नाम साभार रूप में भी दिया था। हालांकि, जब बिग बी के एक प्रशंसक ने इस वीडियो की प्रशंसा करते हुए अमिताभ बच्चन को ट्वीट किया, तो बच्चन ने कुमार विश्वास को टैग करते हुए ट्वीट कर नाराजगी जताई।

जिसके बाद अमिताभ बच्चन ने कुमार पर पिता हरिवंश राय बच्चन की कविता सुनाने और उसका वीडियो यूट्यूब पर साझा करने के लिए कॉपीराइट एक्ट के उल्लंघन का नोटिस जारी किया था। साथ ही उन्होंने ट्वीट कर नाराजगी भी जताई थी। 10 जुलाई को अमिताभ बच्चन ने कुमार विश्वास को टैग करते हुए ट्वीट किया था, ‘ये कॉपीराइट का उल्लंघन है, हमारा लीगल डिपार्टमेंट इस बात की संज्ञान लेगा।’

हालांकि, अमिताभ के नोटिस के जवाब में कुमार विश्वास ने भी उन्हें सख्त जवाब दिया है। इस पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कुमार विश्वास ने 12 जुलाई को ट्वीट किया, ‘सभी कवियों से मुझे सराहना मिली, लेकिन आपसे नोटिस मिला। बाबूजी को श्रद्धांजलि वाला वीडियो डिलीट कर रहा हूं। साथ ही आपके द्वारा मांगने पर 32 रुपये भेज रहा हूं, जो इससे कमाए हैं। प्रणाम’

कवियों को श्रद्धांजलि के लिए शुरू की थी श्रृंखला

दरअसल, कुमार विश्वास ने उस दौरान हिन्दी कवियों को श्रद्धांजलि की श्रृंखला ‘तर्पण’ शुरू की थी। इसमें विश्वास 15 दिवंगत कवियों की कविताओं की संगीतमय प्रस्तुति करने का फैसला किया था।  इन कवियों में बाबा नागाजरुन, दिनकर, निराला, बच्चन, महादेवी, दुष्यंत, भवानी प्रसाद मिश्र के साथ अन्य कवियों की कविताएं शामिल थी।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here