वायुसेना के विमान AN-32 के मलबे की सामने आई पहली तस्वीर, दुर्घटनास्थल तक पहुंचने की कोशिशें जारी

0

भारतीय वायुसेना के लापता एएन-32 विमान का मलबा मिल गया है। विमान का मलबा अरुणाचल प्रदेश के सियांग जिले में देखा गया है। भारतीय वायुसेना के आधिकारिक ट्विटर हैंडल ने पुष्टि करते हुए यह जानकारी दी है। भारतीय वायुसेना (आईएएफ) ने मंगलवार को कहा कि अरुणाचल प्रदेश में तीन जून को 13 लोगों के साथ लापता हुए एएन-32 विमान के मलबे को देख लिया गया है।

(Source: ANI)

इस बीच मलबे की पहली तस्वीर भी सामने आ गई है। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, विमान का मलबा अरुणाचल प्रदेश के टाटो इलाके में लगभग 12,000 फुट की ऊंचाई पर मिला। एजेंसी द्वारा शेयर किए गए तस्वीर में एएन- 32 विमान का मलबा और झुलसे हुए पेड़ साफ नजर आ रहे हैं, जो इशारा करते हैं कि जब विमान गिरा होगा तो कितनी जबर्दस्त आग लगी होगी।

वायुसेना का ध्यान विमान में मौजूद रहे 13 लोगों की वर्तमान स्थिति पता लगाने पर है। दुर्घटना वाला इलाका काफी ऊंचाई पर और घने जंगलों के बीच है, ऐसे में विमान के मलबे तक पहुंचना सबसे चुनौतीपूर्ण काम है। हालांकि, भारतीय वायु सेना, सेना और अरुणाचल प्रदेश के नागरिक प्रशासन ने एएन-32 विमान के दुर्घटनास्थल तक पहुंचने के लिए बुधवार को बड़े पैमाने पर एक अभियान शुरू किया। एक रक्षा अधिकारी ने यह जानकारी दी।

डिफेंस पीआरओ विंग कमांडर रत्नाकर सिंह ने कहा, “हेलीकॉप्टरों द्वारा दुर्घटना स्थल पर टीमों को भेजने के साथ बचाव अभियान शुरू हो गया है। इस अभियान में सेना के एमआई-17 और एएलएच का उपयोग कया जा रहा है।” जिस स्थान पर भारतीय वायु सेना के विमान एएन-32 का मलबा देखा गया है, वह लिपो के उत्तर में 16 किलोमीटर दूर स्थित है और शि योमी जिले के पयूम क्षेत्र के अंतर्गत गैट्टे से लगभग 12 से 15 किलोमीटर दूर पश्चिम में स्थित है।

मलबा मंगलवार दोपहर को देखा गया जब भारतीय वायुसेना, सेना और नागरिक प्रशासन की संयुक्त टीमों ने क्षेत्र में हवाई सर्वे किया। शि योमी जिले के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, “ग्राउंड पार्टियों को दुर्घटना स्थल तक पहुंचने में कुछ समय लग सकता है। इस क्षेत्र में काफी पेड़-पौधे हैं और दुर्गम इलाके में अक्सर जमीनी खोज दल को आगे बढ़ने में मुश्किलें आती हैं।”

हालांकि वायुसेना ने मलबे को ढूंढ़ लिया है, लेकिन विमान में सवार 13 लोगों के बारे में अभी तक कुछ भी स्पष्ट नहीं है, जिन्होंने तीन जून को अरुणाचल प्रदेश के मेचुका के लिए जोरहाट एयरबेस से उड़ान भरी थी। वायुसेना ने मंगलवार को अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया, “लापता एएन-32 के मलबे को आज देखा गया है। खोजे गए विस्तृत क्षेत्र में एमआई-17 हेलीकॉप्टर ने 12,000 फुट की अनुमानित ऊंचाई पर टेटो के उत्तर-पूर्व में लीपो से 16 किलोमीटर उत्तर में मलबे को देखा।”

रूस निर्मित विमान ने अरुणाचल प्रदेश के शि-योमि जिले के मेचुका एडवांस्ड लैंडिंग ग्राउंड के लिए 3 जून को 12 बजकर 27 मिनट पर असम के जोरहाट से उड़ान भरी थी। जमीनी नियंत्रण कक्ष के साथ विमान का संपर्क दोपहर एक बजे टूट गया। विमान में चालक दल के आठ सदस्य और पांच यात्री सवार थे। आठ जून को, वायुसेना ने लापता विमान के स्थान का पता या इससे संबंधित जानकारी देने के लिए पांच लाख रुपये इनाम की घोषणा की थी।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here