केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े ने विपक्षी दलों को लेकर दिया विवादित बयान

0

अपने विवादित बयानों को लेकर अक्सर मीडिया की सुर्खियों में रहने वाले कर्नाटक के सिरसी से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के सांसद व केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े ने एक बार फिर से विवादित बयान दिया है। इस बार अनंत कुमार हेगड़े ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को टाइगर बताते हुए विपक्ष दलों की तुलना बंदर, गधे, लोमड़ी और कौए से की है। हेगड़े के बयान की विपक्षी दल कड़ी आलोचना कर रहें है।

कर्नाटक
फाइल फोटो- केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े

टाइम्स न्यूज नेटवर्क के हवाले से नवभारत टाइम्स में छपी रिपोर्ट के मुताबिक उन्‍होंने एक कार्यक्रम में कहा, ‘अब हम प्‍लास्टिक की कुर्सियों का इस्‍तेमाल बैठने के लिए कर रहे हैं, यह स्थिति कांग्रेस पार्टी की वजह से आई है। यदि बीजेपी कई दशक तक सत्‍ता में रही होती तो अब तक लोगों को चांदी की कुर्सियों पर बैठने को मिलता। वर्ष 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव बहुत महत्‍वपूर्ण हैं, हमारे विपक्षी एक साथ आ गए हैं। कौवे, बंदर, भालू, लोमड़ी और अन्‍य सब एक साथ आ गए हैं।’

उन्‍होंने कहा, ‘एक तरफ टाइगर खड़ा है तो दूसरी ओर बंदर और गधे हैं। वर्ष 2019 में आपको यह फैसला करना है कि टाइगर की जीत हो या बंदर और गधे की।’ रिपोर्ट के मुताबिक, केंद्रीय मंत्री के इस बयान के बाद राज्‍य में सियासी पारा गर्म हो गया है। कांग्रेस और जेडीएस ने हेगड़े को केंद्रीय मंत्रिमंडल से बर्खास्‍त करने की मांग की है।

बता दें कि, यह कोई पहली बार नहीं है कि हेगड़े ने कोई विवादित बयान दिया हो वो इससे पहले भी कई बार ऐसे बयान दे चुके है। कर्नाटक विधानसभा चुनाव के दौरान हेगड़े ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को ‘खोटा हिंदुत्ववादी’ करार दिया था।

इससे पहले अनंत हेगड़े ने कर्नाटक के कोप्‍पल जिले के यलबुर्गा में ब्राह्मण युवा परिषद और महिलाओं के एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कथित तौर पर कहा था कि, ‘जो लोग धर्मनिरपेक्ष और प्रगतिशील होने का दावा करते हैं, उन्‍हें अपने मां-बाप और उनके खून के बारे में जानकारी ही नहीं होती है। मुझे बहुत खुशी होगी यदि कोई व्‍यक्ति खुद की पहचान मुस्लिम, ईसाई, ब्राह्मण, लिंगायत या हिंदू के तौर पर करता है। इस तरह की पहचान से आत्‍मसम्‍मान हासिल होता है। समस्‍या तब उत्‍पन्‍न होती है जब कोई खुद को धर्मनिरपेक्ष कहता है।’

साथ ही कहा कि इस सोच के साथ संविधान में बदलाव भी किया जा सकता है और इसीलिए हम लोग यहां हैं। बता दें कि, उनके इस बयान पर खूब हंगामा हुआ था जिसके बाद उन्होंने माफी मांग ली थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here