….तो क्या असली मुद्दों से जनता का ध्यान भटकाने के लिए बीजेपी नेता प्रियंका गांधी पर दे रहें है विवादास्पद बयान?

0

सोनिया गांधी की बेटी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की बहन प्रियंका गांधी वाड्रा के आधिकारिक तौर पर राजनीति में कदम रखने के बाद हड़कंप मच गया है। प्रियंका गांधी वाड्रा की राजनीति में आधिकारिक एंट्री के बाद से ही लोकसभा चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और कांग्रेस के बीच तलवारें खिंच गई हैं। प्रियंका के राजनीति में आने आने के बाद बीजेपी के तमाम बड़े नेताओं की तरफ से विवादित प्रतिक्रियाएं आ रही हैं।

प्रियंका गांधी
File Photo: AFP

इसी बीच हाल ही में उत्तर प्रदेश के बैरिया विधानसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के विधायक सुरेंद्र सिंह ने राहुल गांधी और प्रियंका को लेकर विवादित बयान दिया है। बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी तुलना रावण से की है और उनकी बहन प्रियंका गांधी वाड्रा को शूर्पणखा कहा है। बता दें कि सुरेंद्र सिंह अक्सर इसी तरह के विवादित बयान को लेकर मीडिया की सुर्खियों में बने रहते है।

बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह के इस बयान पर आप विधायक अलका लांबा ने कड़ी आपत्ति जताई है। उन्होंने कहा कि, यह सब एक सोची समझी साज़िश के तहत हो रहा है। बीजेपी का मकसद मात्र एक है, जनता से जुड़े जो मुद्दे उठाए जा रहे हैं उनसे ध्यान भटकना और किसी तरह जवाबदेही से बचना।

आदमी पार्टी (आप) की नेता व चांदनी चौक से विधायक अलका लांबा ने बुधवार (30 जनवरी) को बीजेपी पर निशाना साधते हुए लिखा, “यह सब एक सोची समझी साज़िश के तहत हो रहा है, एक के बाद एक बीजेपी नेता अपने मुँह से गंद उगल रहे हैं। बीजेपी का मकसद मात्र एक है, जनता से जुड़े जो मुद्दे उठाए जा रहे हैं उनसे ध्यान भटकना और किसी तरह जवाबदेही से बचना। शांति/संयम रखते हुए, बिना भटके 56″ के सीने पर मुद्दों से हमला करते रहना होगा।”

बता दें कि इससे पहले अलका लांबा ने अपने एक ट्वीट में लिखा था कि, “बीजेपी नेताओ की नजरें महिलाओं की शारीरिक खूबसूरती से आगे कुछ और देख और सोच ही नही सकती, इन्हें यह समझ नही आता कि एक खबसूरत महिला, महिलाओं के प्रति गंदी सोच और नियत रखने वालों के लिये कितनी क्रूर भी हो सकती है। काली/दुर्गा बन इन जैसे असुरों का चुनावी वध करना भी जानती है। सावधान।”

गौरतलब है कि कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने हाल ही में अपनी बहन प्रियंका गांधी को महासचिव बनाया है और उन्‍हें पूर्वी उत्‍तर प्रदेश की जिम्‍मेदारी दी है। प्रियंका गांधी का सक्रिय राजनीति में आना और उन्‍हें पूर्वी उत्‍तर प्रदेश की कमान दिया जाना कांग्रेस का मास्‍टर स्‍ट्रोक माना जा रहा है।

माना जा रहा है कि यूपी में एसपी और बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) के गठबंधन में कांग्रेस को जगह न मिलने के बाद कांग्रेस ने प्रियंका गांधी को सक्रिय राजनीति में उतारने का फैसला किया था। उन्हें उम्मीद है कि प्रियंका गांधी की एंट्री से यूपी में कांग्रेस की जड़ें मजबूत होंगी।

प्रियंका की राजनीति में कदम रखने के बाद कई बीजेपी नेता दे चुके हैं विवादित बयान

गौरतलब है कि जब से राहुल गांधी ने प्रियंका गांधी को महासचिव बनाया है और उन्‍हें पूर्वी उत्‍तर प्रदेश की जिम्‍मेदारी दी है। तभी से बीजेपी के तमाम नेता प्रियंका गांधी और कांग्रेस अध्‍यक्ष को लेकर कई विवादित बयान दे चुके है।

नीतीश के मंत्री विनोद नारायण झा

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के वरिष्ठ नेता व बिहार सरकार में मंत्री विनोद नारायण झा ने प्रियंका गांधी की नियुक्ती पर टिप्पणी की और कहा कि वोट खूबसूरत चेहरों के आधार पर हासिल नहीं किए जाते हैं। उन्‍होंने कहा कि “खूबसूरत चेहरों के दम पर वोट नहीं जीते जा सकते… इससे भी बढ़कर तथ्य यह है कि वह रॉबर्ट वाड्रा की पत्नी हैं, जिन पर भूमि घोटाले और भ्रष्टाचार के कई मामलों में शामिल होने का आरोप है। वह बेहद खूबसूरत हैं, लेकिन उसके अलावा उनकी कोई राजनैतिक उपलब्धि नहीं है।”

बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय

इसके अलावा बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने उनकी तुलना बॉलीवुड अभिनेता सलमान खान और अभिनेत्री करीना कपूर खान से की थी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ‘चॉकलेटी चेहरों’ के बूते पर अगला लोकसभा चुनाव लड़ना चाहती है।

विजयवर्गीय ने कहा था कि, ‘कभी कोई कांग्रेस नेता मांग करता है कि करीना कपूर को भोपाल से लोकसभा चुनाव लड़वाया जाए तो कभी इंदौर से चुनावी उम्मीदवारी को लेकर सलमान खान के नाम पर चर्चा की जाती है। इसी तरह, प्रियंका को कांग्रेस की सक्रिय राजनीति में ले आया जाता है। अगले लोकसभा चुनाव के मैदान में उतारने के लिए कांग्रेस के पास मजबूत नेता नहीं हैं। इसीलिए वह ऐसे चॉकलेटी चेहरों के माध्यम से चुनाव लड़ना चाहती है।’

हालांकि, इस विवादित बयान के बाद सियासी विवाद पैदा हुआ तो अब कैलाश विजयवर्गीय की तरफ से सफाई सामने आई है। विजयवर्गीय ने सफाई देते हुए कहा, ‘मैं अपने मीडिया के दोस्तों को कहना चाहूंगा कि यदि ऐसा कोई बयान है तो उसे दोबारा क्रॉस चेक करिए, क्योंकि मैंने चॉकलेटी चेहरे शब्द का इस्तेमाल बॉलीवुड ऐक्टर्स के लिए किया था, किसी राजनेता के लिए प्रयोग नहीं किया।’

बिहार सरकार में मंत्री प्रमोद कुमार

बिहार सरकार में पर्यटन मंत्री प्रमोद कुमार ने कहा था कि, “प्रियंका अभी बच्ची हैं… अगर कांग्रेस प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ प्रतिस्पर्धा करना चाहती है तो उसे सोनिया गांधी को मैदान में उतारना चाहिए।” कुमार ने कहा कि अब कांग्रेस नेता व कार्यकर्ता प्रियंका में इंदिरा गांधी की छवि देख रहे हैं और पहले वे सोनिया गांधी में इंदिरा गांधी की छवि देखा करते थे। उन्होंने कहा, “कांग्रेस को चुनावों में मोदी के खिलाफ सोनिया को उतारना चाहिए क्योंकि उनकी उम्र मोदी की उम्र के करीब है। लेकिन, प्रियंका अभी बच्ची हैं।”

बीजेपी नेताओं के विवादित बयान को लेकर लोगों ने जताई नाराजगी

प्रियंका गांधी के राजनीति में आधिकारिक तौर पर एंट्री के बाद से आए दिन जिस प्रकार से बीजेपी नेताओं की तरफ से विवादित बयान दिए जा रहे हैं उसे लेकर सोशल मीडिया पर लोगों में काफी नाराजगी है। वहीं, कई लोगों का कहना है असली मुद्दों से जनता का ध्यान भड़काने के लिए बीजेपी लगातार प्रियंका गांधी पर इस तरह के विवादास्पद बयान दे रहें है।

देखिए कुछ ऐसे ही ट्वीट:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here