प्रियंका गांधी पर एक और BJP नेता ने की विवादित टिप्पणी, कैलाश विजयवर्गीय बोले- ‘चॉकलेटी चेहरों के भरोसे लोकसभा चुनाव लड़ना चाहती है कांग्रेस’

0

यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी की बेटी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की बहन प्रियंका गांधी वाड्रा के आधिकारिक तौर पर राजनीति में कदम रखने के बाद हड़कंप मच गया है। प्रियंका गांधी वाड्रा की राजनीति में आधिकारिक एंट्री के बाद से ही लोकसभा चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और कांग्रेस के बीच तलवारें खिंच गई हैं। प्रियंका के राजनीति में आने आने के बाद बीजेपी बीजेपी के तमाम बड़े नेताओं की तरफ से प्रतिक्रियाएं आ रही हैं।

सक्रिय राजनीति में प्रियंका गांधी की एंट्री पर बीजेपी बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने उनकी तुलना बॉलीवुड अभिनेता सलमान खान और अभिनेत्री करीना कपूर खान से की है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ‘चॉकलेटी चेहरों’ के बूते पर अगला लोकसभा चुनाव लड़ना चाहती है। कैलाश विजयवर्गीय ने ‘भारत रत्न’ सम्मान की घोषणा के बाद यह भी कहा कि इसे राजनीति से जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए।

पीटीआई के मुताबिक विजयवर्गीय ने कहा, ‘कभी कोई कांग्रेस नेता मांग करता है कि करीना कपूर को भोपाल से लोकसभा चुनाव लड़वाया जाए तो कभी इंदौर से चुनावी उम्मीदवारी को लेकर सलमान खान के नाम पर चर्चा की जाती है। इसी तरह, प्रियंका को कांग्रेस की सक्रिय राजनीति में ले आया जाता है। अगले लोकसभा चुनाव के मैदान में उतारने के लिए कांग्रेस के पास मजबूत नेता नहीं हैं। इसीलिए वह ऐसे चॉकलेटी चेहरों के माध्यम से चुनाव लड़ना चाहती है।’

पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी कांग्रेस महासचिव के रूप में राजनीतिक मुख्यधारा में प्रियंका के प्रवेश को लेकर विजयवर्गीय ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की नेतृत्व क्षमता पर भी सवाल उठाए। विजयवर्गीय ने कहा, ‘अगर कांग्रेस में राहुल के नेतृत्व के प्रति आत्मविश्वास होता तो प्रियंका को सक्रिय राजनीति में नहीं लाया जाता।’

बता दें कि इससे पहले बीजेपी नेता व बिहार सरकार में मंत्री विनोद नारायण झा ने प्रियंका को लेकर विवादित बयान दिया था। झा ने कहा था, “खूबसूरत चेहरों के दम पर वोट नहीं जीते जा सकते… इससे भी बढ़कर तथ्य यह है कि वह रॉबर्ट वाड्रा की पत्नी हैं, जिन पर भूमि घोटाले और भ्रष्टाचार के कई मामलों में शामिल होने का आरोप है। वह बेहद खूबसूरत हैं, लेकिन उसके अलावा उनकी कोई राजनैतिक उपलब्धि नहीं है।”

गौरतलब है कि कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने अपनी बहन प्रियंका गांधी को महासचिव बनाया है और उन्‍हें पूर्वी उत्‍तर प्रदेश की जिम्‍मेदारी दी है। प्रियंका गांधी का सक्रिय राजनीति में आना और उन्‍हें पूर्वी उत्‍तर प्रदेश की कमान दिया जाना कांग्रेस का मास्‍टर स्‍ट्रोक माना जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here