‘स्कूल में वाइस प्रिंसिपल सभी के सामने कहते थे- लड़कियां जानबूझकर लड़कों का ध्यान आकर्षित करने के लिए रंग-बिरंगी ब्रा पहनती हैं’

0

देश की राजधानी दिल्ली के गांधी नगर इलाके में पांच साल की बच्ची से रेप की वारदात से मची सनसनी के बाद भी स्कूलों में बच्चियों पर हो रहें यौन शोषण का मामला थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। कोलकाता के एक स्कूल में नर्सरी कक्षा में पढ़ने वाली चार वर्षीय छात्रा के साथ शिक्षकों द्वारा कथित तौर पर यौन शोषण का मामला सामने आने के बाद अब पूर्व छात्राओं ने भी आवाज उठाना शुरू कर दिया है।

स्कूल

कनाडा की एक यूनिवर्सिटी में पढ़ाई कर रहीं स्कूल की एक पूर्व स्टूडेंट रूपकथा बासु ने स्कूल से जुड़ी घटनाओं को याद किया ओर सोशल मीडिया पर शेयर करते हुए एक बहुत बड़ा खुलासा किया है। छात्रा रूपकथा बासु ने बताया कि स्कूल टाइम में वाइस प्रिंसिपल ने आरोप लगाया था कि लड़कों को आकर्षित करने के लिए ही लड़कियां रंगीन ब्रा पहनती हैं।

टॉरंटो की यॉर्क यूनिवर्सिटी में सायकॉलजी की पढ़ाई कर रहीं रूपकथा बासु ने फेसबुक पर एक पोस्ट लिखा कि, ‘स्कूल के मैनेजमेंट में शामिल लोग बहुत पॉवरफुल हैं। वे हमेशा से स्टूडेंट्स की आवाज को डरा-धमकाकर और ब्लैकमेल कर चुप करा देते हैं।

अच्छी बात है कि मैं अब यूनिवर्सिटी की स्टूडेंट हूं और मुझे बोर्ड परीक्षा से बाहर होने या फिर ऐडमिट कार्ड नहीं मिलने का डर नहीं है। बासू के अनुसार छात्रों को चुप कराने के लिए उनके परीक्षा में नंबर काटने और परीक्षा का एडमिट कार्ड न देने जैसी धमकियां दी जाती हैं।

बासु ने कहा, मैं खुशनसीब हूं कि मैं अब एक विश्वविद्यालय छात्रा हूं। मैं उनकी शक्ति के आगे और बाध्य नहीं हूं। अब उन्हें कोई अधिकारी नहीं है कि वे मुझे सच बोलने पर बोर्ड परीक्षा में सस्पेंड कर दें। आज मैं बोलूंगी और मैं अब और चुप नहीं रह सकती।

बासू ने कहा कि, स्कूल का व्यवहार बुरा था।  मेरे 14 साल के स्कूली समय में मैंने देखा है कि जो स्कूल के सबसे बेस्ट टीचर होते थे उन्हें स्कूल छोड़ने के लिए मजबूर कर दिया जाता था। मैनेजमेंट ने स्कूल की वाइस प्रिंसिपल की नियुक्ति की, जो लड़कियों के खिलाफ भद्दी टिप्पणी करती थी। साथ ही बासू ने कहा कि हमारी पीटी यूनिफॉर्म सफेद थी, यूनिफॉर्म का कपड़ा बहुत ही पतला था जिसके कारण कई लड़कियों की ब्रा नजर आती थी।

बासू ने आरोप लगाया कि वाइस प्रिंसिपल ने सभी के सामने, जहां पर लड़के भी मौजूद थे, उन्होंने लड़कियों द्वारा रंग-बिरंगी ब्रा को पहनना एक मकसद के तहत बताया और उनके चरित्र पर भी सवाल उठाए। वह कहती थीं कि लड़कियां जानबूझकर लड़कों का ध्यान आकर्षित करने के लिए रंग-बिरंगी ब्रा पहनती हैं।

गौरतलब है कि, कुछ पिछले हफ्ते कोलकाता में रानीकुथी स्थित स्कूल जीडी बिरला सेंटर फॉर एजुकेशन में गुरुवार को एक टीचर द्वारा मासूम बच्ची को टॉइलट में ले जाकर कथित तौर पर उसके साथ यौन उत्पीड़न करने का मामला सामने आया था। परिजनों की शिकायत के आधार पर पुलिस ने टीचर के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

इस घटना के बाद से अभिभावकों में कांफी गुस्सा है, बड़ी तादाद में लोगों ने स्कूल पर प्रदर्शन कर आरोपी टीचर के निष्कासन और उस पर कड़ी कार्रवाई की मांग की है। गौरतलब है कि, 3 साल पहले भी स्कूल में बस ड्राइवर ने 6 साल की बच्ची के साथ यौन उत्पीड़न किया था।

Rupkatha Basu, former student of GD Birla, narrates her experiences. I know her personally and can vouch for…

Posted by Abhishek Mukherjee on Saturday, December 2, 2017

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here