वंदे मातरम का विरोध करने वालों से छीन लिया जाएं वोट करने का अधिकार- शिवसेना

0

सोमवार(21 अगस्त) को शिवसेना ने मांग की है कि वंदे मातरम का विरोध करने वाले मुस्लिमों के साथ राष्ट्र विरोधी की तरह व्यवहार होना चाहिए और उन्हें मताधिकार से वंचित किया जाना चाहिए। पार्टी ने औरंगाबाद महानगरपालिका (एएमसी) में वंदे मातरम के मुद्दे पर शनिवार(19 अगस्त) को हुए हंगामे की निंदा की।

वंदे मातरम
फाइल फोटो

पार्टी के मुखपत्र ‘सामना’ और ‘दोपहर का सामना’ के संपादकीय में कहा गया है कि हम वंदे मातरम के विरोध या अपमान को गंभीर अपराध के समान मानते हैं। शिवसेना ने कहा कि ये लोग अपने समुदाय में गलत चीज को फैलाते हैं और इस्लाम की हत्या कर रहे हैं।

इनकी विकृत सोच के चलते इस्लाम खतरे में है, ये लोग इतने अहंकारी हो गए हैं कि यहां तक कहते हैं कि भले ही भारत से बाहर कर दिया जाए, वंदे मातरम नहीं कहेंगे

साथ ही संपादकीय में कहा गया है कि जब सरकार गौरक्षकों के साथ कड़ाई से निपट सकती है तो वंदे मातरम का विरोध करने वालों के साथ भी वैसी ही सख्ती की जानी चाहिए। इसका विरोध करने वालों को राष्ट्रविरोधी माना जाना चाहिए और उनके मतदान का अधिकार निरस्त किया जाना चाहिए।

शनिवार(19 अगस्त) को वंदे मातरम पर हुए हंगामे पर शिवसेना ने संपादकीय में लिखा, शिवसेना पार्षद इस अपमान पर गुस्से से फट पड़े और वंदे मातरम के विरोधियों पर हमला किया। सौभाग्य से भारतीय जनता पार्टी के पार्षदों ने इस राष्ट्रवादी कर्तव्य में हमारा समर्थन किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here