मोदी सरकार में मंत्री अनंत कुमार हेगड़े बोले- ‘समाजसेवा नहीं, हम यहां राजनीति करने आए हैं’

0
4

अपने विवादित बयानों को लेकर अक्सर मीडिया की सुर्खियों में रहने वाले कर्नाटक के सिरसी से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के सांसद व मोदी सरकार में कौशल विकास एवं उद्यमिता राज्यमंत्री अनंत कुमार हेगड़े एक बार फिर से अपने बयान को लेकर सुर्खियों में आ गए है। उन्होंने कहा कि वह और उनकी पार्टी समाज में सेवा करने के मकसद से नहीं आए हैं। बल्कि वे यहां राजनीति करने के लिए हैं।

कर्नाटक
फाइल फोटो- केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े

गुरुवार (11 अक्टूबर) को कर्नाटक के करवार जिले में एक कार्यक्रम के दौरान केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े ने कहा कि आपने हमारी पार्टी को वोट दिया और आपकी पसंद की पार्टी ने सरकार बनाई, यह आपका अधिकार (चुनने का) है। कुछ लोग कहते हैं कि हम राजनीति करते हैं। लेकिन हम यहां सिर्फ राजनीति के लिए ही हैं। अगर ऐसा नहीं होता, तो हम राजनीति में किसलिए होते? राजनीति ही इसके पीछे का कारण है।

उन्होंने आगे कहा, राजनीति के कारण ही मैं एक सांसद बन पाया, हम राजनीति के अलावा कुछ और नहीं कर सकते। वही हमारे बस में है। हम यहां समाज सेवा करने नहीं आए हैं हम यहां राजनीति करने आए हैं, लिहाजा वही करते हैं। पत्रकार इस बात का जो मतलब निकालना चाहें, वे निकाल सकते हैं।

वह अपने इस बयान को लेकर विपक्ष के निशाने पर आ गए। जनता दल (सेक्युलर) ने अनंत कुमार हेगड़े के इस बयान की कड़ी निंदा की है।

जनसत्ता.कॉम की रिपोर्ट के मुताबिक, पार्टी प्रवक्ता अरिवालगन ने इस बारे में स्थानीय मीडिया से बात करते हुए कहा, मंत्री का यह बयान उनकी पार्टी की संस्कृति का परिचय देता है और वह पूरी तरह से सच भी है। बीजेपी राज्य और देशभर में सांप्रदायिक राजनीति कर रही है। वे समाज में समाजसेवा करने के लिए नहीं हैं न ही ये राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की विचारधारा का हिस्सा है। वे सिर्फ गंदी राजनीति करते हैं। मुझे समझ में नहीं आता कि पीएम मोदी ने उन्हें कैबिनेट में रखा क्यों और उन्हें इस तरह के बयान देकर विवाद पैदा करने पर हटाया क्यों नहीं जाता?

बता दें कि केंद्रीय कौशल विकास व उद्यमिता मंत्री राज्यमंत्री अनंत कुमार हेगड़े इससे पहले भी विवादित बयान देकर चर्चा में रह चुके हैं। पिछले साल उन्होंने एक कार्यक्रम में कहा था कि बीजेपी ‘संविधान बदलने के लिए’ सत्ता में आई है। हालांकि, अनंत कुमार हेगड़े ने संविधान में संशोधन के अपने विवादित बयान पर लोकसभा के अंदर माफी भी मांगी थी और कहा था कि उनके बयान को ‘तोड़-मरोड़कर’ पेश किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here