महिला पुलिस अधिकारी को भारी पड़ा दबंग BJP नेताओं को जेल भेजना, योगी सरकार ने किया ट्रांसफर

0

उत्तर प्रदेश में कानून-व्यवस्था के साथ खिलवाड़ करने वाले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के 5 नेताओं को जेल भेजना महिला पुलिस अधिकारी को भारी पड़ गया है। जी हां, सरकारी काम में बाधा डालने के आरोप में जेल भेजने वाली सीओ श्रेष्ठा ठाकुर का शनिवार(1 जुलाई) को बुलंदशहर के स्याना पुलिस थाने से तबादला कर बहराइच भेज दिया गया। योगी सरकार के इस फैसले पर सवाल उठने शुरू हो गए हैं। बता दें कि महिला अधिकारी ठाकुर ने एक हफ्ते पहले स्थानीय बीजेपी नेता और अन्य पांच नेताओं को पुलिस कार्यवाही में दखल देने और पुलिस अधिकारी से बदतमीजी करने के आरोप में जेल भेज दिया था। इतना ही नहीं, हिन्दुस्तान टाइम्स के मुताबिक, ठाकुर के तबादले के बाद स्थानीय नेता इसे अपना सम्मान मान रहे हैं।

साथ ही बीजेपी नेता आला पुलिस अधिकारियों से महिला अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग कर रहे हैं। बता दें कि उत्तर प्रदेश में जब से योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री बने हैं, उनके लिए सबसे बड़ी चुनौती राज्य में बिगड़े कानून-व्यवस्था को दुरुस्त करना है। क्योंकि आए दिन उन्हीं के पार्टी नेताओं की गुंडागर्दी की खबरें सामने आ रही हैं। यूपी में खराब कानून-व्यवस्था के मुद्दे पर योगी सरकार लगातार विरोधी पार्टियों के निशाने पर है।

क्या है पूरा मामला?

दरअसल, घटना पिछले महीने 22 जून की है, जहां बुलंदशहर के सयाना सर्कल के पास ड्यूटी पर तैनात महिला पुलिस अधिकारी श्रेष्ठा ठाकुर अपनी टीम के साथ गाडियों की चैकिंग कर रही थी। इस दौरान गाड़ी के जरुरी दस्तावेज न होने पर पुलिस ने एक बीजेपी नेता का चालान काट दिया।

ठाकुर द्वारा चालान काटने से नाराज बीजेपी नेता ने शहर के तमाम बीजेपी नेताओं को बुलाकर चौराहे पर जमकर उत्पात मचाया और महिला पुलिस अधिकारी के साथ तीखी बहस करते हुए बदसलूकी की। इतना ही नहीं, जिन कार्यकर्ताओं को पुलिस ने गिरफ्तार किया था, उन्हें भी कोर्ट परिसर से छुड़ाने की कोशिश की गई।

भाजपाइयों ने नारेबाजी कर जोरदार प्रदर्शन किया और पुलिस पर उत्पीड़न का आरोप लगाया। हालांकि, इस दौरान दबंग महिला पुलिस अधिकारी के सामने बीजेपी नेताओं की एक न चली और बदसलूकी सहित अन्य मामलों में पुलिस ने पांच बीजेपी कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।

(देखें वीडियो)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here