VIDEO: विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता की जगह NDTV के पत्रकार रवीश कुमार की तस्वीर लगाने पर मुकेश अंबानी के चैनल को करना पड़ा शर्मिंदगी का सामना, ट्रोल होने के बाद एंकर ने जताया खेद

0

कश्मीर पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बयान को लेकर सरकार को घेरते हुए विपक्षी दलों ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से स्पष्टीकरण देकर भ्रम की स्थिति दूर करने की मांग की। विदेश मंत्रालय ने हालांकि ट्रंप की, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ मुलाकात के दौरान की गई इन टिप्प्णियों को सिरे से खारिज कर दिया कि पीएम मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति से कश्मीर पर मध्यस्थता का अनुरोध किया था।

न्यूज 18 इंडिया

संसद के दोनों सदनों में दिए गए बयान में विदेश मंत्री एस जयशंकर ने स्पष्ट कहा कि इस तरह का कोई अनुरोध नहीं किया गया है। हालांकि, ट्रंप के दावे को लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि इस विषय पर देश को बताया जाना चाहिए कि प्रधानमंत्री एवं ट्रंप के बीच क्या बातचीत हुई थी। उन्होंने यह दावा भी किया कि अगर ट्रंप की बात सही है तो फिर प्रधानमंत्री मोदी ने देश के हितों के साथ विश्वासघात किया है।

गौरतलब है कि पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ संयुक्त प्रेस कॉन्फेंस में ट्रंप ने सोमवार को कहा कि मोदी दो हफ्ते पहले उनके साथ थे और उन्होंने कश्मीर मामले पर मध्यस्थता की पेशकश की थी और मुझे इसमें मध्यस्थता करने पर खुशी होगी। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने ट्रंप के दावे को सिरे से खारिज करते हुए संसद में कहा कि पाकिस्तान के साथ कोई भी बातचीत सीमा पार से जारी आतंकवाद बंद होने के बाद हो पाएगी और यह लाहौर घोषणापत्र और शिमला समझौते के अंतर्गत ही होगी। उन्होंने यह भी कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति से इस तरह का कोई अनुरोध नहीं किया गया है।

न्यूज 18 को करना पड़ा शर्मिंदगी का सामना

ट्रंप के सनसनीखेज दावे के बाद सोशल मीडिया पर हंगामा मच गया। वहीं, मंगलवार को भारतीय न्यूज चैनल अमेरिकी राष्ट्रपति पर हमलावर हो गए। इस बीच मंगलवार को ट्रंप के बयान पर एक चर्चा के दौरान गलत तस्वीर लगाने को लेकर उद्योगपति मुकेश अंबानी के स्वामित्व वाले हिंदी समाचार चैनल ‘न्यूज 18 इंडिया’ को सोशल मीडिया पर शर्मिंदगी का सामना करना पड़ गया। दरअसल, न्यूज 18 इंडिया पर मंगलवार शाम को रोजाना कार्यक्रम ‘आर-पार’ चल रहा था। अमिश देवगन इस कार्यक्रम का एंकरिंग कर रहे थे।

अमिश देवगन के ‘आर-पार’ शो के दौरान गलती से विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार की जगह एनडीटीवी के वरिष्ठ पत्रकार और एंकर रवीश कुमार की तस्वीर लग गई, जिसके बाद सोशल मीडिया पर लोग चैनल को ट्रोल करना शुरू कर दिए। हालांकि, वीडियो वायरल होने के बाद एंकर अमिश देवगन ने ट्वीट कर गलती के लिए खेद व्यक्त किया है। देवगन ने ट्वीट कर कहा कि सिस्टम के त्रुटि के कारण आज (मंगलवार) के आर-पार शो में एक छोटी सी गलती हो गई। MEA प्रवक्ता की गलत फोटो कुछ सेकंड के लिए प्रसारित हो गई थी। हालांकि, इसे जल्द ही ठीक कर लिया गया था। हमें त्रुटि का पछतावा है।

सोशल मीडिया पर इस गलती के लिए न्यूज 18 इंडिया और चैनल के एंकर अमिश देवगन को जमकर ट्रोल किया जा रहा है। पत्रकार उमाशंकर ने एंकर पर निशाना साधते हुए ट्वीट कर लिखा, “कई लोग पूछ रहे हैं ये सच है क्या? हां ये सच है। अनपढ़ता का नतीजा है। शो के एंकर को इसकी राज’नैतिक ज़िम्मेदारी लेनी चाहिए। बाक़ी जो है सो हईए है।” इसके अलावा पत्रकार रवीश कुमार को लोग विदेश मंत्रालय का प्रवक्ता बताते हुए उन्हें बधाई देकर मजे ले रहे हैं।

देखें, लोगों की प्रतिक्रियाएं:

क्या है पूरा मामला?

दरअसल, 22 जुलाई को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ने यह कहकर भारत को चौंका दिया था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जापान के ओसाका में जी-20 सम्मेलन के दौरान कश्मीर मुद्दे को सुलझाने के लिए उनकी मदद मांगी थी। ट्रंप ने कहा, ‘‘मैं दो सप्ताह पहले प्रधानमंत्री मोदी के साथ था और हमने इस विषय (कश्मीर) पर बात की थी। और उन्होंने वास्तव में कहा, ‘क्या आप मध्यस्थता करना या मध्यस्थ बनना चाहेंगे?’ मैंने कहा, ‘कहां?’ (मोदी ने कहा) ‘कश्मीर।’’ उन्होंने कहा, ‘‘क्योंकि यह कई वर्ष से चल रहा है। मुझे आश्चर्य है कि यह कितने लंबे समय से चल रहा है।’’

ट्रंप ने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि वे (भारतीय) इसे हल होते हुए देखना चाहेंगे। मुझे लगता है कि आप (पाकिस्तानी पीएम इमरान खान) इसे हल होते हुए देखना चाहेंगे। और अगर मैं मदद कर सकता हूं, तो मैं मध्यस्थ बनना पसंद करूंगा। यह होना चाहिए …. हमारे पास दो अद्भुत देश हैं जो बहुत होशियार हैं और जिनका नेतृत्व बहुत होशियार हैं, (और वे) इस तरह की समस्या का समाधान नहीं कर सकते हैं। लेकिन अगर आप चाहते हैं कि मैं मध्यस्थता करूं, तो मैं ऐसा करने को तैयार हूं।’’

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here