‘साम्प्रदायिक टिप्पणी’ मामले में रिपब्लिक टीवी के संस्थापक अर्नब गोस्वामी को मुंबई पुलिस ने भेजा कारण बताओ नोटिस

0

मुंबई पुलिस ने रिपब्लिक टीवी के संस्थापक अर्नब गोस्वामी को पालघर में साधुओं की भीड़ द्वारा हत्या और अप्रैल में बांद्रा स्टेशन के पास प्रवासी कामगारों की भीड़ पर प्रसारित कार्यक्रम में कथित तौर पर साम्प्रदायिक टिप्पणी करने के मामले में कारण बताओ नोटिस जारी किया है।

समाचार एजेंसी पीटीआई (भाषा) की रिपोर्ट के मुताबिक, पुलिस अधिकारी ने बताया कि अर्नब गोस्वामी को सीआरपीसी की धारा-108 के तहत नोटिस जारी किया गया है और पूछा गया है कि क्यों न उनसे अच्छे व्यवहार संबंधी मुचलका जमा कराया जाए। अधिकारी ने बताया कि गोस्वामी को वर्ली डिवीजन के विशेष कार्यकारी मजिस्ट्रेट और सहायक पुलिस आयुक्त के समक्ष शुक्रवार (16 अक्टूबर) को शाम चार बजे उपस्थित होने को कहा गया है।

नोटिस के मुताबिक, 21 अप्रैल को गोस्वामी ने ‘पूछता है भारत’ कार्यक्रम में पालघर में दो साधुओं और उनके चालक की भीड़ द्वारा हत्या किए जाने पर बहस कराई थी और कथित तौर पर सवाल किया था कि हिंदू होना और भगवा पहनना अपराध है और क्या वे गैर हिंदू होते तो लोग ऐसे ही चुप रहते। अधिकारी ने बताया कि अर्नब गोस्वामी से एक जमानतदार के साथ एक साल के लिए 10 लाख रुपये का मुचलका लिया जा सकता है जो उनके व्यवहार को नियंत्रित करे।

नोटिस में यह कहा गया कि गोस्वामी के चैनल ने साम्प्रदायिक तनाव को फैलाया और यूट्यूब पर शो में गालीगलौज, साम्प्रदायिक और घृणास्पद दर्शकों की टिप्पणियों को देखा जा सकता है। गोस्वामी को एसीपी के सामने मौजूद होना होगा और इस बात का संतोषजनक जवाब देना पड़ेगा कि आखिर क्यों नहीं उनके खिलाफ प्रिवेंटिव एक्शन लिया जाए।

गोस्वामी पर पुलिस का आरोप है कि उन्होंने पालघर में संतों की हत्या पर अपने शो में धार्मिक भावनाएं भड़काने का काम किया। दूसरा मामला बांद्रा में जमा हुई भीड़ का है। नोटिस में कहा गया है कि दोनों कार्यक्रमों के दौरान लॉकडाउन होने की वजह से दंगा भड़कने से बच गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here