“उन्हें कानूनी कार्रवाई करने दें”: TRP घोटाला मामले में अर्नब गोस्वामी के द्वारा मानहानि का मुकदमा दायर करने की धमकी पर बोले मुंबई पुलिस कमिश्नर, बताया ‘रिपब्लिक टीवी’ के संस्थापक को अभी तक क्यों नहीं किया गया गिरफ्तार

0

टीआरपी घोटाला मामले में ‘रिपब्लिक टीवी’ के संस्थापक अर्नब गोस्वामी द्वारा मानहानि का मुकदमा दायर करने की धमकी पर मुंबई पुलिस के कमिश्नर परमबीर सिंह ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। परमबीर सिंह ने कहा कि रिपब्लिक टीवी के संस्थापक कानूनी कार्रवाई करने के लिए स्वतंत्र है, यह उनका अधिकार है। गोस्वामी द्वारा कानूनी लड़ाई को बढ़ाने की धमकियों के बीच मुंबई पुलिस कमिश्नर ने यह भी बताया कि रिपब्लिक टीवी केसंस्थापक को अभी तक गिरफ्तार क्यों नहीं किया गया है।

अर्नब गोस्वामी

इंडिया टुडे से बात करते हुए मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने कहा कि, “सभी को कानूनी कार्रवाई करने का अधिकार है। मैं इस बारे में क्या कह सकता हूं? यह उसका अधिकार है। उसे करने दो।”

गुरुवार को सिंह की असाधारण प्रेस कॉन्फ्रेंस पर प्रतिक्रिया देते हुए, अर्नब गोस्वामी ने एक बयान जारी किया था जिसमें मुंबई पुलिस द्वारा प्रतिशोध की बात कही गई थी। उन्होंने कहा था कि रिपब्लिक टीवी मुंबई पुलिस कमिश्नर के खिलाफ एक आपराधिक मानहानि का मुकदमा दायर करेगा, जिसमें दावा किया गया है कि TRP डेटा को मापने के लिए जिम्मेदार BARC ने एक भी शिकायत में रिपब्लिक टीवी का नाम नहीं लिया।

बाद में गोस्वामी ने अपने टीवी पर दावा किया कि सिंह ने सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में मुंबई पुलिस के खिलाफ अपने चैनल के कवरेज के कारण उन्हें बदनाम करने का प्रयास किया। सिंह ने कहा कि गोस्वामी के आरोप हंसी के पात्र थे, जिससे पूरा देश जानता है कि एजेंडा संचालित पत्रकारिता कौन कर रहा है।

सिंह ने गुरुवार को अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था कि मुंबई पुलिस ने पहले ही दो टीवी चैनलों के मालिकों को टीआरपी घोटाले में शामिल होने के आरोप में गिरफ्तार किया है। रिपब्लिक टीवी या उसके संस्थापक के खिलाफ अब तक जबरदस्त कार्रवाई क्यों नहीं की गई है। इस सवाल के जवाब में सिंह ने कहा कि, “हमारे पास उनके खिलाफ (दो मराठी चैनलों के गिरफ्तार मालिकों) प्रत्यक्ष सबूत थे। जब संगठन बड़ा होता है, तो हमें यह पता लगाना होता है कि वास्तव में कौन सीधे तौर पर शामिल था और सभी को कितना फायदा हुआ। इस मामले में जो भी जिम्मेदार होगा, हम उन्हें पूछताछ के लिए बुलाएंगे।”

गोस्वामी ने बाद में दावा किया था कि मुंबई पुलिस ने जो एफआईआर दर्ज की है, उसमें उनके टीवी चैनल का नाम नहीं था। इसके बाद मुंबई पुलिस ने एक स्पष्टीकरण जारी किया, जिसमें कहा गया कि रिपब्लिक टीवी और अन्य दो चैनलों, फ़क्ट मराठी और बॉक्स सिनेमा के नाम मामले में संदिग्धों से पूछताछ के दौरान सामने आए थे। इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि एफआईआर केवल जांच की शुरुआत थी।

[यह भी पढ़े: मुंबई पुलिस कमिश्नर ने ‘फर्जी टीआरपी रैकेट’ का किया खुलासा, बोले- अर्नब गोस्वामी के चैनल ‘रिपब्लिक टीवी’ समेत तीन चैनलों ने पैसे देकर बढ़ाई TRP, दो चैनल मालिक गिरफ्तार; अर्नब ने दी मानहानि का केस करने की धमकी]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here