AAP विधायकों की सदस्यता रद्द कराने वाले वकील के पुराने ट्वीट शेयर कर यूजर्स साध रहे हैं निशाना, इस्लाम, महिलाओं, RSS और आडवाणी-सुषमा जैसे नेताओं पर उठा चुके हैं सवाल

0

लाभ के पद मामले में अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में दिल्ली में सत्तासीन आम आदमी पार्टी (AAP) के 20 विधायकों की सदस्यता रद्द कराकर उनके राजनीतिक भविष्य पर ग्रहण लगाने वाले युवा वकील प्रशांत पटेल इन दिनों सोशल मीडिया पर लगातार चर्चा में हैं। चुनाव आयोग ने प्रशांत पटेल की शिकायत के बाद ही 20 विधायकों को अयोग्य करार देने की सिफारिश राष्ट्रपति को भेजा था। हालांकि, इस बीच कथित तौर पर प्रशांत पटेल के कुछ पुराने विवादित ट्वीट के स्क्रीनशॉट सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहे हैं।

तस्वीर साभार: फेसबुक

वायरल हो रहे पुराने ट्वीट में कथित तौर पर प्रशांत पटेल इस्लाम, मुसलमान, महिलाओं, आरएसएस, बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, गृह मंत्री राजनाथ सिंह, बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी, अभिनेता सलमान खान, फिल्म निर्देशक महेश भट्ट, पत्रकार राजदीप सरदेसाई सहित कई तमाम बड़े हस्तियों के खिलाफ आपत्तिजनक ट्वीट कर चुके हैं।

नवेन्दु नाम के एक यूजर ने प्रशात के पुराने ट्वीट को शेयर किया है। जिसमें कथित तौर पर उन्होंने लिखा है, “आडवाणी उस बदचलन औरत की तरह हैं जो अपने मोहल्ले की बाकी औरतों को भी बिगाड़ देती हैं।” वहीं, एक अन्य ट्वीट में लिखा है, “गोवा के सीएम मनोहर पर्रिकर ने एक बार (2009 में) कहा था, आडवाणी बासे आचार की तरह हैं, अब तो दुर्गन्ध दूर से ही आने लगी है।”

वहीं आरएसएस के बारे में उन्होंने लिखा है कि “मुसलमान मारते रहेंगे, हिंदू मरता रहेगा, तब भी आरएसएस हैप्पी ईद बोलता रहेगा।” वहीं, एक पुराने ट्वीट का स्क्रीनशॉट वायरल हो रहा है जिसमें उन्होंने कथित तौर पर अभिनेता सलमान खान को सूअर कहकर संबोधित किया है। वहीं, सुप्रीम कोर्ट की वरिष्ठ वकील और बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी को कथित तौर पर प्रशांत पटेल ने बेहद आपत्तिजनक ट्वीट किए थे, जिसका स्क्रीनशॉप इस समय वायरल हो रहा है।

कोमल नाम की एक अन्य यूजर ने प्रशांत के कुछ पुराने ट्वीट को शेयर किया है। जिसमें उन्होंने कथित तौर पर लिखा है, “जो कायर थे मुसलमान हो गए। जो बहादुर थे वो कुर्बान हो गये।” वहीं एक अन्य ट्वीट में लिखा है, “मुहम्मद जैसे दरिंदों की वजह से आज इंसानियत के दुश्मन मुसलमान ना खुद चैन से जी रहे हैं ना दूसरों को चैन से जीने दे रहे हैं।” वहीं एक अन्य ट्वीट में प्रशांत ने कथित तौर पर लिखा है, “मुर्दों की जगह समशान और जमीन के ऊपर की जगह को आसमान कहते हैं, जो अपनी अम्मी और बहन को भी ना छोड़े उस मुसलमान कहते हैं।”

वायरल हो रहे ट्वीट को लेकर प्रशांत पटेल ने ‘जनता का रिपोर्टर’ से बातचीत में कहा कि, “देखिए, आम आदमी पार्टी (AAP) के जो ट्रोल्स हैं वह मेरे पुराने ट्वीट को शेयर कर रहे हैं। देश में सभी को अपनी बात रखने का अधिकार है। जिस प्रकार से आप (जनता का रिपोर्टर) मेरे खिलाफ खबर लिखने के लिए स्वतंत्र हैं, उसी तरह से मुझे भी अपनी रखने को आजादी है। आपको जो भी लिखना है वह लिख सकते हैं।” हालांकि, ‘जनता का रिपोर्टर’ प्रशांत पटेल के वायरल हो रहे ट्वीट्स की सत्यता की पुष्टि नहीं करता है।

देखिए, सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे प्रशांत पटेल के पुराने ट्वीट:-

https://twitter.com/ippatel/status/581870252616613888?ref_src=twsrc%5Etfw&ref_url=http%3A%2F%2Fwww.jantakareporter.com%2Fpolitics%2Flawyer-20-aap-mlas-disqualified-faces-social-media-embarrassment-past-tweets-targetting-islam-women-rss%2F171660%2F

https://twitter.com/NavenduSingh_/status/959856991702265856?ref_src=twsrc%5Etfw&ref_url=http%3A%2F%2Fwww.jantakareporter.com%2Fpolitics%2Flawyer-20-aap-mlas-disqualified-faces-social-media-embarrassment-past-tweets-targetting-islam-women-rss%2F171660%2F

बता दें कि प्रशांत पटेल ने ही 19 जून 2015 को राष्ट्रपति के पास याचिका दायर की थी कि राजधानी एक्ट के सेक्शन 15 के मुताबिक आम आदमी पार्टी के 21 विधायक लाभ के पद के रहने के साथ विधायक नहीं रह सकते, इसलिए इनकी सदस्यता रद्द की जानी चाहिए। इस मामले में पहले 21 विधायकों की संख्या थी, लेकिन जरनैल सिंह पहले ही पार्टी से इस्तीफा दे चुके हैं।

प्रशांत मूल रूप से फतेहपुर के रहने वाले हैं। हालांकि उनका ज्यादातर जीवन इलाहाबाद में बीता है। 30 वर्षीय पटेल इससे पहले अभिनेता आमिर खान और डायरेक्टर राजकुमार हिरानी के खिलाफ भी फिल्म PK में हिंदू देवी देवताओं का गलत चित्रण करने को लेकर FIR दर्ज करवा चुके हैं।

पिछले 8 सालों से दिल्ली में रह रहे प्रशांत ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से बीएससी की पढ़ाई की फिर एमबीए किया, जिसके बाद ग्रेटर नोएडा की चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय से कानून की पढ़ाई करने के बाद देश के कई न्यायालयों में वकालत कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here