जुनैद के पिता का सवाल- “देश में मुसलमानों के प्रति इतनी नफरत क्यों? क्या मेरा बेटा भारतीय नहीं था? PM मुसलमानों की हत्या पर अपनी चुप्पी कब तोड़ेंगे?”

0

गुरुवार(22 जून) को दिल्ली से मथुरा जा रही ईएमयू ट्रेन में सीट को लेकर हुए विवाद के बाद बल्लभगढ़ निवासी 15 साल के जुनैद की हत्या कर दी गई थी। जिसके बाद भारत सहित विश्व भर में रह रहे भारतीय मुसलमान गुस्से में हैं, साथ ही जुनैद के गांव में मातम छाया हुआ है। लेकिन जुनैद के पिता ने एक अखबार को दिए इंटरव्यू में बेटे की मौत पर अपना दर्द साझा करते हुए पीएम मोदी को अपने “मन की बात” बताई।

जुनैद

जुनैद के पिता जलालुद्दीन खान ने अंग्रेजी अखबार द टेलीग्राफ से कहा की, “देश में मुसलमानों के प्रति इतनी नफरत क्यों है? क्या मेरा बेटा भारतीय नहीं था? प्रधानमंत्री मुसलमानों की भीड़ द्वारा हत्या पर अपनी चुप्पी कब तोड़ेंगे?” साथ ही जलालुद्दीन ने कहा, “इस बढ़ती नफरत की वजह से मैंने अपना बच्चा खो दिया। ये मेरे मन की बात है और मैं चाहता हूं कि ये मोदी साहब तक पहुंचे जो मेरे भी प्रधानमंत्री हैं।”

आगे उन्होंने कहा कि, ‘मैंने रविवार (25 जून) को प्रधनमंत्री मोदी के ‘मन की बात’ कार्यक्रम को सुना लेकिन उसमें कहीं भी इस घटना का जिक्र नहीं था। एक शब्द भी नहीं था, हमें उम्मीद थी कि वह कुछ तो कहेंगे। उनको उम्मीद थी कि पीएम मोदी उनके बेटे की हत्या पर कड़ा बयान देंगे और उसकी निंदा करेंगे, जिससे मेरा और हमारे समुदाय के लोगों का साहस बढ़ाता।

साथ ही जुनैद के पिता ने कहा कि, इस वक्त हम काफी असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। जुनैद के पिता जलालुद्दीन खान ने साथ ही कहा कि, मेरे एक बेटे की मौत हो चुकी है, मैं चाहता हूं कि मोदी जी इस बात का आश्वासन दें कि मेरे दूसरे बेटे के साथ ऐसा कुछ नहीं होगा।

गौरतलब है कि, गुरुवार(22 जून) को दिल्ली से मथुरा जा रही ईएमयू ट्रेन में ईद की खरीदारी कर के बल्लभगढ़ अपने घर जा रहें असावटी स्टेशन पर जुनैद की ट्रेन में चाकू से गोदकर हत्या कर दी गई थी।हत्या के बाद पुलिस ने मामले में कार्रवाई करते हुए एक व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया है

ट्रेन में मारे गए हाफिज जुनैद के परिवार सहित गांव खंदावली के लोग शासन-प्रशासन से बेहद खफा हैं, हर कोई इस दर्दनाक हादसे की कड़े शब्दों में निंदा कर रहा है। वहीं दूसरी और रोजेदार की हत्या से गुस्साए मुस्ल‍िम समुदाय के लोगों ने आज(26 जून) काली पट्टी बांधकर ईद की नमाज पढ़ी।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here