गुजरात मॉडल की खुली पोल, नर्मदा नदी की दीवारों में पड़ी दरारें, 15 दिन पहले ही PM मोदी ने किया था उद्घाटन

0

लोकसभा चुनाव के दौरान देश भर में जिस ‘गुजरात मॉडल’ को लागू करने की चर्चा हो रही थी, उस गुजरात मॉडल की एक ऐसी तस्वीर सामने आई है, जिसे देखकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी गुस्से से लाल हो जाएंगे। दरअसल, प्रधानमंत्री मोदी ने पिछले महीने गुजरात के कच्छ में स्थित नर्मदा नहर का उद्घाटन किया था। उस दौरान दावा किया गया था कि इस नहर के लोकापर्ण के बाद अब कच्छ क्षेत्र में पानी की समस्या समाप्त हो जाएगी।लेकिन शिलान्यास के महज 20 दिनों के अंदर ही नवनिर्मित इस नहर ने गुजरात सरकार द्वारा विकास के किए जा रहे तमाम दावों की पोल खोलकर रख दी है। कांग्रेस नेता रचित सेठ ने ट्विटर पर आज तक न्यूज चैनल का एक वीडियो शेयर किया है, जिसमे दावा किया गया है कि पीएम मोदी द्वारा उद्घाटन किए जाने के महज 20 दिनों के अंदर ही इस नहर की दीवारें धंस गई हैं।

इतना ही नहीं इस वीडियो में नहर की दीवारों में बड़ी-बड़ी दरारें दिखाई दे रही हैं। जिस वजह से दीवारों में तेजी से पानी सिरकना शुरू हो गया है। आज तक ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि इस नहर की हालत इतनी खराब हो गई है कि अधिकारियों को पानी की सप्लाई बंद करना पड़ा।

वहीं, एक अन्य मीडिया रिपोर्ट में दावा किया किया है कि नहर में पानी आना तो लोकार्पण के दिन ही बंद हो गया था, जिस दिन पीएम मोदी ने इसका उद्घाटन किया था। बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले महीने 22 मई को ही इस नहर का लोकार्पण किया था। इस नहर की लागत करीब 1472 करोड़ रुपये आई है।

प्रधानमंत्री मोदी ने इस नहर के शिनान्यास के वक्त दावा किया था कि यह परियोजना कच्छ के लोगों की जिंदगी बदल देगी। भले ही इस चूक की जानकारी पीएम मोदी को ना हो, लेकिन राज्य सरकार और अधिकारियों ने जल्दबाजी में इसका उद्घाटन करवाकर कच्छ की जनता के साथ-साथ प्रधानमंत्री को भी धोखा दिया है।

अब सवाल यह उठा रहा है कि क्या विधानसभा चुनाव नजदीक आता देख गुजरात सरकार और अधिकारियों ने आनन-फानन में बिना काम पूरा हुए ही प्रधानमंत्री को अंधेरे में रखकर इस नहर का उद्धाटन करवा दिया गया। जिसका खामियाजा आज वहां के लोगों को भुगतना पड़ रहा है। विपक्ष का कहना है कि इस मामले में संबंधित अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए।

लोगों ने विकास के दावों पर उठाए सवाल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here