प्रियंका गांधी वाड्रा का सरकारी बंगला खाली कराने के नोटिस पर भड़की कांग्रेस, कहा- “कुंठित सरकार के तुगलकी फैसलों से हम डरने वाले नहीं”

0

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा का नई दिल्ली स्थित सरकारी बंगला खाली कराने से जुड़े सरकार के आदेश को लेकर मुख्य विपक्षी पार्टी ने बुधवार को आरोप लगाया कि यह कदम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की बेचैनी दिखाता है।

प्रियंका गांधी वाड्रा

पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने यह भी कहा कि आवास खाली कराने से प्रियंका और कांग्रेस डरने वाले नहीं हैं तथा वे देश एवं उत्तर प्रदेश की जनता की आवाज उठाते रहेंगे। उन्होंने एक बयान में दावा किया, ‘‘भाजपा व मोदी सरकार की कांग्रेस नेतृत्व से अंधी नफ़रत तथा प्रतिशोध की भावना जग ज़ाहिर है। अब तो वह और ओछी हरकतों व हथकंडों पर उतर आए हैं। प्रियंका जी का मकान ख़ाली कराने का नोटिस मोदी जी-योगी जी की बेचैनी को दिखाता है।’’

सुरजेवाला ने कहा, ‘‘कुंठित सरकार के तुग़लकी फ़ैसलों से हम डरने वाले नहीं। प्रधानमंत्री मोदी और योगी आदित्यनाथ प्रियंका जी और कांग्रेस की आवाज को रोक नहीं पाएंगे।’’ कांग्रेस नेता जितिन प्रसाद ने कहा, ‘‘ध्यान भटकाने के मकसद से उठाए गए कदमों का प्रियंका गांधी पर कोई असर नहीं पड़ने वाला है। वह उत्तर प्रदेश की जनता की लड़ाई लड़ने के मिशन पर निकली हैं और रुकने वाली नहीं हैं।’’

बता दें कि, केंद्र सरकार ने बुधवार को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा से कहा कि वह नई दिल्ली स्थित बंगला एक महीने के भीतर खाली कर दें क्योंकि एसपीजी सुरक्षा वापस लिए जाने के बाद वह आवासीय सुविधा पाने की हकदार नहीं हैं। आवास एवं शहरी कार्य मंत्रालय की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि वह एक अगस्त तक मौजूदा आवास ‘35 लोधी एस्टेट’ खाली कर दें और अगर ऐसा नहीं करती हैं तो उन्हें नियमों के मुताबिक किराये अथवा क्षतिपूर्ति का भुगतान करना होगा।

गौरतलब है कि, पिछले साल नवंबर में सरकार ने गांधी परिवार का एसपीजी सिक्‍योरिटी कवर हटा लिया था। अब कांग्रेस अध्‍यक्ष सोनिया गांधी, उनके बेटे राहुल गांधी और बेटी प्रियंका गांधी की सुरक्षा Z+ कैटेगरी की कर दी गई है जो सेंट्रल रिजर्व पुलिस फोर्स के जिम्‍मे है। सरकार ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का एसपीजी कवर भी वापस ले लिया था। (इंपुट: भाषा के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here