बाल तस्करी मामले में BJP सांसद रूपा गांगुली से CID ने की पूछताछ

0

पश्चिम बंगाल क्रिमिनल इंवेस्टिगेशन डिपार्टमेंट (सीआईडी) ने शनिवार(29 जुलाई) को जलपाईगुडी बाल तस्करी मामले में भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) की राज्यसभा सांसद रूपा गांगुली से पूछताछ की। सीआईडी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी। एजेंसी के अधिकारियों का एक दल बीजेपी की महिला इकाई की पूर्व महासचिव जूही चौधरी से कथित मुलाकात पर पूछताछ के लिए रूपा गांगुली के दक्षिणी कोलकाता स्थित घर गया। बता दें कि जूही इस मामले में आरोपी हैं और जेल में हैं।

PTI

पिछले दिनों सीआईडी ने इस साल बाल तस्करी के एक गिरोह का पर्दाफाश किया था जो गोद लेने के अवैध सौदों के जरिए शिशुओं और बच्चों को कथित रूप से बेचता था। कुछ विदेशियों को भी बच्चे बेचे जाते थे। रूपा ने बाद में संवाददाताओं से कहा कि वे मामले को सुलझााने तथा स्थिति को समझाने के लिए कुछ सवाल पूछना चाहते थे।

Also Read:  मानवाधिकार आयोग का आदेश- सेना द्वारा जीप में बांधे गए कश्मीरी युवक को 10 लाख रुपये मुआवजा दे सरकार

उन्होंने कहा कि मैं जो जानती थी, मैंने उन्हें बता दिया। मेरे खिलाफ कोई आरोप नहीं है। यह राजनीतिक प्रतिशोध है। मैं यह पहले दिन से कह रही हूं। वे मेरा समय बर्बाद कर रहे हैं। राज्य में भाजपा कार्यकर्ताओं के खिलाफ झाूठे मामले दर्ज किए जाने का आरोप लगाते हुए राज्यसभा सदस्य ने कहा कि वह समझाती हैं कि चौधरी दोषी नहीं है।

बता दें कि राज्य सीआईडी ने इसी मामले में पूछताछ के लिए भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय तथा दो अन्य नेताओं को भी समन भेजा था। सीआईडी ने बच्चों की तस्करी के आरोपों के तहत दार्जीलिंग में एक बाल सुरक्षा एजेंसी के प्रमुख और बाल कल्याण समिति के एक सदस्य समेत कई लोगों को गिरफ्तार किया है।

Also Read:  किसानों की बैठक के दौरान फ़ोन पर कैंडी क्रश खेलने के लिए मुसीबत में तमिलनाडु अधिकारी

ये गिरफ्तारियां जलपाईगुडी शहर में बिमला शिशु गृह में बच्चे को गोद देने के नाम पर तस्करी करने वाले गिरोह की जांच के बढ़ते दायरे का हिस्सा हैं। भाजपा की महिला इकाई से बर्खास्त की गई नेता जूही चौधरी और बाल गृह की वरिष्ठ अधिकारी सोनाली मंडल, गृह की अध्यक्ष चंदना चक्रवर्ती और उसके भाई मानस भौमिक को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है।

Also Read:  दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने किया संजय गांधी अस्पताल का औचक निरीक्षण

उन पर इन झाूठे दावों के आधार पर विदेशियों को एक से 14 साल के करीब 17 बच्चों को बेचने का आरोप है कि इन बच्चों को जरूरतमंद लोगों को जांच-परख और नियम-कायदों का पालने करने के बाद कानूनी तौर पर गोद लेने के लिए सौंपा गया है।

सीआईडी ने गत वर्ष नवंबर में उत्तर 24 परगना जिले के बदुरिया इलाके, कोलकाता के दक्षिणी हिस्से में बेहाला तथा दक्षिण बंगाल के कुछ अन्य हिस्सों में बाल गृहों तथा नर्सिंग होम पर छापेमारी के दौरान बाल तस्करी गिरोह का भंडाफोड़ किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here