नागपुर बीफ मामला: गौमांस ही लेकर जा रहा था BJP नेता, जांच में हुई पुष्टि

0
>

महाराष्ट्र में तीन दिन पहले कथित गोरक्षकों ने जिस मुस्लिम शख्स की पिटाई की थी उसके पास गौमांस ही था। शनिवार(15 जुलाई) को यह जानकारी पुलिस ने दी। पुलिस ने बताया कि 12 जुलाई को सलीम शाह (34) को पीटने के आरोप में उसने चार लोगों को गिरफ्तार किया था। गिरफ्तार किए गए लोगों में मोरेश्वर तांडुलकर, अश्विन उइक, जनार्दन चौधरी और रामेश्वर तायवड़े शामिल है।

बता दें कि सलीम भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) की कटोल इकाई का सदस्य था और जो मांस उसके पास था, उसे जांच के लिये फॉरेंसिक प्रयोगशाला भेजा गया था। पुलिस अधीक्षक (नागपुर देहात) शैलेश बल्कावड़े ने बताया कि प्रयोगशाला की रिपोर्ट में इसकी पुष्टि हुई है कि यह बीफ ही था। उन्होंने बताया कि कानून के मुताबिक पुलिस शाह के खिलाफ कार्रवाई शुरू करेगी।

Also Read:  अरुण जेटली के वित्तीय रिकॉर्ड मांगने वाली अरविंद केजरीवाल की याचिका को दिल्ली हाईकोर्ट ने किया खारिज

बीफ की जानकारी मिलते ही बीजेपी ने सलीम को अल्पसंख्यक मोर्चे के सदस्य के पद से हटा दिया। इस बात की जानकारी बीजेपी नागपुर की शहरी युनिट के अध्यक्ष राजीव पोडार ने दी। राजीव ने कहा कि उनको यह सब सुनकर काफी हैरानी हुई। राजीव ने सलीम के खिलाफ सख्त कार्रवाई की भी मांग की।

पुलिस ने बताया है कि उन्होंने केस दर्ज कर लिया है और सलीम के हॉस्पिटल से डिस्चार्ज होने पर उसको गिरफ्तार भी किया जा सकता है। सलीम की गर्दन और चेहरे पर काफी चोट आई हैं। सलीम पिछले 12 सालों से बीजेपी के अल्पसंख्यक मोर्चे के अध्यक्ष थे।

Also Read:  रयान स्कूल हत्याकांड: स्कूल के मालिकों की गिरफ्तारी पर एक दिन की लगी रोक, पुलिस CEO पिंटो से कर रहीं है पूछताछ

बता दें कि महाराष्ट्र के नागपुर जिले में सलीम इस्माइल शाह की गोमांस ले जाने के संदेह में कुछ लोगों ने सरेराह बुरी तरह पिटाई कर दी। यह घटना बुधवार (12 जुलाई) को नागपुर के जलालखेड़ा में हुई। सलीम बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चा के का सदस्य है और वह पार्टी से काफी दिनों से जुड़ा हुआ है।

Also Read:  नोएडा: गर्भवती कर्मचारी के छुट्टी मांगने पर नौकरी से निकाला, मेनका गांधी ने महिला से मांगा ब्योरा

पिटाई के दौरान सलीम लगातार चिल्ला रहा था कि जो मीट मिला वह बीफ नहीं था। वह बीजेपी के सदस्य हैं इस बात से भी वे लोग कथित तौर पर परिचित नहीं थे। इस घटना की विपक्षी दल कांग्रेस और एनसीपी के अलावा राज्य में साारूढ़ बीजेपी की सहयोगी दल शिवसेना ने भी कड़ी निंदा की थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here