आप में घमासान: नाराज कुमार विश्वास को मनाने उनके घर पहुंचे केजरीवाल, बोले- उम्मीद है उन्हें मना लेंगे

0

आम आदमी पार्टी (आप) के ओखला से विधायक अमानतुल्ला खान द्वारा बीजेपी से मिलीभगत का आरोप लगाए जाने के बाद पार्टी के वरिष्ठ नेता कुमार विश्वास और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के बीच टकराव बढ़ता जा रहा है। इस बीच नाराज कुमार विश्वास को मनाने की कोशिशें तेज हो गई है।

फोटो: The Indian Express

मंगलवार(2 मई) देर रात मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, मनीष सिसोदिया और संजय सिंह के साथ विश्वास को मनाने उनके घर पहुंचे। मीटिंग के बाद सभी नेता एक साथ बाहर निकले और एक ही गाड़ी में बैठ कर चले गए। मुलाकात के बाद मीडिया से बातचीत में पार्टी के संयोजक केजरीवाल ने कहा कि कुमार विश्‍वास अभी नाराज हैं, उम्‍मीद है उन्‍हें मना लेंगे।

कुमार विश्वास ने बोला हमला

इससे पहले ‘आप’ विधायक अमानतुल्ला खान की ओर से लगाए गए आरोपों पर कुमार विश्वास ने मंगलवार को पत्रकारों से बातचीत में ‘आप’ पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि मैं मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री या प्रदेश अध्यक्ष नहीं बनना चाहता। मगर पार्टी की गलत नीति पर लगातार सवाल उठाता रहूंगा।

विश्वास ने कहा कि अमानतुल्ला खान तो महज मुखौटा हैं। उनके पीछे कोई और बोल रहा है। उन्हें कोई पद नहीं चाहिए मगर जब जरूरत होगी तो वह बोलेंगे। कुमार विश्वास ने वसुंधरा स्थित अपने आवास पर पत्रकार वार्ता में सवाल उठाया कि दूसरी पार्टी से कोई विधायक यदि अरविंद केजरीवाल या मनीष सिसोदिया के खिलाफ बयान देता तो 10 मिनट में पार्टी से बाहर कर दिया जाता, मगर उनके मामले में ऐसा नहीं हो रहा है।

कुमार ने कहा कि लगातार छह हार के बाद मैंने सवाल उठाए तो मेरे खिलाफ साजिशें होने लगीं। कुमार ने हुए कहा कि मैंने केजरीवाल और सिसोदिया को भी बता दिया है कि मैं मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री या किसी पार्टी का अध्यक्ष बनने के लिए नहीं जुड़ा था।

इस दौरान कुमार भावुक हो गए और रुंधे गले से कहा कि मैं अनुरोध करता हूं कि मैं कुमार विश्वास रहूंगा। अरविंद मुख्यमंत्री रहेंगे, मगर उस कार्यकर्ता का सम्मान रखिए, जिसकी कोई पहचान नहीं है। जो पार्टी के लिए सड़क पर खड़ा है। जिसने आंदोलन के लिए नौकरी छोड़ी। चने खाकर काम चलाया। इतने कष्ट सहे।

विश्वास ने कहा कि मसला देश और सेना का होगा तो मैं बोलूंगा। अपने वीडियो के लिए किसी से काफी नहीं मांगूगा। कुमार ने कहा कि मैं अपनी आवाज बंद नहीं करूंगा। सैनिकों की ज्यादती पर जारी किया गया मेरा वीडियो कुमार विश्वास की आवाज नहीं थी, वह देश की आवाज थी।

सिसोदिया का पलटवार

Kumar Vishwas

इसके बाद मोर्चा संभालते हुए उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने प्रेस कांफ्रेंस कर कुमार पर पलटवार किया। सिसोदिया ने कहा कि कुमार विश्वास के बयान से बहुत दुख हुआ है। उन्होंने कहा कि कुमार मीडिया में बयानबाजी कर पार्टी को नुकसान पहुंचा रहे हैं। उन्हें अपनी बात पार्टी के मंच पर कहनी चाहिए।

सिसोदिया ने कहा कि यह पार्टी न तो अरविंद केजरीवाल की है, न मेरी और न कुमार विश्वास की है, बल्कि यह लाखों कार्यकर्ताओं की है। उन्होंने कहा कि कुमार टीवी पर बयान दे रहे हैं, उन्हें PAC में आकर बोलना चाहिए, ऐसा करने से कार्यकर्ताओं का मनोबल टूटता है।

सिसोदिया ने कहा कि वह (कुमार विश्वास) PAC में बात नहीं करते। टीवी पर बयानबाजी करने से किसे फायदा होता है यह सबको मालूम है। उन्होंने कहा कि हम उनसे (कुमार विश्वास से) मिलने गए थे, फिर भी वह मीटिंग के लिए नहीं आए।

क्या है पूरा मामला?

दरअसल, नगर निगम चुनाव(MCD ) में मिली हार के बाद कुमार विश्वास ने पार्टी नेतृत्व पर सवाल उठाए थे, जिसके बाद अमानतुल्ला ने विश्वास पर निशाना साधा था। अमानतुल्लाह खान ने रविवार(30 अप्रैल) को कुमार विश्वास पर पार्टी तोड़ने और हड़पने के आरोप लगाते हुए विश्वास पर भारतीय जनता पार्टी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के इशारे पर काम करने का आरोप लगाया था।

साथ ही अमानतुल्लाह ने विश्वास को बीजेपी और आरएसएस का ‘एजेंट’ तक करार दे दिया था। खान ने कहा कि कुमार विश्वास ने अपने जन्मदिन पर अजित डोभाल और आरएसएस कार्यकर्ताओं को बुलाया था। खान ने आरोप लगाया था कि विश्वास आप को तोड़ना चाहते हैं।

इसके बाद से ही अमानतुल्ला पार्टी के कई विधायकों के निशाने पर आ गए थे और उन्हें पॉलिटिकल अफेयर्स कमिटी (पीएसी) से बाहर जाना पड़ा था। गौरतलब है कि कुमार विश्वास भी पीएसी के सदस्य हैं।

 

 

Pizza Hut

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here