‘आडवाणी जी ने पता नही कौन सी टिकट करवा ली, 90 साल से वेटिंग ही है, कंफर्म ही नही हो रही’

0

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन(NDA) की ओर से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार का सोमवार (19 जून) को एलान कर दिया गया। राष्ट्रपति चुनाव से पहले सोमवार को भारतीय जनता पार्टी संसदीय बोर्ड की बैठक हुई है। जिसके बाद भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) ने सबको चौंकाते हुए बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद को सर्वोच्च संवैधानिक पद के लिए राजग का उम्मीदवार बनाने का एलान कर दिया।

फाइल फोटो।

दलित-शोषित समाज की आवाज बुलंद करके बीजेपी में ऊंचा मुकाम हासिल करने वाले रामनाथ कोविंद को बीजेपी-नीत एनडीए ने राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाकर एक ‘मास्टर स्ट्रोक’ खेला है। ऐसा इसलिये, क्योंकि ज्यादातर विपक्षी दल देश के सर्वोच्च संवैधानिक पद पर किसी दलित को बैठाने का विरोध नहीं करना चाहेंगे।

रामनाथ कोविंद को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाए जाने के बाद बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी की राष्ट्रपति भवन जाने की आखिरी उम्मीद भी टूट गई है। विशेष तौर से आडवाणी यही उम्मीद पाले बैठे थे कि पार्टी खासतौर से पीएम मोदी उनको राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार तय करवा देंगे, लेकिन ऐसा हुआ नहीं। हालांकि, पिछले कई दिनों से इस बात के कयास भी लगाए जा रहे थे कि पीएम मोदी, आडवाणी को गुरु दक्षिणा दे सकते हैं।

लेकिन बीजेपी ने रामनाथ कोविंद को एनडीए की तरफ से राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार घोषित कर सबको चौंका दिया दिया। हालांकि, बीजेपी में भले ही आडवाणी को दरकिनार करने को लेकर चर्चा न हो, लेकिन सोशल मीडिया पर आडवाणी के प्रति भारी संख्या में लोग हमदर्दी जता रहे हैं। हालांकि, इस हमदर्दी के जरिए लोग आडवाणी पर व्यंग्य बाण भी छोड़ रहे हैं।

एक यूजर्स ने लिखा, ‘आडवाणी जी ने पता नही कौन सी टिकट करवा ली, 90 साल से वेटिंग ही है, कंफर्म ही नही हो रही।’ वहीं एक अन्य ने लिखा, ‘आडवाणी जी का एक बार फिर टिकट क्लीयर नही हुआ, वेटिंग वेटिंग’। इसके अलावा आचार्य प्रमोद ने लिखा, ‘राजनीति अपनी जगह है, लेकिन आडवाणी जी का इतना अपमान ठीक नहीं। एक छोटी सी भूल की इतनी बड़ी सज़ा..काश वो अटल जी की बात मान लेते।’

लोगों के हमदर्दी के साथ-साथ व्यंग्य बाण भी छोड़े:-

https://twitter.com/shuklapinku/status/877032805619834881

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here