कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल पर हमला करने वाले तरूण गुर्जर ने बताया क्यों मारा थप्पड़

0

कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल को शुक्रवार (19 अप्रैल) को गुजरात के सुरेन्द्रनगर में एक चुनावी सभा के दौरान एक शख्स ने अचानक मंच पर चढ़कर उन्हें थप्पड़ मार दिया। थप्पड़ मारने वाले को तुरंत ही गिरफ्तार कर लिया गया। थप्पड़ मारने वाले शख्स की पहचान तरूण गुर्जर के रुप में हुई। तरुण ने बताया कि, उनसे हार्दिक को इसलिए थप्पड़ मारा क्योंकि उनके आंदोलन के समय उसकी पत्नी गर्भवती थी और उसे आंदोलन के चलते परेशानी का सामना करना पड़ा था।

हार्दिक पटेल

हार्दिक पटेल को मंच पर थप्पड़ मारने वाले शख्स को वहां पर मौजूद लोगों ने पकड़ लिया, जिसके बाद कथित तौर पर उसकी पिटाई कर दी। जिससे वह गंभीर रुप ले घायल हो गया, जिसके बाद उसे इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। अस्पताल में भर्ती तरुण ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि, पाटीदार आंदोलन के वक्त मेरी पत्नी गर्भवती थी। उसका अस्पताल में इलाज चल रहा था। उस दौरान मुझे कई परेशानियों का सामना करना पड़ा। तभी मैंने तय कर लिया था कि इस आदमी को मारूंगा। इस आदमी को किसी भी तरह सबक सिखाऊंगा।

समाचार एजेंसी ANI के मुताबिक तरुण ने आगे बताया कि, अहमदाबाद में हार्दिक की रैली के दौरान मैं अपने बच्चे के लिए दवाएं लेने गया था। इस दौरान सब कुछ बंद था। वह सड़कें बंद कर देता है, वह जब चाहता है गुजरात बंद कर देता है। वह कौन है? वह गुजरात का हिटलर है?

एसपी सुरेंद्रनगर महेंद्र बागडिया ने बताया कि, तरुण गज्जर किसी पार्टी से जुड़ा नहीं है, वह एक आम आदमी है। कानून अपना काम कर रहा है।

बता दें कि आज हार्दिक पटेल ने मंच पर जैसे ही अपना भाषण देना शुरू किया, ये शख्स अचानक मंच पर आया और उसने उन्हें थप्पड़ मार दिया। जिसके बाद यहां मौजूद पार्टी कार्यकर्ताओं ने उस व्यक्ति को पकड़ लिया और उसकी पिटाई कर दी। इसके बाद अज्ञात व्यक्ति को पुलिस के हवाले कर दिया गया। घटना के समय हार्दिक सुरेंद्रनगर जिले के वढवाण तालुका के बलदाणा गांव में कांग्रेस की जन आक्रोश रैली को संबोधित कर रहे थे।

इस घटना के बाद भी हार्दिक ने अपना संबोधन जारी रखा। वहीं इस घटना के बाद हार्दिक पटेल ने बीजेपी को हमले के लिए दोषी ठहराया। हार्दिक ने कहा, ‘बीजेपी मुझ पर हमले करवा रही है। वह चाहती है कि मुझे मार दिया जाए। इन हमलों पर हम चुप नहीं रहेंगे।’

Previous article2019 विश्व प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक में भारत दो पायदान गिरा, 180 देशों में 140वां स्थान
Next articleफर्जी खबरों के सहारे आतंकी आरोपियों का बचाव करने वाले एंकर को लोगों ने बताया अर्नब गोस्वामी का हिंदी वर्जन