अलवर हत्याकांड मामला: मॉब लिंचिंग के शिकार हुए पहलू खान मामले में 6 आरोपी बरी, कोर्ट के फैसले से भड़कीं अभिनेत्री स्वरा भास्कर

0

राजस्थान के अलवर के बहरोड़ थाना क्षेत्र में दो साल पहले कथित गोरक्षकों द्वारा पीट-पीट कर मौत के घाट उतारे गए डेरी किसान पहलू खान की हत्या मामले में अलवर जिला न्यायालय ने बुधवार को अपना फैसला सुनाते हुए सभी छह आरोपियों को बरी कर दिया। पहलू खान मामले में कोर्ट का फैसला आने के बाद से ही चारों तरफ से रिएक्शन भी आने शुरू हो गए हैं।

स्वरा भास्कर

सोशल मीडिया यूजर्स के साथ कई बॉलीवुड सितारों ने भी कोर्ट के इस फैसले की निंदा करते हुए अपनी प्रतिक्रियाए दी है। बॉलीवुड अभिनेत्री स्वरा भास्कर ने पहलू खान केस पर कोर्ट का निर्णय सुनने के बाद इसे शर्मनाक बताया। स्वरा भास्कर ने ट्वीट कर लिखा, ‘बेहद शर्मनाक है। यह लिंचिंग पूरी तरह कैमरे में कैद हुई है। हम ऐसे राज्य में रहते हैं, जो चारों तरफ से अराजकता से भरपूर है। कानून, संविधान और यहां तक कि सारे सबूत अर्थहीन नजर आ रहे हैं। अंधकार युग है यह।’

बॉलीवुड डायरेक्टर ओनिर ने भी पहलू खान केस पर कोर्ट के निर्णय के बाद अपना ट्वीट किया। अपने ट्वीट में उन्होंने लिखा, ‘इन दिनों मुझे समझ नहीं आ रहा है कि उदास होऊं, गुस्सा करूं या आशाहीन महसूस करूं।’

अदालत का फैसला आने के बाद राज्य सरकार ने कहा कि वह इस फैसले को उच्च न्यायालय में चुनौती देगी। अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) राजीव स्वरूप ने समाचार एजेंसी पीटीआई (भाषा) से कहा,‘राज्य सरकार ने निर्णय लिया है कि पहलू खान प्रकरण में राजस्थान उच्च न्यायालय में अपील की जाएगी।’ बचाव पक्ष के वकील हुकुम चंद शर्मा ने अदालत के फैसले को ऐतिहासिक बताते हुए कहा, ‘‘यह उन लोगों के मुंह पर करारा तमाचा है, जो इस मामले की आड़ में अपनी राजनीतिक रोटियां सेकने की कोशिश कर रहे थे।’

बता दें कि, गोतस्करी के शक में 1 अप्रैल 2017 को कथित गोरक्षकों की भीड़ द्वारा पहलू खान की जमकर पिटाई की गई थी, डेयरी बिजनस करने वाले पहलू की 2 दिन बाद मौत हो गई थी। जब यह घटना हुई थी तब राजस्‍थान में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सरकार थी और उस वक्‍त राज्य की मुख्‍यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया थीं।

हरियाणी निवासी पहलू खान की भीड़ हत्या के इस मामले में कुल नौ आरोपियों में तीन नाबालिग हैं, जिनका मामला किशोर न्यायालय में चल रहा है। बालिग आरोपियों में विपिन यादव, रविंद्र कुमार, कालूराम, दयानंद, योगेश कुमार और भीम राठी शामिल थे, जिन्हें अदालत ने बुधवार को बरी कर दिया।

Previous articlePopulation explosion against patriotism, Article 370, foreign holidays vs domestic tourism: What PM Modi said in his I-Day speech
Next articleIAS topper Tina Dabi Khan reveals her spiritual side this Eid