एक और जवान ने वीडियो जारी कर अधिकारियों पर उठाए सवाल, कहा- ‘कुछ अफसरों ने जवानों को गुलाम समझ रखा है’

0

नई दिल्ली। भारतीय सेना में गनर रॉय मैथ्‍यू की मौत का मामला अभी ठंडा ही नहीं हुआ है कि एक और जवान का वीडियो सामने आ गया है। सैनिक ने इस वीडियो के जरिए एक बार फिर सेना में मौजूद बड़ी या फिर सहायक सिस्टम पर सवाल उठाए गए हैं।

वीडियो में जवान ने कहा कि सेना के कुछ अफसरों ने अपने जवानों को अपना गुलाम समझ कर रखा हुआ है। उसने कहा कि जवानों को सबकुछ मजबूरी में करना पड़ता है और जो मुंह खोलता है, मारा जाता है, क्योंकि सेना का संविधान बहुत ही सख्त है।

सोशल मीडिया पर आए इस वीडियो में जवान का आरोप है कि निर्धारित समय से दो दिन ज्यादा छुट्टी लेने पर उन्हें जबरदस्ती ‘सहायक’ के तौर पर काम करवाया गया। वीडियो पोस्ट करने वाले शख्स ने अपना नाम सिंधव जोगीदास बताया है।

वीडियो में जवान सिंधव जोगीदास ने आरोप लगाया है कि बहुत सारी यूनिटों में खाना दिया जाता है तो सिर्फ जिंदा रखने के लिए। सबसे सस्ती सब्जी, सबसे सस्ता फ्रूट, सबसे घटिया खाना दिया जाता है। जोगीदास जो कि एक सिपाही हाउसकीपर है यानी उसका जिम्‍मा साफ-सफाई के काम का है।

जवान का आरोप है कि सेना द्वारा जारी किए गए वॉट्सएप नंबर पर शिकायत करने पर भी कोई जवाब नहीं मिला। इसके बाद उन्होंने सेना, रक्षा मंत्रालय और यहां तक कि प्रधानमंत्री कार्यालय में भी इसके खिलाफ पत्र लिखा, लेकिन इसके बाद उनके खिलाफ ‘कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी’ शुरू कर दी गई।

उन्‍होंने आरोप लगाया है कि जो भी सुविधाएं जवानों को दी गई हैं, वह सिर्फ नजरों को धोखा देने के लिए हैं। उन्‍होंने अपने वीडियो में कहा है कि जवानों को निचले स्‍तर का खाना दिया जाता है जो सिर्फ जिंदगी बचाने के काम आता है।

सैनिक ने आरोप लगाया कि कुछ अधिकारी जवानों को गुलाम बनाकर रखते हैं, लेकिन कोई भी ऑफिसर्स के खिलाफ कुछ बोल नहीं सकता है। जोगीदास ने बताया कि सहायक की नौकरी करने से मना करने पर अफसरों ने उन्हें परेशान किया और सात दिन की आर्मी कस्टडी में रखा।

Previous articleहाफिज सईद के साथ प्रधानमंत्री मोदी की वायरल होने वाली तस्वीर के पीछे की सच्चाई
Next articleINDvsAUS: भारत ने ऑस्ट्रेलिया को 75 रनों से हराया, सीरीज 1-1 से बराबर