कानपुर: सामुहिक दुष्कर्म नाबालिग पीड़िता की डिलीवरी के दौरान मौत, आरोपी सरकारी अधिकारी गिरफ्तार

0

देश में महिलाओं के खिलाफ लगातार बढ़ते अपराध रुकने का नाम ही नहीं ले रही है। इस बीच, उत्तर प्रदेश के कानपुर में एक नाबालिग लड़की के साथ सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक लेखपाल (राजस्व अधिकारी) को गिरफ्तार किया गया है। पीड़िता की मौत मंगलवार की रात को मृत बच्चे को जन्म देने के दौरान हो गई थी। लेखपाल को गिरफ्तार करने के बाद उसे गुरुवार को निलंबित कर दिया गया।

कानपुर

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, अक्टूबर में लेखपाल रंजीत बरवार, करण और दो अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ 15 वर्षीय लड़की के साथ सामूहिक दुष्कर्म के लिए आईपीसी और पॉक्सो अधिनियम की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया था। आरोपित ने गर्भवती होने पर पीड़िता को जान से मारने की धमकी दी थी।

पुलिस ने आरोपी लेखपाल के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की थी। सोमवार की रात लड़की की तबीयत बिगड़ गई जिसके बाद परिजन उसे मंगलवार सुबह शिवराजपुर सीएचसी ले गए। प्राथमिक उपचार के बाद डॉक्टरों ने लड़की को एलएलआर के मैटरनिटी एंड चाइल्ड केयर विंग में रेफर कर दिया, जहां उसने एक मृत बच्चे को जन्म दिया और कुछ देर बाद उसकी मौत हो गई।

गुरुवार को एसडीएम गुलाब चंद्र अग्रहरी ने आरोपी लेखपाल को निलंबित कर दिया था, साथ ही कहा कि पुलिस से उसकी गिरफ्तारी की सूचना मिलने के बाद कार्रवाई की गई है।

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार भले ही महिलाओं की सुरक्षा को लेकर लाख दावे कर रही हो, लेकिन हकीकत इससे काफी दूर है। उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था सवालों के घेरे में है। राज्य से रोज मासूम बच्चियों और महिलाएं से रेप व छेड़छाड़ की कोई न कोई घटनाएं सामने आती ही रहती है, जो चीख-चीखकर बता रही हैं कि यूपी में महिलाएं कहीं भी सुरक्षित नहीं है।

[Please join our Telegram group to stay up to date about news items published by Janta Ka Reporter]

Previous articleमुरादाबाद: लड़कियों से छेड़छाड़ करने के आरोप में 3 लड़कों को पेड़ से बांधकर घंटों तक पीटा, तीन गिरफ्तार
Next articleकर्नाटक: कांग्रेस विधायक केआर रमेश कुमार ने रेप को लेकर दिए आपत्तिजनक बयान पर मांगी माफी