उत्तर-पूर्वी दिल्ली हिंसा: निलंबित AAP पार्षद ताहिर हुसैन के भाई शाह आलम को क्राइम ब्रांच ने हिरासत में लिया, पूछताछ जारी

0

संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक पंजीकरण (एनआरसी) को लेकर उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हुई हिंसा दौरान खुफिया ब्यूरो (आईबी) के कर्मचारी अंकित शर्मा की हत्या के मामले में क्राइम ब्रांच ने आम आदमी पार्टी (AAP) के निलंबित पार्षद ताहिर हुसैन के भाई शाह आलम को हिरासत में ले लिया है। फिलहाल, पुलिस उससे हिंसा से जुड़े कई मामलों में पूछताछ कर रही है। शाह आलम पर चांदबाग हिंसा में शामिल होने का आरोप है। बता दें कि, उत्तर-पूर्वी दिल्ली के कई इलाकों में भड़की हिंसा में 53 लोगों की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए।

ताहिर हुसैन

AAP के निलंबित पार्षद ताहिर हुसैन को उत्तर पूर्वी दिल्ली की हाल की हिंसा के दौरान खुफिया ब्यूरो (आईबी) के कर्मचारी अंकित शर्मा की कथित रूप से हत्या करने के मामले में बीते शुक्रवार सात दिनों के लिए पुलिस हिरासत में भेजा गया था। अंकित शर्मा उत्तर पूर्वी दिल्ली के दंगा प्रभावित चांद बाग क्षेत्र में हुसैन के घर के समीप नाले में मृत मिले थे। उनके परिवार ने शर्मा की हत्या के पीछे हुसैन का हाथ होने का आरोप लगाया है। उनके खिलाफ तीन मामले दर्ज किए गए हैं।

बता दें कि, संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक पंजीकरण (एनआरसी) को लेकर उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हुई हिंसा ने कई लोगों की जान ले ली। कई लोग बुरी तरह से घालय हो गए, जिसका अभी भी अस्पतालों में इलाज चल रहा है। फिलहाल, स्थिति तो सामान्य हो रही है लेकिन हिंसा के दौरान हुई भयावहता सामने आ रही है। हिंसा के दौरान उपद्रवियों ने सैकड़ों घरों और दुकानों को आग के हवाले कर दिया था।

भड़की हिंसा में मरने वालों की संख्या बढ़कर 53 हो गई है। कई इलाकों में भड़की हिंसा में 56 पुलिसकर्मियों समेत करीब 200 से अधिक लोग घायल बताए जा रहे हैं। इस हिंसा में हेड कांस्टेबल रतनलाल और इंटेलिजेंस ब्यूरो के अफसर अंकित शर्मा की भी मौत हो गई।

Previous articleAllahabad High Court directs Yogi Adityanath government to remove hoardings with names and addresses of anti-CAA protesters, says it violates ‘Article 21 of the Constitution’
Next articleAmerican TV host John Oliver lashes out at ‘die-hard Modi supporter’ Arnab Goswami, asks, ‘Who the fu** you think you are talking to?’