अपनी ही सरकार पर भड़के BJP सांसद शत्रुघ्न सिन्हा, कहा- “रक्षा मंत्रालय से राफेल के दस्तावेज चोरी होना बड़े ‘शर्म’ की बात”

0

पिछले काफी समय से अपने बयानों से अपनी ही पार्टी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को असहज करने वाले सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने एक बार फिर अपनी ही सरकार के खिलाफ हल्ला बोला है। उन्होंने राफेल डील से जुड़े दस्तावेज के गायब होने को बहुत शर्मनाक और दुखद बताया है। बीजेपी सांसद ने हैरानी जताते हुए कहा कि यह (राफेल की फाइल) गायब भी हुई तो रक्षा मंत्रालय से…। यह चौंकाने वाली बात है।

बीजेपी नेतृत्व से नाराज चल रहे अभिनेता से राजनेता बने सिन्हा ने गुरुवार को एक बार फिर केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि राफेल मामले से जुड़े दस्तावेज रक्षा मंत्रालय से चोरी हो जाना शर्म की बात है। उन्होंने जल्द ही बीजेपी छोड़ने के संकेत भी दिए। पटना साहिब से बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के आवास पहुंचकर उनसे मुलाकात की। दोनों के बीच करीब डेढ़ घंटे तक बातचीत हुई। वहां से निकलने के बाद पत्रकारों से मुखातिब सिन्हा ने बीजेपी छोड़ने के बावत पूछे जाने पर कहा, “अब तो घड़ी नजदीक ही आ रही है। इंतजार कीजिए, परिणाम मिलेंगे और अच्छे मिलेंगे।”

‘बिहारी बाबू’ के नाम से मशहूर फिल्म अभिनेता ने राफेल के मुद्दे पर कहा, “इस मामले की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में चल रही है। इस पर ज्यादा कुछ तो नहीं बोल सकता, लेकिन इतना तो कह ही सकता हूं कि इतने अति महत्वपूर्ण मामले में दस्तावेज का रक्षा मंत्रालय से चोरी हो जाना शर्म की बात है। दुख की बात है।” ‘शॉटगन’ सिन्हा ने अपने अंदाज में कहा, “अली बाबा 40 चोर’ की तरह दस्तावेज चोरी होने की घटना की निंदा करता हूं।”

बता दें कि राफेल डील से जुड़ी फाइल गायब होने पर सियासी उबाल के बीच इस मामले में सुप्रीम कोर्ट में भी गुरुवार को सुनवाई हुई। सुनवाई के दौरान अटॉर्नी जनरल ने सरकार की तरफ से कोर्ट को बताया कि जिन दस्तावेजों पर वकील प्रशांत भूषण भरोसा कर रहे हैं, वे रक्षा मंत्रालय से चुराए गए हैं। अटॉर्नी जनरल ने कहा कि राफेल डील से जुड़े दस्तावेजों को सार्वजनिक करने वाला सरकारी गोपनीयता कानून के तहत और अदालत की अवमानना का दोषी है।

भारतीय सेना द्वारा पाकिस्तान में एयर स्ट्राइक किए जाने का सबूत मांगे जाने से संबंधित प्रश्न पर पूर्व केंद्रीय मंत्री शत्रुघ्न सिन्हा ने इशारों ही इशारों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा, “ताली सरदार को तो गाली भी सरदार को ही खानी पड़ती है।” उन्होंने कहा, “पार्टी के अध्यक्ष ने बिना किसी सबूत के 250 आतंकवादियों के मरने की बात कही। इसके बाद कई मंत्री अलग-अलग आंकड़े दे रहे हैं। कोई 300, कोई साढ़े 300 सौ कह रहे हैं। इतना ही नहीं, शहीदों के परिवार भी सबूत खोज रहे हैं। सरकार को सेना का मनोबल बढ़ाने के लिए भी सबूत देना चाहिए। इसमें हर्ज क्या है?”

राबड़ी देवी से मुलाकात के बारे में पूछे जाने पर सिन्हा ने कहा, “मैं राबड़ी देवी और तेजस्वी यादव से मिलने आया था, क्योंकि ये लोग हमारे परिवार की तरह हैं और इनसे हमारा परिवारिक नाता है।” क्या आरजेडी के टिकट पर चुनाव लड़ेंगे? इस सवाल पर सांसद ने कहा, “जल्द ही निर्णय लूंगा।” (आईएएनएस और भाषा इनपुट के साथ)

Previous article“Withdraw that remark Mr. Attorney. I am a person in my own right: Indira Jaising admonishes AG in Supreme Court for ‘sexist statement’
Next articleलोकसभा चुनाव: सोनिया गांधी रायबरेली और राहुल गांधी अमेठी से होंगे उम्मीदवार, तारीख का ऐलान होने से पहले ही 15 उम्मीदवारों की लिस्ट जारी कर कांग्रेस ने खेला मास्टर स्ट्रोक