योगी के दौरे से पहले अस्पताल में मरीजों के लिए लगवाए 20 कूलर, CM के जाते ही सब उठा ले गए अफसर

0

उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार बनने के बाद गरीबों के अपमान की लगातार खबरें आ रही हैं। जिस वजह से विपक्ष योगी सरकार पर गरीब विरोधी होने का आरोप लगा रही है। इन आरोपों को तब और बल मिला जब योगी सरकार को को खुश करने के लिए अधिकारियों ने इलाहाबाद के अस्तपाल में मरीजों के लिए किराए पर 20 कूलर लाकर लगवाए और सीएम योगी के जाते ही सब उठाकर लेकर चले गए।

दरअसल, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रविवार(4 जून) को इलाहाबाद के स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल का दौरा करने पहुंचे। इलाहाबाद जिला प्रशासन ने सीएम योगी के दौरे की जानकारी मिलते ही आनन-फानन में एक दिन पहले शनिवार रात को एक टेंट हाउस से 20 कूलर किराए पर ले कर मरीजों के वार्ड में लगवा दिए गए।

लेकिन जैसे ही रविवार को सीएम योगी निरीक्षण खत्म कर अस्पताल से गए, अधिकारियों ने गरीबी का मजाक उड़ाते हुए अस्पताल से सभी कूलर हटा लिए। जिसके बाद अस्पताल में भर्ती सभी मरीज एक बार फिर गर्मी में तड़पते रहे। पत्रकारों द्वारा सवाल किए जाने पर पता चला कि कूलर स्थानीय टेंट हाउस से किराये पर लेकर लगाए गए थे।

इतना ही नहीं योगी को किराए के कूलर की भनक न लगे, इसके लिए प्रशासन ने कूलर पर लिखे टेंट हाउस के नाम को ढंककर उसकी जगह जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन का नाम चिपका दिया गया। सीएम का दौरा जैसे ही खत्म हुआ, कूलर को वापस टेंट हाउस को भेज दिया गया था।

सबसे आश्चर्य की बात यह है कि जिस टेंट हाऊस से सभी कूलर किराया पर लिया गया था, उसके मालिक ने भी ऑन कैमरा स्वीकार किया है कि उसने दो सौ रुपये रोजाना के हिसाब से कूलर किराया पर दिया था। इतना ही नहीं अपने इस कारनामे को छिपाने के लिए प्रशासन ने मीडिया को भी अस्पताल के अंदर जाने से भी रोक लगा दिया था।

इस मामले में इलाहाबाद के जिलाधिकारी की प्रतिक्रिया जानने के लिए ‘जनता का रिपोर्टर’ ने फोन किया, लेकिन उनसे संपर्क नहीं हो पाया। जिलाधिकारी के पीए ने बताया डीएम संजय कुमार अभी तहसील दिवस की वजह से जनता की परेशानियों को लेकर सुनवाई कर रहे हैं। उनसे शाम को ही बात हो पाएगी। वहीं, CMO का कहना है कि जांच रिपोर्ट आने के बाद ही कोई प्रतिक्रिया देंगे।

शहीद के घर से एसी-सोफा उठा ले गए अधिकारी

बता दें कि इससे पहले ऐसे ही योगी के अधिकारियों ने एक शहीद के परिवार के साथ भद्दा मजाक किया था। दरअसल, जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान की बर्बर कार्रवाई में यूपी के रहने वाले बीएसएफ के हेड कॉन्स्टेबल प्रेमसागर पिछले दिनों पुंछ में पाकिस्तान की बॉर्डर एक्शन टीम (बीएटी) के हमले में शहीद हो गए थे।

शहीद होने के 11 दिन बाद योगी आदित्यनाथ प्रेमसागर के परिजन से मिलने देवरिया के टिकमपार गांव पहुंचे। सीएम योगी के दौरे के 24 घंटे पहले ही अधिकारियों ने शहीद के घर का नक्शा ही बदल दिया। जिस कमरे में सीएम योगी शहीद के परिजनों से मिलने वाले थे, उसमें फौरन एसी लगवाया गया। साथ ही सोफे और कालीन बिछाए गए। लेकिन सीएम योगी के जाने के आधे घंटे के बाद ही अधिकारी द्वारा सब कुछ हटा लिया गया।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here