उत्तर प्रदेश के पूर्व CM स्व. एनडी तिवारी के बेटे रोहित शेखर की हत्या के आरोप में पत्नी अपूर्वा शुक्ला गिरफ्तार

0

उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री दिवंगत नारायण दत्त तिवारी के बेटे रोहित शेखर तिवारी हत्याकांड से जल्द ही पर्दा उठने वाला है। इस मामले में जांच में मिले सुबूतों के आधार पर रोहित शेखर तिवारी की संदिग्‍ध हालातों में हुई मौत के बाद पुलिस ने उनकी पत्नी अपूर्वा शुक्ला को गिरफ्तार कर लिया है। बता दें रविवार को पुलिस ने अपूर्वा शुक्ला और घर के दो नौकरों को हिरासत में लिया था। शनिवार रात को भी क्राइम ब्रांच के अधिकारियों ने अपूर्वा से करीब 8 घंटे तक पूछताछ की थी।

File Photo: PTI

रोहित शेखर तिवारी का इसी महीने 16 अप्रैल को निधन हो गया था। मैक्स अस्पताल ने बताया था कि रोहित को मृत दशा में उसके यहां लाया गया था। उनकी मां उज्ज्वला तिवारी भी इसी अस्पताल में भर्ती थीं। उन्हें उनके बेटे के अस्वस्थ होने और नाक से खून बहने की खबर घर से मिली थी। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से खुलासा हुआ है कि शेखर तिवारी की मौत अप्राकृतिक थी। पुलिस सूत्रों ने बताया कि रोहित की हत्या हुई है, किसी ने तकिए या दूसरी चीज से उसका मुंह दबाकर उसे मौत के घाट उतार दिया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, तीन दिन तक हुई पूछताछ के बाद अपूर्वा ने स्वीकार कर लिया है कि घटना की रात रोहित से झगड़ा हुआ था। दोनों ने एक-दूसरे का गला दबाया था। इसमें हो सकता है कि जोर से गला दब गया हो और सोने के दौरान रोहित की मौत हो गई हो। हालांकि, क्राइम ब्रांच अपूर्वा की इस बात पर यकीन नहीं कर रही है। आशंका है कि अपूर्वा ने हत्या की धाराओं से बचने के लिए यह कहानी बताई हो, ताकि मामला गैर-इरादतन हत्या का बन जाए।

इससे पहले आई मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मौत से कुछ दिन पहले रोहित शेखर और उनकी पत्नी अपूर्वा के बीच काफी झगड़ा हुआ था। झगड़े के बाद अपूर्वा अपने मायके इंदौर चली गई थीं। करीब 15 दिन पहले ही वह दिल्ली लौटी थीं। स्व. एनडी तिवारी की पत्नी और रोहित शेखर की मां उज्जवला ने शुक्रवार को कहा था कि उनके बेटे और बहू अपूर्वा के बीच रिश्ते अच्छे नहीं थे।

उन्होंने कहा था कि यह मेरे लिए झटके से कम नहीं है। मैं विश्वास नहीं कर पा रही हूं कि मेरे बेटे की हत्या की गई है। उन्होंने कहा कि ऐसा क्या था जो रोहित दोपहर में चार बजे तक सोता रहा। शेखर और उसकी पत्नी के बीच शादी के पहले ही दिन से विवाद थे।

नारायण दत्त तिवारी पिछले साल अपने जन्म दिन 18 अक्टूबर को 93 साल की उम्र में चल बसे थे। तब उनका भी साकेत के इसी अस्पताल में उम्र संबंधी बीमारियों का इलाज चल रहा था। केंद्र में विभिन्न पदों पर रहे वरिष्ठ कांग्रेस नेता नारायण दत्त तिवारी उत्तराखंड और उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री भी रहे थे। रोहित 2017 के उत्तराखंड विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी में शामिल हो गए थे और हाल ही में उन्होंने कांग्रेस में शामिल होने का संकेत दिया था।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here