अमित शाह की संपत्ति वाली खबर को टाइम्स ग्रुप द्वारा डिलीट करने पर रवीश कुमार बोले- डर का भी स्वागत किया जाना चाहिए

0

भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी, कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल हुए बलवंत सिंह राजपूत और सोनिया गांधी के राजनीतिक सलाहकार और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमत पटेल ने शुक्रवार(28 जुलाई) को राज्यसभा चुनाव के लिए गुजरात से नामांकन दाखिल किया।रवीश कुमारइन नेताओं द्वारा हलफनामे में दी गई जानकारी में कई महत्वपूर्ण खुलासे हुए। शैक्षणिक योग्यता को लेकर विवादों में रहीं केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी अभी तक स्नातक की पढ़ाई पूरी नहीं कर पाई हैं, जबकि बीजेपी प्रमुख अमित शाह की संपत्ति पिछले पांच वर्षों में तीन गुना बढ़ी है। यह जानकारी दोनों ने गुजरात में राज्यसभा चुनावों के लिए अपने हलफनामे में दी है।

इस रिपोर्ट को शनिवार(29 जुलाई) को देश के प्रमुख अंग्रेजी अखबारों में से एक ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ और ‘इकोनॉमिक टाइम्स’ ने अपने वेबसाइट पर प्रकाशित किए थे। हिमांशु कौशिक और कपिल डवे की इस रिपोर्ट में यह दावा किया गया है कि केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण और कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी ने इस बार अपने हलफनामे में कबूल किया है कि उन्होंने अभी तक बी.कॉम की डिग्री पूरी नहीं की है।

यह रिपोर्ट कुछ घंटों बाद ही सोशल मीडिया वायरल पर हो गया। हालांकि, यह खबर वायरल होते ही बिना किसी ठोस कारण बताए ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ और ‘इकोनॉमिक टाइम्स’ ने अपने-अपने वेबसाइट में इस खबर को डिलीट कर दिए। इतना ही नहीं इस रिपोर्ट को टाइम्स ग्रुप के हिंदी अखबार ‘नवभारत टाइम्स’ ने भी अपने वेबसाइट से डिलीट कर दिया।

(नीचे स्क्रीनशॉट देखें)

हालांकि, इस रिपोर्ट को भले ही दोनों अखबारों द्वारा हटा दिया गया हो, लेकिन सोशल मीडिया यूजर्स ने अखबार में छपी इस रिपोर्ट का स्क्रीनशॉट ले लिए हैं, जिसे सोशल मीडिया खूब शेयर किया जा रहा है। ट्विटर पर हर कोई यह सवाल पूछ रहा है कि आखिर किस दबाव में आकर इस रिपोर्ट को हटाया गया है। इस सवाल का जवाब फिलहाल किसी के पास नहीं है।

Also Read:  ईसाई धर्म के शख्स से शादी करने पर हिंदू लड़की को 22 दिन तक बंधक बना कर रखा गया

अमित शाह की संपत्ति वाली यह खबर TOI के वेबसाइट से अचानक रहस्यमय तरीके से गायब होने को लेकर पत्रकार कर्निका कोहली ने ट्विटर पर जानकारी दी है।

रवीश बोले- डर का भी स्वागत किया जाना चाहिए

अमिता शाह के इस खबर को टाइम्स ग्रुप द्वारा हटाए जाने को लेकर वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार ने बिना किसी मीडिया ग्रुप का नाम लिए तंज कसते हुए कहा कि डर का भी स्वागत किया जाना चाहिए। अपने फेसबुक वॉल पर रवीश ने लिखा, ‘भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की संपत्ति में तीन सौ फ़ीसदी की वृद्धि की ख़बर छपी। ऐसी ख़बरें रूटीन के तौर पर लगभग हर उम्मीदवार की छपती हैं जैसे आपराधिक और पारिवारिक पृष्ठभूमि की ख़बरें छपती हैं। जनता पर इन तीनों बातों का कोई असर नहीं होता है।’

उन्होंने आगे लिखा, ‘कुछ मीडिया ने अमित शाह की ख़बर नहीं छापकर और कुछ ने छापने के बाद ख़बर हटा कर अच्छा किया। डर है तो डर का भी स्वागत किया जाना चाहिए। इससे समर्थकों को भी राहत पहुँचती है वरना प्रेस की आज़ादी और निर्भीकता का लोड उठना पड़ता।’

Also Read:  बैंको में स्याही के निशान से चुनाव आयोग चिंतित, वित्त मंत्रालय को लिखी चिट्ठी में कहा, नोटबंदी में ना करें इस्तेमाल

इसके साथ ही रवीश ने लिखा, ‘जो लोग चुप हैं उनका भी स्वागत किया जाना चाहिए। बेकार जोखिम उठाने से कोई लाभ नहीं। हम सब इसी तरह से डर का डर दिखाकर डराते रहें तो एक दिन डर का राष्ट्रवाद या राष्ट्रवाद का डरवाद सफ़लतापूर्वक क़ायम हो जाएगा।’

रवीश कुमार का पूरा पोस्ट पढ़ने के लिए उनके अकाउंट क्लिक करें:-

आखिर ऐसा क्या था इस रिपोर्ट में जिसे TOI को डिलीट करना पड़ा?

दरअसल, इस रिपोर्ट में बताया गया था कि गुजरात से राज्यसभा चुनाव लड़ने वाले इन चारों प्रमुख उम्मीदवारों की संपत्ति में भारी इजाफा देखने मिला है। जिसमें अमित शाह की संपत्ति में सबसे ज्यादे बढ़ोतरी हुई है।

अमित शाह की संपत्ति में 300 फीसदी का इजाफा

टाइम्स ऑफ इंडिया ने अपनी रिपोर्ट में दिया था कि, 2012 में जहां उनकी चल संपत्ति 1.90 करोड़ रुपए की थी जो अब बढ़कर 19 करोड़ हो गई है। अपने हलफना में शाह ने अपनी संपत्ति का जो ब्यौरा दिया है उसके अनुसार उन्हें 10.38 करोड़ रुपए की चल संपत्ति पैतिृक तौर पर भी मिली है। पिछले पांच साल में अमित शाह और उनकी पत्नी की चल और अचल संपत्ति में कुल 300 फीसदी का इजाफा हुआ है। 2012 में उनकी कुल संपत्ति 8.54 करोड़ रुपए थी, वह बढ़कर 2017 में 34.31 करोड़ रुपए हो गई है।

स्मृति इरानी ने नहीं किया है बी.कॉम

केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण और कपड़ा मंत्री स्मृति इरानी ने इस बार अपने हलफनामे में कबूल किया है कि उन्होंने अभी तक बी.कॉम की डिग्री पूरी नहीं की है, जबकि 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान उनकी तरफ से दायर हलफनामें में दावा किया गया था कि उन्होंने 1994 में दिल्ली विश्वविद्यालय के कॉरेस्पोंडेंस कोर्स के जरिए फर्स्ट ईयर की पढ़ाई पूरी की है।

Also Read:  J&K: ट्रेनिंग कैंप में CRPF जवान की आत्महत्या से पुलिस हैरान, जांच शुरु

संपत्ति में 80 फीसदी की बढ़ोतरी

अमित शाह के अलावा केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी और उनके पति जुबिन ईरानी की संपत्ति में भी 80 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है। अखबार के मुताबिक, ईरानी दंपती की 2014 में 4.91 करोड़ रुपए अचल संपत्ति बढ़कर अब 8.88 करोड़ रुपए हो गई है। हालांकि, स्मृति ईरानी के पति की संपत्ति में तो इजाफा हुआ है, लेकिन खुद उनकी निजी संपत्ति में कोई वृद्धि नहीं हुई है।

अहमद पटेल की संपत्ति में 123 प्रतिशत का इजाफा

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल की संपत्ति में भी भारी इजाफा देखने को मिला है। दायर किए हलफनामे के अनुसार 2011 से 2017 तक में उनकी संपत्ति में 123 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। रिपोर्ट के मुताबिक, फिलहाल पटेल की सालाना आमदनी 15,10,147 रुपए है। वहीं, उनकी पत्नी की सालाना आय 20,15,900 रुपए है। पटेल दंपती की कुल सालाना आय चुनावी हलफनामे के अनुसार 35,26,047 रुपये है।

बलवंत सिंह राजपूत के संपत्ति में भी इजाफा

शुक्रवार को नामांकन दाखिल करने के एक दिन पहले कांग्रेस का दामन छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए बलवंत सिंह राजपूत अगर राज्यसभा पहुंचते हैं तो वह गुजरात के सबसे अमीर राज्यसभा सदस्यों में से एक होंगे। दायर किए गए हलपनामे के अनुसार, उनके पास चल और अचल संपत्ति मिलाकर 2012 में 263 करोड़ रुपए की संपत्ति थी, जो 2017 में बढ़कर 316 करोड़ रुपए तक पहुंच गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here