राहुल गांधी बोले- भारत को कोरोना वायरस से आर्थिक तबाही से निपटने के लिए तैयारी की जरूरत

0

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और सासंद राहुल गांधी ने कोरोना वायरस संकट से निपटने के लिए भारत केंद्रित रणनीति की जरूरत पर जोर देते हुए गुरुवार (2 अप्रैल) को कहा कि देश को आर्थिक तबाही से निपटने के लिए तैयारी रखनी होगी। उन्होंने पार्टी की सर्वोच्च नीति निर्धारण इकाई कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से हुई बैठक में यह आरोप भी लगाया कि बिना तैयारी के लॉकडाउन (बंद) लागू किया गया।

राहुल गांधी
फाइल फोटो

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला के अनुसार राहुल गांधी ने कहा कि कोरोना मुख्य रूप से उम्रदराज लोगों, फेफड़े, मधुमेह, हृदय रोग पीड़ितों पर हमला कर रहा है। सभी राज्य सरकारों को इन श्रेणियों के लोगों के लिए विशेष परामर्श जारी करने के साथ उनकी देखभाल करनी चाहिए। उन्होंने दावा किया, ”किसी देश ने इतनी बड़ी संख्या में मौजूद प्रवासी श्रमिकों के लिए सुरक्षा, भोजन और राशन मुहैया कराने तथा उन्हें वापस घर भेजने का इंतजाम किए बिना लॉकडाउन का प्रयास नहीं किया।”

राहुल गांधी ने कार्यकर्ताओं का आह्वान किया कि कांग्रेस को एक सजग प्रहरी के तौर पर काम करना होगा। हमें यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि सबसे कमजोर और गरीब लोगों की समग्र रूप से सुरक्षा की जाए। उन्होंने कहा, ”देश को भारत केंद्रित रणनीति और विचार विमर्श के साथ कोरोना से लड़ना होगा। भारत को आर्थिक तबाही से निपटने के लिए तैयारी रखने की जरूरत है।”

बैठक में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा प्रवासी मजदूर लौटे हैं। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने खाने और दवा उपलब्ध करा प्रवासी कामगारों की मदद की। उन्होंने आरोप लगया, ”लोगों को अमानवीय हालात में पृथक रखा गया है। लोगों की मदद करने की बजाय पुलिस और प्रशासन उनकी पिटाई कर रहा है और दुर्व्यवहार कर रहा है।”

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एके एंटनी, गुलाम नबी आजाद एवं अहमद पटेल और पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी सीडब्ल्यूसी की बैठक को संबोधित किया। अमरिंदर सिंह ने कोरोना संकट से निपटने के लिए अपने राज्य में उठाये गए कदमों और तैयारियों की जानकारी दी।

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) से निपटने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में देश में 21 दिन के राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन की घोषणा की थी। पीएम मोदी ने देश को संबोधित करते हुए ऐलान किया था कि ‘आज रात 12 बजे से पूरे देश में संपूर्ण लॉकडाउन होगा, उन्होंने कहा कि ये लॉकडाउन कर्फ्यू की तरह ही होगा।’ इस लॉकडाउन की अवधि 14 अप्रैल को समाप्‍त होगी।

गौरतलब है कि, चीन से फैले कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया को मुश्किल में डाल दिया है। इस वायरस ने 180 से ज्यादा देशों को अपनी चपेट में ले लिया है। कोरोना वायरस से लगभग पूरी दुनिया में हाहाकार मचा हुआ है और भारत देश भी इस बीमारी से जूझ रहा है। भारत में करीब 1900 से ज्यादा लोग इससे संक्रमित हैं जबकि अब तक 50 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। (इंपुट: भाषा के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here