कर्नाटक: ‘फर्जी खबर’ चलाने के आरोप में पोस्टकार्ड न्यूज वेबसाइट के संपादक महेश हेगड़े गिरफ्तार, ट्विटर पर PM मोदी करते हैं फॉलो

0

कर्नाटक के बेंगलुरू में पुलिस ने गुरुवार (29 मार्च) को दो समुदायों के बीच नफरत फैलाने के मकसद से फर्जी खबर फैलाने के आरोप में एक ‘पोस्टकार्ड न्यूज’ नामक समाचार पोर्टल के संपादक महेश हेगड़े को गिरफ्तार किया है। महेश हेगड़े Postcard.news नाम की वेबसाइट चलाते हैं। बता दें कि पोस्टकार्ड वेबसाइट पर इससे पहले भी फर्जी खबर चलाने का आरोप लग चुका है।

न्यूज 18 के मुताबिक पोस्टकार्ड डॉट कॉम के महेश विक्रम हेगड़े ने वेबसाइट पर एक ‘फेक न्यूज’ चलाई थी जिसमें लिखा था कि बेंगलुरु में एक जैन मुनि पर कुछ मुस्लिम युवकों ने हमला कर दिया है। उसने घायल जैन मुनि की फोटो ट्वीट करते हुए लिखा था कि सिद्धारमैया सरकार में कोई सुरक्षित नहीं है। इस पोस्ट को सोशल मीडिया पर हजारों बार शेयर किया जा चुका है।

हालांकि बाद में पुलिस जांच में यह खबर फर्जी निकली। अधिकारियों ने बताया कि खबर में जिस जैन मुनि का जिक्र किया गया है असल में वह कनकपुरा में एक सड़क दुर्घटना में घायल हुए हैं। जिसके बाद वेबसाइट के संपादक महेश हेगड़े पर पुलिस ने कई धाराओं में मामला दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया गया है। फिलहाल कोर्ट ने हेगड़े को न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।

इस बीच हेगड़े की गिरफ्तारी को लेकर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) राज्य की सिद्धारमैया सरकार पर हमलावर हो गई है। सोशल मीडिया पर बीजेपी मंत्री और नेताओं ने #ReleaseMaheshHegde हैशटैग से अभियान शुरू कर दिया है। पोस्टकार्ड न्यूज संपादक पर इससे पहले भी फर्जी न्यूज प्रकाशित करने के आरोप लग चुके हैं।

सबसे खास बात यह है कि ट्विटर हेगड़े को खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फॉलो करते हैं। ट्विटर पर महेश हेगड़े का स्टेटस है, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के फॉलो करने से मैं धन्य हुआ।” केंद्रीय राज्यमंत्री अनंत कुमार हेगड़े और कर्नाटक बीजेपी नेता सी टी रवि ने ट्वीट कर कर्नाटक सरकार पर तानाशाह की तरह बर्ताव करने का आरोप लगाया है।

बेंगलुरू पुलिस के ज्वाइंट कमिश्नर सतीश कुमार ने बीबीसी को बताया, “जब मुनि का इलाज चल रहा था तो उनके अनुयायियों ने तस्वीर ले ली। अभियुक्त ने इस तस्वीर का इस्तेमाल करते हुए कहा कि मुनि पर एक मुसलमान ने हमला किया है। उसे postcard.news में भी लगाया। इसलिए उन्हें गिरफ़्तार किया गया है।” उन्होंने बताया कि ख़बर की “हेडलाइन थी कि जैन मुनि पर मुसलमानों ने हमला किया।”

वेबसाइट के एडिटर महेश विक्रम हेगड़े को मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया और सेक्शन 153 ए (समुदायों के बीच नफ़रत फैलाना), 120 बी(साज़िश), और 34 (एक ही मंशा से कई लोगों द्वारा किया गया जुर्म) के तहत न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। साथ ही आईटी एक्ट के सेक्शन 66 में भी मामला दर्ज हुआ है। अधिकारी इस घटना को फर्जी खबर के जरिए राज्य में चुनाव से पहले सांप्रदायिक माहौल बनाने की कोशिश के रूप में देख रहे हैं।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here