लेनिन, पेरियार, श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बाद अब मेरठ में तोड़ी गई भीमराव अंबेडकर की मूर्ति

0

त्रिपुरा, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल के बाद मूर्ती तोड़ने का सिलसिला अब उत्तर प्रदेश तक पहुंच गया है। अब खबर यूपी के मेरठ से आ रही है जहां संविधान निर्माता भीमराव अंबेडकर की एक प्रतिमा को क्षतिग्रस्त कर दी गई है। बता दें कि इससे पहले त्रिपुरा में महान कम्युनिस्ट नेता व्लादिमिर लेनिन की दो प्रतिमाएं, तमिलनाडु के वेल्लूर जिले में समाज सुधारक और द्रविड़ आंदोलन के नेता ईवी रामास्वामी यानी पेरियार की प्रतिमा और कोलकाता में जनसंघ के संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी की मूर्ति तोड़े जाने का मामला सामने आया है।

फोटो: अमर उजाला

ताजा मामला मेरठ का है जहां बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर की मूर्ति के साथ अराजक तत्वों ने तोड़फोड़ की है। वहीं इस घटना की खबर मिलते ही प्रशासन भी तुरंत हरकत में आया और मौके पर वरिष्ठ अधिकारी पहुंच गए हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, मेरठ के मवाना में मंगलवार रात डॉ. अंबेडकर की मूर्ति को अज्ञात लोगों ने क्षतिग्रस्त कर दिया। इसके बाद दलित समुदाय के लोगों ने सुबह में प्रदर्शन किया। फिलहाल वहां अंबेडकर की नई मूर्ति लगवा दी गई है।

लेनि, पेरियान और श्यामा प्रसाद मुखर्जी की प्रतिमा को किया गया क्षतिग्रस्त

लेनिन, पेरियार के बाद बुधवार (7 मार्च) को जनसंघ के संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी की मूर्ति तोड़े जाने का मामला सामने आया है। कोलकाता में वाममोर्चा के एक छात्र संगठन के सदस्यों ने बुधवार को कथित तौर पर श्यामा प्रसाद मुखर्जी की प्रतिमा क्षतिग्रस्त कर दी और प्रतिमा के चेहरे पर कालिख पोत दी। पुलिस ने केओराटोला शवदाहगृह इलाके में हुई इस घटना के मामले में समूह के छह सदस्यों को हिरासत में ले लिया है।

प्रतिमा को आंशिक रूप से नुकसान पहुंचाया गया और प्रतिमा के चेहरे पर कालिख पोती गई। यहां से एक पोस्टर भी मिला है जिस पर शब्द ‘कट्टरपंथी’ लिखा है। इससे पहले, तमिलनाडु के त्रिपुरा में वाम आंदोलन के बड़े नेता ब्लादिमीर लेनिन की दो प्रतिमाएं गिरा दी गईं थीं, जबकि द्रविड़ नेता ईवी रामास्वामी ‘पेरियार’ की एक प्रतिमा गिराई गई थी। यह घटना भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के वरिष्ठ नेता एच राजा के विवादित फेसबुक पोस्ट के कुछ घंटे बाद हुई।

वहीं त्रिपुरा में विधानसभा चुनाव में बीजेपी की इस ऐतिहासिक जीत के बाद वहां हिंसा ने उग्र रुप ले लिया है। कई दुकानों में तोड़फोड़ और घरों में आग लगाने की खबरें सामने आ रही हैं। वामपंथी स्मारकों को पर बुलडोजर चलाए जा रहे हैं। दक्षिण त्रिपुरा में महान कम्युनिस्ट नेता व्लादिमिर लेनिन की दो प्रतिमा गिरा दी गई है। माकपा ने इस घटना के लिए बीजेपी कार्यकर्ताओं को जिम्मेदार ठहराया है।

त्रिपुरा में बीजेपी की सरकार बनने से पहले ही समर्थकों ने बुलडोजर की मदद से गिराई लेनिन की मूर्ति

त्रिपुरा में बीजेपी की सरकार बनने से पहले ही समर्थकों ने बुलडोजर की मदद से गिराई लेनिन की मूर्ति, लगाए ‘भारत माता की जय’ के नारेhttp://www.jantakareporter.com/hindi/tripura-bjp-supporters-bulldoze-lenin/175485/

Posted by जनता का रिपोर्टर on Monday, 5 March 2018

मूर्ति तोड़े जाने की घटनाओं से PM मोदी नाराज

इस बीच मुर्ति तोड़े जाने की घटनाओं को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी नाराजगी जाहिर की है। पीएम मोदी ने  प्रतिमाओं को क्षतिग्रस्त करने की घटनाओं को कड़े शब्दों में खारिज करते हुए गृह मंत्री राजनाथ सिंह से भी बात की है।जिसके बाद गृह मंत्रालय ने कहा कि तोड़फोड़ की इन घटनाओं को गंभीरता से लिया गया है। मंत्रालय ने बुधवार (7 मार्च) को राज्य सरकारों को इन मामलों में कड़ी कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि प्रधानमंत्री ने देश के कुछ हिस्सों में हुई तोड़फोड़ की घटनाओं को कड़े शब्दों में खारिज किया है। सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को भेजे गए परामर्श में गृह मंत्रालय ने कहा कि देश के कुछ हिस्सों से प्रतिमाओं को गिराने की घटनाओं की खबरें आ रही हैं जिन्हें गंभीरता से लिया गया है।

इसमें कहा गया है कि गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों से कहा है कि ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए वे सभी आवश्यक कदम उठाएं। मंत्रालय ने कहा कि राज्य सरकारों से कहा गया है कि ऐसी घटनाओं में लिप्त सभी लोगों के साथ सख्ती से पेश आया जाए और कानून के उपयुक्त प्रावधानों के तहत उनके खिलाफ मामला दर्ज किया जाए। परामर्श में कहा गया कि, ‘‘प्रधानमंत्री ने इस बाबत गृह मंत्री से भी बात की।’’

 

 

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here