पहले लेनिन, फिर पेरियार और अब कोलकाता में श्यामा प्रसाद मुखर्जी की प्रतिमा को किया गया क्षतिग्रस्त, मूर्ति पर पोती गई कालिख

0

त्रिपुरा में विधानसभा चुनाव में बीजेपी की इस ऐतिहासिक जीत के बाद वहां हिंसा ने उग्र रुप ले लिया है। कई दुकानों में तोड़फोड़ और घरों में आग लगाने की खबरें सामने आ रही हैं। वामपंथी स्मारकों को पर बुलडोजर चलाए जा रहे हैं। दक्षिण त्रिपुरा में महान कम्युनिस्ट नेता व्लादिमिर लेनिन की दो प्रतिमा गिरा दी गई है। माकपा ने इस घटना के लिए बीजेपी कार्यकर्ताओं को जिम्मेदार ठहराया है।वहीं त्रिपुरा में लेनिन की दो मूर्तियां गिराने के बाद तमिलनाडु के वेल्लूर जिले में समाज सुधारक और द्रविड़ आंदोलन के नेता ईवी रामास्वामी यानी पेरियार की प्रतिमा को नुकसान पहुंचाने की घटना सामने आई है। यह घटना भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के वरिष्ठ नेता एच राजा के विवादित फेसबुक पोस्ट के कुछ घंटे बाद हुई है। पेरियार की प्रतिमा तिरूपत्तुर निगम कार्यालय के अंदर लगी थी, जिसे मंगलवार (6 मार्च) रात करीब 9 बजे निशाना बनाया गया।

पेरियार की मूर्ति के चश्मे और नाक को नुकसान पहुंचाया गया है। इस मामले में पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस के अनुसार जिन लो लोगों को गिरफ्तार किया गया है, उनमें एक बीजेपी का सदस्य और दूसरा सीपीआई का कार्यकर्ता है। गिरफ्तार लोगों में से एक का नाम मुरुगानंदम है। वो वेल्लूर में बीजेपी के शहर महासचिव हैं। वहीं दूसरे व्यक्ति का नाम फ्रांसिस है और वो कम्युनिस्ट पार्टी के कार्यकर्ता हैं।

अब कोलकाता में तोड़ी गई श्यामा प्रसाद मुखर्जी की मूर्ति

इस बीच त्रिपुरा और तमिलनाडु के बाद मूर्ती तोड़ने का सिलसिला अब पश्चिम बंगाल में भी शुरू हो गया है। अब खबर कोलकाता से आ रही है जहां जनसंघ के संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी की प्रतिमा को क्षतिग्रस्त कर दी गई है। बुधवार की सुबह कोलकाता में कुछ असामाजिक लोगों ने श्यामा प्रसाद मुखर्जी की मूर्ति पर कालिख पोत दी। कोलकाता के कालीघाट इलाके में एक पार्क में लगी श्‍यामा प्रसाद मुखर्जी की मूर्ति पर कुछ अज्ञात लोगों ने कालिक लगा दी थी।

इस बीच मुर्ति तोड़े जाने की घटनाओं को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी नाराजगी जाहिर की है। इस संबंध में पीएम मोदी ने गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने बात की है। ऐसी घटनाएं न हों इसके लिए ठोस कदम उठाने की भी हिदायत दी। पीएम के इस मामले पर संज्ञान लेने के बाद गृह मंत्रालय ने भी राज्यों के लिए एडवाइजरी जारी कर दी है। गृह मंत्रालय की ओर से सभी राज्यों को इस प्रकार के मामले से सख्ती से निपटने की बात कही गई है।

 

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here