‘जय श्रीराम’ नारे से पलटे नीतीश कुमार के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री, माफी मांगी

0

बिहार के गन्ना एवं अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री खुर्शीद उर्फ फिरोज अहमद ने एक मुफ्ती द्वारा उनके खिलाफ फतवा जाने किए जाने पर रविवार(30 जुलाई) को माफी मांग ली। इससे पहले शुक्रवार को प्रदेश की नवगठित राजग सरकार के विश्वास मत हासिल करने के बाद जय श्रीराम का नारा लगाया था। बिहार में सााधारी पार्टी जदयू के पश्चिम चंपारण जिला के सिकटा विधानसभा क्षेत्र से विधायक खुर्शीद ने नीतीश कुमार नीत प्रदेश की नवगठित राजग सरकार के गत शुक्रवार को बिहार विधानसभा में विास मत हासिल करने के बाद सदन परिसर में पत्रकारों से बातचीत के दौरान जय श्रीराम के नारे लगाये थे। खुर्शीद ने रविवार को कहा कि अगर उनके किसी भी व्यक्त्व से किसी को तकलीफ पहुंची है, तो उसके लिए वे माफी मांगते हैं।

Also Read:  बिहार में बाढ़ से हालात हुए बेकाबू, घरों में घुसा पानी, किशनगंज के लोगों ने सरकार पर लगाया भेदभाव का आरोप

उन्होंने उक्त कथन को तोडमरोड़कर पेश तथा उनके खिलाफ साजिश किए जाने का आरोप लगाया।खुर्शीद ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उनसे कहा कि अगर उनके व्यक्त्व से किसी भी भावना को ठेस पहुंची हो तो हम चाहेंगे कि आप इसपर गौर करें और उनसे माफी मांग ले। उल्लेखनीय है कि गत शुक्रवार को खुर्शीद ने कहा था कि अगर उनके जय श्रीराम बोलने से बिहार की जनता को कुछ मिल जाए तो वे बारबार और सुबह-शाम जय श्रीराम का जाप करेंगे।

Congress advt 2

पिछली महागठबंधन (जदयू-राजद-कांगेस) में गन्ना मंत्री रह चुके खुर्शीद के इस विवादास्पद कथन पर पटना स्थित मुस्लिम संस्था इमारत ए शरिया के मुफ्ती सुहैल अहमद कासिम ने कहा था कि जो मुसलमान कहे कि वह रसूल और दोनों के समक्ष सिर झुकाता हो तथा हिंदुस्तान के सभी मजहबी मकामात पर मत्था टेकता हूं, उसके बाद बाजापता जय श्रीराम का नारा लगाए, ऐसा नजरिया रखने वाला व्यक्ति इस्लाम से खारिज हो जाता है।

Also Read:  उत्तर प्रदेश का ये चित्रकार PM मोदी को अपने खून से तीन बार लिख चुका हैं पत्र, जानिए क्यों

उन्होंने स्पष्ट किया कि यह इमारत ए शरिया द्वारा जारी किया गया कोई फतवा नहीं बल्कि एक मुफ्ती होने के नाते उनकी राय है। जदयू के प्रदेश प्रवक्ता नीरज कुमार ने खुर्शीद का बचाव करते हुए कहा कि यह देश जहां महापुरुषों यथा राष्ट्रपिता महात्मा गांधी राम और रहीम का नाम साथ लेते थे। उन्होंने कहा कि हमारे मंत्री खुर्शीद ने जो नारा लगाया है कि वह किसी के धार्मिक भावना को ठेस पहुंचाने के लिए नहीं बल्कि देश की गंगाजमुनी तहजीब के तहत नारा लगाया था।

Also Read:  विराट कोहली से जारी विवाद के बीच अनिल कुंबले ने कोच पद से दिया इस्तीफा

वहीं राजद के वरिष्ठ नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी ने खुर्शीद पर कटाक्ष करते हुए कहा कि उन्हें अधिक उत्साहित हो जाने का आरोप लगाते हुए कहा कि ऐसा लगता है कहीं की उन्हें बादशाहत मिल गयी हो। राकांपा के राष्ट्रीय महासचिव कटिहार से सांसद तारिक अनवर ने कहा कि इससे यही लगता है कि साा पाने के लिए वे किसी भी हद तक जा सकते हैं। उन्हें जनता सबक सिखा देगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here