नीतीश से ‘नाराज’ शरद यादव ने काला धन और पनामा पेपर्स मामले को लेकर मोदी सरकार पर बोला हमला

0

बिहार में महागठबंधन खत्म हो गया है। नीतीश कुमार फिर राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के साथ हो गए हैं।महागठबंधन की सरकार से इस्तीफे के तुरंत बाद नीतीश कुमार को बीजेपी का साथ मिल गया और अब वह दोबारा 27 जुलाई को मुख्यमंत्री पद की शपथ ले लिए हैं। वहीं, सुशील मोदी एक बार फिर बिहार के उप-मुख्यमंत्री बने हैं। नीतीश कुमार छठी बार बिहार के मुख्यमंत्री बने हैं।

India Today

मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद नीतीश सरकार ने 28 जुलाई को बिहार विधानसभा में बेहद अहम विश्वास मत भी जीत लिया। विस अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी ने बताया कि जदयू, भाजपा और अन्य के सत्तारूढ़ गठबंधन के पक्ष में 131 मत पड़े ओैर विपक्ष में 108 मत पड़े। विश्वास मत की प्रक्रिया मत विभाजन के जरिए पूरी हुई।

JDU में बगावत के सुर तेज

24 घंटे के अंदर महागठबंधन छोड़कर बीजेपी के साथ सरकार बनाने वाले नीतीश कुमार के लिए आगे की राह आसान नहीं नजर आ रही है। नीतीश कुमार द्वारा महागठबंधन तोड़ने के बाद इस बीच उनकी पार्टी जनता दल (यूनाइटेड) में बगावत के सुर तेज हो गए हैं।

Also Read:  भारत को बुलेट ट्रेन ही नहीं, उच्च गति का विकास भी चाहिए: मोदी

शरद यादव ने नीतीश के खिलाफ खोला मोर्चा

जेडीयू सांसद अली अनवर की ओर से खुलकर नीतीश कुमार के फैसले का विरोध करने के बाद शरद यादव की भी नाराजगी सामने आ रही है। शायद यही वजह रही कि नीतीश कुमार के शपथ ग्रहण समारोह में हिस्‍सा लेने के लिए शरद यादव पटना नहीं गए। साथ ही उन्होंने दिल्ली में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात भी की थी।

शरद यादव ने तोड़ी चुप्पी

बिहार में जदयू के महागठबंधन से अलग होने और बीजेपी के साथ जाने के फैसले पर नीतीश कुमार से नाराज चल रहे पार्टी के वरिष्ठ नेता शरद यादव ने रविवार(30 जुलाई) को एक ट्वीट कर अपनी चुप्पी तोड़ी है। पूर्व एनडीए संयोजक ने कालेधन और पनामा गेट मामले को लेकर मोदी सरकार को निशाने पर लिया।

शरद यादव ने ट्वीट कर कहा, ‘विदेशों से कालाधन वापस नहीं आया, जोकि सत्ताधारी पार्टी का एक मुख्य नारा था और ना ही पनामा पेपर्स में नामित लोगों में से किसी को पकड़ा गया।’

इससे पहले भी शरद यादव ने शनिवार को भी मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कई ट्वीट किए थे। शनिवार को अन्य ट्वीट में कहा था, ‘सरकार कई सेवाओं के नाम पर जनता से काफी सेस अर्जित करती है, लेकिन फिर भी देश में किसी भी क्षेत्र में सुधार नहीं दिख रहा है।’

इससे पहले उन्होंने केंद्र की महत्वाकांक्षी फसल बीमा योजना पर भी सवाल उठाते हुए कहा था, ‘दूसरी योजनाओं की तरह फसल बीमा योजना भी सरकार की असफलता है, जिसके द्वारा केवल प्राइवेट बीमा कंपनियों को फायदा पहुंचाया गया।’

शरद यादव ने लालू को किया फोन

Also Read:  ढाई साल में ही मोदी सरकार ने अपना इंतज़ाम कर लिया, ये देश के लिए अघोषित आर्थिक इमर्जेन्सी है: मायावती

इस बीच इस मसले पर लालू प्रसाद यादव ने NDTV के साथ एक इंटरव्‍यू में दावा किया है कि पूर्व जेडीयू अध्यक्ष शरद यादव ने उन्हें फोन कर उनके साथ होने का भरोसा दिया है। लालू ने NDTV के साथ एक इंटरव्‍यू में से कहा, ”शरद यादव ने मुझे फोन किया था।’ लालू ने इसके साथ ही यह भी दावा किया कि, ”वह(शरद यादव) हमारे संपर्क में हैं और उन्‍होंने कहा है कि वह हमारे साथ हैं।” शुक्रवार को नीतीश कुमार के विश्‍वास मत हासिल करने के बाद लालू यादव ने यह बात इंटरव्‍यू में कही।

Also Read:  एक बार फिर दिल्ली की सड़कों पर उतरी 'भीम आर्मी', कांशीराम की बहन सहित हजारों युवाओं ने किया प्रदर्शन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here