शिंजो आबे ने नेहरू के साथ अपने दादाजी की दोस्ती को रखा याद, सोशल मीडिया यूजर्स ने PM मोदी को किया ट्रोल

0

गुरुवार को जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने भारत के साथ दोस्ती निभाने के अपने दृढ़ संकल्प जाहिर करते हुए दादाजी, उस समय के जापानी प्रधानमंत्री नोबुसेक किशी के साथ तब के भारतीय प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के साथ दोस्ती का जिक्र किया जो द्वितीय विश्व युद्ध के बाद जग जाहिर थी। आबे ने स्मरण किया उनके दादाजी नेहरू से मिलकर काफी गदगद हो गए। नेहरू ने उनके कार्यालय के सभी स्टाफ व अन्य लोगों से भी मिलवाया।

नेहरू

गांधी के शहर में आयोजित महात्मा मंदिर में 12 वें भारत-जापान वार्षिक सम्मेलन को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उपस्थिति में, संबोधित करते हुए, जपानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने ये बात कहीं।

जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने भारत की तारीफ करते हुए विविधता और विकास का जिक्र किया। महात्मा मंदिर में गुरुवार को आयोजित भारत-जापान व्यापार सम्मेलन के व्यापारिक वार्ता के दौरान अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि वे भी अपने दादा (जो भारत का दौरा करने वाले पहले प्रधानमंत्री थे) की तरह भारत के जीवनभर दोस्त बने रहेंगे।

आबे ने स्मरण किया कि उस वक्त जापान की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी। जापान एक हारा हुआ देश था। इसके बावजूद नेहरू ने दादाजी से कहा था कि भारत को सबसे प्यारा व आदर करने वाला देश जापान है। इस एक बार की घटना से उनके दादा इतने भावुक हो गए थे कि उन्होंने यह फैसला लिया कि वे पूरे जीवन भारत के दोस्त बने रहेंगे।

भारत के साथ अपने पुराने रिश्तों का जिक्र करते हुए आबे बेहद भावविभोर हो रहे थे और लोग इस दोस्ती की प्रशंसा कर रहे थे। उन्होंने इस दोस्ती का जिक्र करते हुए कहा कि दोनों देशों के बीच का रिश्ता सिर्फ आर्थिक संबंधों का ही नहीं, बल्कि इससे भी बढकर है। पुराने नेताओं ने एक-दूसरे की दोस्ती के बीज बोए, जिसमें आज फूल व फल भी आ रहे हैं।

जवाहर लाल नेहरू से पुराने रिश्तों के जिक्र के बाद सोशल मीडिया पर कांग्रेस समर्थकों सहित अन्य यूजर्स ने अलग-अलग तरह की प्रतिक्रियाएं दी जिसमें पीएम मोदी पर भी जमकर निशाना साधा गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here