VIDEO: पुलिस के सामने कांग्रेस की महिला विधायक बोली- थाने में आग लगा दो

0

बीजेपी शासित राज्य मध्यप्रदेश में फसलों के वाजिब दाम सहित अन्य मांगों को लेकर किसानों का आंदोलन हिंसक हो गया है। मध्यप्रदेश के मंदसौर जिले में किसान आंदोलन के दौरान छह किसानों की मौत पर सियासी संग्राम छिड़ गया है। इस मुद्दे को लेकर राजनीतिक पार्टियों के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर भी शुरू हो गया है। इसी बीच एक कांग्रेस की विधायक शकुंतला ने किसान आंदोलन की आग में जल रहे मध्य प्रदेश को एक बार फिर कथित तौर से सुलगाने की कोशिश की है।

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो में विधायक शकुंतला भीड़ को उकसाती हुई नजर आ रही हैं वो कुछ लोगों को थाने में आग लगा देने के लिए कहती दिख रही हैं। बताया जा रहा है कि उनके इस विरोध में कांग्रेस के कई और नेता भी शामिल हैं। हालांकि, मौके पर कलेक्टर समेत कई बड़े पुलिस अधिकारी मौजूद थे और भारी पुलिसबल भी तैनात किया गया है।

इस वीडियो में आप देख सकते है कि, वहां पर कांफी भीड़ में लोग खड़े है और वो कह रहे है कि प्रशासन की गुंडागर्दी नहीं चलेगी। इस दौरान कांग्रेस की महिला विधायक शंकुतला खटीक अपने साथ मौजूद भीड़ से थाने को आग लगा देने की बात कही रही है। इस दौरान एक पुलिस अधिकारी भी मौजूद हैं, जो भीड़ को समझाने का प्रयास कर रहे हैं। 11 सेकेंड के इस वीडियो में वह तीन बार “थाने में आग लगा दो” कहती हुई सुनाई दे रही है।

गौरतलब है कि, प्रशासन से अनुमति नहीं मिलने के बावजूद गुरुवार (8 जून) को कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी वहां पीड़ित किसानों के परिवारों से मिलने पहुंच गए थे। गुरुवार(8 जून) को मंदसौर जाने पर अड़े कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को मध्य प्रदेश पुलिस ने नीमच जिले के जीरण में हिरासत में ले लिया। करीब सवा चार घंटे बाद उन्हें रिहा कर दिया गया।

जिसके बाद राहुल गांधी ने मध्य प्रदेश और राजस्थान के सीमा पर मारे गए किसानों के पीड़ित परिवारों से मुलाकात की।पीड़ित परिवारों से मिलने के बाद राहुल ने मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि कर्ज माफ होता है तो हिंदुस्तान के 50 सबसे अमीर लोगों का होता है, किसानों का नहीं होता।

इस वीडियो में देखिए कैसे कांग्रेस की एक महिला विधायक भीड़ को उकसाती हुई नजर आ रही हैं

 

कई जिलों में फैली मंदसौर हिंसा की आग

मंदसौर हिंसा की आग अब कई अन्य जिलों में फैलती जा रही है। मंदसौर और दूसरे कई जिलों में किसानों का आंदोलन उग्र होने की वजह से हिंसक घटनाएं बढ़ रही हैं। गुरुवार को प्रदर्शनकारियों ने मंदसौर में एक टोल प्लाजा में तोड़फोड़ की और वहां रखे 8-10 रुपये लूट लिए। वहीं, शाजापुर जिले में आक्रोशित किसानों ने एक सरकारी ट्रक और चार बाइकों में आग लगा दी। रोकने पहुंचे एसडीएम को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

1 जून आंदोलन कर रहे हैं किसान

बता दें कि मध्यप्रदेश में किसानों ने गुरुवार(1 जून) को शिवराज सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। कर्ज माफी और अपनी फसल के वाजिब दाम की मांग को लेकर किसानों की हड़ताल अभी भी जारी है। किसानों ने पश्चिमी मध्य प्रदेश में अपनी तरह के पहले आंदोलन की शुरूआत करते हुए अनाज, दूध और फल-सब्जियों की आपूर्ति रोक दी है। सोशल मीडिया के जरिए शुरू हुआ किसानों का आंदोलन 10 दिन तक चलेगा।

किसानों की प्रमुख मांगे

  • स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें लागू की जाएं।
  • किसानों को फसलों का उचित दाम मिले और समर्थन मूल्य बढ़ाया जाए।
  • आलू, प्याज सहित सभी प्रकार की फसलों का समर्थन मूल्य घोषित किया जाए।
  • आलू, प्याज की कीमत 1500 रुपये प्रति क्वंटल हो।
  • बिजली की बढ़ी हुई दरें सरकार जल्द से जल्द वापस लें।
  • आंदोलन के दौरान किसानों पर दर्ज सभी मुकदमे वापस लिए जाएं।
  • मंडी शुल्क वापस लिया जाए।
  • फसलीय कृषि कर्ज की सीमा 10 लाख रुपए की जाए।
  • वसूली की समय-सीमा नवंबर और मई की जाए।
  • किसानों की कर्ज माफी हो।
  • मध्यप्रदेश में दूध उत्पादक किसानों को 52 रुपये प्रति लीटर दूध का भाव तय हो।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here