‘राष्ट्रपति पद से आडवाणी का नाम काटने के लिए PM मोदी ने की सोची-समझी राजनीति’

0

राष्ट्रीय जनता दल(राजद) प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने बुधवार(19 अप्रैल) को आरोप लगाया कि सुप्रीम कोर्ट ने बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में सीबीआई की याचिका मंजूर करने और बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी और उमा भारती के खिलाफ आपराधिक षड़यंत्र के आरोप को बहाल किया जाना आडवाणी का नाम राष्ट्रपति पद की उम्मीदवारी से काटे जाने के लिए प्रधानमंत्री की एक सोची समझी राजनीति हिस्सा है।

Also Read:  यह वक्त जवानों के साथ खड़े होने का है: अमिताभ बच्चन
Photo: HT

पटना में पत्रकारों को संबोधित करते हुए लालू ने आरोप लगाया कि जबसे राष्ट्रपति पद के लिए आडवाणी के नाम की चर्चा शुरू हुई है, सीबीआई ने स्वयं सुप्रीम कोर्ट में बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले का आडवाणी और अन्य के खिलाफ ट्रायल शुरू कराए जाने का आग्रह किया था।

उन्होंने आरोप लगाया कि राष्ट्रपति पद की उम्मीदवारी से आडवाणी का नाम काट दिए जाने के लिए यह नरेंद्र मोदी की एक सोची समझी राजनीति का हिस्सा है। अपने दलील को साबित करने के लिए लालू ने आरोप लगाया कि यह सर्वविदित है कि सीबीआई वही करती है जो केंद्र सरकार चाहती है, क्योंकि सीबीआई केंद्र सरकार के अधीन आती है।

Also Read:  BJP सांसद के विवादित बोल- गांधी और नेहरू को बताया ‘कचरा’, कांग्रेस ने की गिरफ्तारी की मांग

लालू ने आरोप लगाया कि नरेंद्र मोदी का विरोध करने वाले किसी भी व्यक्ति के खिलाफ खतरनाक राजनीतिक खेल खेलने में भाजपा अपने पराए के बीच भी कोई फर्क नहीं रखती। राजद प्रमुख सुप्रीम कोर्ट के बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में सीबीआई की याचिका मंजूर करने और बीजेपी के वरिष्ठ नेतागण लाल कृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी और उमा भारती के खिलाफ आपराधिक षड़यंत्र के आरोप को आज बहाल किए जाने पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर रहे थे।

Also Read:  रामजस कॉलेज विवाद: केजरीवाल ने दिल्ली पुलिस को बताया BJP का ‘एजेंट’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here