जेएनयू पैनल ने कन्हैया को यूनिवर्सिटी से निकालने की सिफारिश की

0

जेएनयू विवाद पर गठित पैनल ने 9 फरवरी की घटना पर अपनी रिपोर्ट में कन्हैया कुमार और चार अन्य छात्रों को यूनिवर्सिटी से निकालने की सिफारिश की है।

पैनल ने शुक्रवार को अपनी रिपोर्ट सौंपी थी।

जेएनयू स्टूडेंट यूनियन के अध्यक्ष, कन्हैया कुमार ने पैनल की रिपोर्ट को निराधार बताया है और उसने कहा है कि वह पैनल के निष्कर्ष को नहीं मानेंगे ।

Also Read:  'चित्रकूट मे कांग्रेस 15,000 वोटों से जीती, लगता है मामा जी की अमेरीका से अच्छी सड़के जनता को पसंद नही आ रही'

कन्हैया ने कहा, ” शुक्रवार को रिपोर्ट के जमा होने के बाद निलंबन का कोई मतलब नहीं है। हमने उन्हें कहा कि चाहे निलंबन का समय बीत चुका है लेकिन फिर भी छात्रों के निलंबित होने का मूल कारण बताना होगा। जवाब में उन्होंने कहा कि उनके पास रिपोर्ट है और वह उसे अगले हफ्ते पढ़ कर सुनाएंगे और बताएंगे की आगे की प्रक्रिया क्या होगी।”

Also Read:  अब उत्तर प्रदेश के सिनेमाघरों में राष्ट्रगान के बाद दिखाना होगा कुंभ मेले का 'लोगो', योगी सरकार ने जारी किया आदेश

कन्हैया को दिल्ली पुलिस ने 12 फरवरी को यूनिवर्सिटी के अंदर कथित तौर पर भारत विरोधी नारें लगाने और देशद्रोह के आरोप में हिरासत में लिया था।

लेकिन बाद में दिल्ली पुलिस कोर्ट के सामने ऐसे कोई भी सबूत पेश करने में असफल रही थी और बाद में कन्हैया को उच्च न्यायालय से 6 महीने की अंतरिम जमानत मिल गयी ।

Also Read:  Abandoned bag with 1 local pistol and 7 cartridges found in JNU Campus

कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को फटकार लगाते हुए कहा था कि क्या उसे पता भी हैं कि देशद्रोह क्या होता है ।

उधर यूनिवर्सिटी अधिकारीयों ने प्रोफेसर अमित शर्मा को नोटिस भेजा है जिन्हों ने कथित तौर पर यूनिवर्सिटी के दलित और मुस्लिम छात्रों को देशद्रोही बताया था ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here