आर्थिक तंगी से जुझ रहे हैं भारतीय गेंदबाज जसप्रित बुमराह के दादा, नहीं है दो वक्त की रोटी के पैसे

0

चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल मैच में पाकिस्तान के खिलाफ नो-बॉल फेंकने को लेकर काफी आलोचना झेल चुके भारतीय तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह एक बार फिर चर्चा में हैं। हालांकि, इस बार वह क्रिकेट को लेकर चर्चा में नहीं है, बल्कि अपने परिवारिक कारणों की वजह से सुर्खियों में है।

फोटो: न्यूज- 24

दरअसल, भारतीय किक्रेट के शान और करोड़ों रुपये कमाने वाले जसप्रीत बुमराह के परिवार की हकीकत सुनकर आप हैरान रह जाएंगे। वक्त की मार से परिवार किस मुफलिसी के दौर से गुजर रहा है। जी हां, हम बात कर रहे हैं जसप्रीत सिंह बुमराह के दादा संतोख सिंह बुमराह के बारे में जो इन दिनों बेहद तंगहाली में जी रहे हैं।

बुमराह के दादा जी की माली स्थिति का अंदाजा इस बात लगा सकते हैं कि 84 वर्षीय संतोख सिंह उत्‍तराखंड के उधम सिंह नगर जिले के किच्‍छा में आवास विकास कॉलोनी में एक किराए के मकान में रहते हैं। और वहीं पर वे ऑटो रिक्शा चलाकर जीवनयापन कर रहे हैं।

पत्रकारों से बातचीत में अपनी शानदार जिंदगी का जिक्र करते-करते संतोख सिंह की आंखों में आंसूओं के सैलाब आने लगते हैं। 84 वर्षीय ये बुजुर्ग अपने परिवार के साथ किसी जमाने में ऐशोआराम का जीवन जीते थे, लेकिन आज की स्थिति यह है कि किराए के टूटे-फूटे कमरे में रहकर वो ऑटो चलाकर अपनी और अपने छोटे दिव्यांग बेटे के साथ अपनी आजीविका चला रहे हैं।

आज करोड़ों में खेल रहे जसप्रीत के दादा संतोख सिंह की उम्र के इस आखिरी पड़ाव पर कहना है कि उनकी यही दुआ है कि उनका पोता क्रिकेट के खेल में खुब आगे बढ़े और अपने देश का नाम खूब रोशन करे। उनकी एक ही आखिरी तमन्ना है कि वो अपने पोते को गले से लगा सके। कभी गुजरात के अहमदाबाद मे बटवा इंडस्ट्रियल स्टेट में संतोख सिंह की तुती बोलती थी।

जी हां, वो बड़ी-बड़ी कारों कारों और प्लेन में सफर किया करते थे। उनका सारा कारोबार जसप्रीत बुमराह के पिता जसवीर सिंह बुमराह देखते थे, लेकिन साल 2001 में बेटे की मौत से संतोख सिंह टूट गए और फैक्ट्रियां भी आर्थिक संकट से घिर गईं। और आज दो दिन की रोटी के लिए किसी दूसरे का मूंह ताकना पड़ रहा है। फिर भी संतोख सिंह बुमराह को अपनी मुफलिसी की जिंदगी से कोई शिकायत नहीं है, वो इस माली स्थिति के लिए भगवान का देन मानते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here